होम /न्यूज /बिहार /रोहिणी आचार्य: किडनी डोनेट कर 'आदर्श बेटी' की मिसाल बनी लालू प्रसाद की बेटी, जिनकी विपक्षी भी खूब कर रहे तारीफ

रोहिणी आचार्य: किडनी डोनेट कर 'आदर्श बेटी' की मिसाल बनी लालू प्रसाद की बेटी, जिनकी विपक्षी भी खूब कर रहे तारीफ

अपने पिता और आरजेडी संस्थापक लालू प्रसाद यादव के साथ रोहिणी आचार्य की फाइल फोटो (Twitter @RohiniAcharya2)

अपने पिता और आरजेडी संस्थापक लालू प्रसाद यादव के साथ रोहिणी आचार्य की फाइल फोटो (Twitter @RohiniAcharya2)

राष्ट्रीय जनता दल के संस्थापक लालू प्रसाद यादव की दूसरी बेटी रोहिणी आचार्य कभी बीजेपी के खिलाफ मोर्चा खोलकर सुर्खियों म ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

1 जून 1979 को जन्मी रोहिणी आचार्य खुद भी एक डॉक्टर हैं.
रोहिणी का सरनेम उनकी डेलिवरी कराने वाली डॉ. कमला अचारी पर रखा गया है.
अपने पिता लालू प्रसाद यादव के लिए किडनी डोनेट करने को लेकर उनकी खूब तारीफ हो रही है.

सौरभ राठौड़
पटना. यह साल 1979 की बात है, जब बिहार की एक प्रसिद्ध स्त्री रोग और प्रसूति विशेषज्ञ डॉ. कमला अचारी ने आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव से एक खास गुजारिश की थी. तब पटना मेडिकल कॉलेज और अस्पताल (PMCH) में कार्यरत डॉ. अचारी ने लालू प्रसाद यादव के दूसरे बच्चे की सिजेरियन डेलिवरी करवाई थी. अपनी दूसरी बेटी के जन्म पर आरजेडी सुप्रीमो जब आभार जताने के लिए डॉ. अचारी से मिले तो उन्होंने कोई उपहार लेने से इनकार करते हुए एक विनम्र सुझाव दिया कि अगर उस नवजात बच्ची का सरनेम उनके ऊपर रख दें तो यही उनके लिए बड़ा उपहार होगा. बिहार की सियासत में तब तेजी से उभर रहे लालू प्रसाद ने उनकी गुजारिश सहर्ष स्वीकार कर ली और इस तरह उस नन्ही बच्ची का नाम रोहिणी आचार्य रखा गया, जिनकी इन दिनों अपने बीमार पिता के लिए किडनी दान करने को लेकर खूब तारीफ हो रही है.

1 जून 1979 को जन्मीं रोहिणी आचार्य खुद भी एक डॉक्टर हैं. वर्ष 2002 में एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर और लालू यादव के कॉलेज के दोस्त राय रणविजय सिंह के बेटे शमशेर सिंह से उनकी शादी हुई. ये दोनों अपने दो बेटों और एक बेटी के साथ वर्तमान में सिंगापुर में ही रहते हैं.

बीजेपी के खिलाफ मोर्चा खोलकर बटोरी सुर्खियां
अपने पिता के लिए किडनी दान करने को लेकर खूब तारीफें बटोर रहीं रोहिणी आचार्य इससे पहले बीजेपी के खिलाफ सोशल मीडिया पर मोर्चा खोलने को लेकर सुर्खियां बटोर चुकी हैं. इसकी एक बानगी 22 मार्च, 2020 को देखने को मिली जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोविड-19 से लड़ने वाले स्वास्थ्यकर्मियों के प्रति अपना समर्थन दिखाने के लिए लोगों से पांच मिनट के लिए अपनी बालकनियों पर थाली बजाने की अपील की, तो 43 वर्षीय रोहिणी ने इसका खुलकर विरोध किया.

पिता की सेहत के लिए रखा रमज़ान का रोज़ा
फिर वर्ष 2021 में जब उनके पिता लालू प्रसाद यादव गंभीर रूप से बीमार थे, तब रोहिणी ने सोशल मीडिया पर बताया था कि वह अपने पिता के जल्द सेहतमंद होने की दुआ के लिए रमजान में ‘रोजा’ रखेंगी. वहीं अब उन्होंने अपने बुजुर्ग पिता के लिए ऐसा बलिदान दिया, जिसकी यादव परिवार के विरोधी भी खूब तारीफ कर रहे हैं.

रोहिणी आचार्य ने 5 दिसंबर को सर्जरी से ठीक पहले ट्विटर पर लिखा था, ‘रॉक एंड रोल के लिए तैयार, मुझे शुभकामनाएं दें.’ उनके भाई तेजस्वी यादव ने अपने पिता और बहन की सेहत को लेकर अपडेट देते हुए बताया था कि वे दोनों सिंगापुर में किडनी ट्रांसप्लांट के बाद स्वस्थ हैं.

https://twitter.com/yadavtejashwi/status/1599675635634667520?ref_src=twsrc%5Etfw%7Ctwcamp%5Etweetembed%7Ctwterm%5E1599675635634667520%7Ctwgr%5E4ab68efb88dda25c01a224fb8de9c7864fe468e1%7Ctwcon%5Es1_&ref_url=https%3A%2F%2Fwww.news18.com%2Fnews%2Fpolitics%2Fshe-was-named-after-doctor-who-delivered-her-today-lalus-daughter-is-making-her-name-as-the-ideal-beti-6549055.html

आचार्य के इस कदम की यादव परिवार के कट्टर आलोचकों में शुमार बीजेपी के तेजतर्रार नेता गिरिराज सिंह ने भी तारीफ की. सिंह ने ट्वीट करते हुए रोहिणी को आने वाली पीढ़ियों के लिए मिसाल करार दिया.

इससे

इससे पहले अपने पिता के लिए किडनी दान करने की खबर की पुष्टि करते हुए रोहिणी आचार्य ने ट्विटर पर लिखा था कि ‘यह बस मांस का एक छोटा सा टुकड़ा है, जिसे वह अपने पिता को देना चाहती हैं.’

रोहिणी ने अपने पिता लालू प्रसाद यादव के साथ अपने बचपन की तस्वीरें शेयर करते हुए लिखा था, ‘यह मांस का एक छोटा सा टुकड़ा है, जो मैं अपने पिता को देना चाहती हूं. मैं उनके लिए कुछ भी कर सकता हूं. कृपया प्रार्थना करें कि चीजें ठीक हो जाएं और पापा आप सभी की आवाज बुलंद करने के लिए फिर से फिट हो जाएं.’

Tags: Bihar News, Lalu Prasad Yadav, RJD news

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें