vidhan sabha election 2017

आमंत्रण पर सियासत तेज, राजद को याद आ रहा प्रकाश पर्व का 'दर्द'

ABINASH KUMAR | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: October 12, 2017, 7:20 PM IST
आमंत्रण पर सियासत तेज, राजद को याद आ रहा प्रकाश पर्व का 'दर्द'
File Photo
ABINASH KUMAR | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: October 12, 2017, 7:20 PM IST
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पटना विवि के शताब्दी समारोह में भाग लेने के लिए पटना आ रहे हैं. प्रधानमंत्री के समारोह में आमंत्रण पर सियासत शुरु हो गई है. खासकर राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद के आमंत्रण पर जहां राजद खेमे को प्रकाश महोत्सव की याद आ रही है, जब पीएम के कार्यक्रम में लालू प्रसाद यादव को मंच पर जगह नहीं मिली थी. वहीं जदयू का कहना है कि यह पार्टी का सम्मेलन नहीं है कि मजमा लगा दिया जाये.

14 अक्टूबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पटना विश्वविद्यालय के शताब्ती समारोह में आ रहे हैं. तैयारी जोर शोर से चल रही है. बड़े अधिकारी खुद तैयारी की निगरानी कर रहे हैं, लेकिन दौरे पर सियासत भी तेज है. सियासत लालू प्रसाद के आमंत्रण पर हो रही है.

लालू यादव पटना विवि के छात्र होने के साथ-साथ छात्र संघ के अध्यक्ष भी रह चुके हैं. वहीं से उनकी राजनीति की शुरुआत हुई है. पटना विवि प्रशासन ने लालू प्रसाद को भी आमंत्रण दिया है, लेकिन बिहार के शिक्षा मंत्री इस पर कुछ भी बोलने से बच रहे हैं.

लालू प्रसाद के आमंत्रण पर पार्टा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवानंद तिवारी ने कहा कि प्रकाश महोत्सव में प्रधानमंत्री के कार्यक्रम में बुलाकर जमीन पर बैठाया गया था वह सही नहीं था. वहीं जदयू प्रवक्ता अजय आलोक का कहना है, 'मंच पर कोई मजमा तो लगाना नहीं है और ना ही ये पार्टी की रैली है. लालू प्रसाद के साथ कई को आमंत्रण दिया गया है. प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री एक साथ मंच पर रहेंगे. इसके अलावा किसको कहां बैठना है यह तो पीएमओ और पीयू प्रशासन ही तय करेगा.'

प्रधानमंत्री के दौरे में अब दो दिन ही शेष रह गये हैं. आमंत्रण पर सियासत लंबा भी खींच सकता है. ऐसे में यह देखना दिलचस्प होगा कि क्या प्रकाश महोत्सव में मिले अपमान के बाद लालू पीयू शताब्दी समारोह में शामिल होंगे कि नहीं.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर