लाइव टीवी

CAB मसले पर लालू यादव का इमोशनल ट्वीट- 'आप लोग मायूस मत होना अभी बीमार जिंदा है'

News18 Bihar
Updated: December 13, 2019, 1:16 PM IST
CAB मसले पर लालू यादव का इमोशनल ट्वीट- 'आप लोग मायूस मत होना अभी बीमार जिंदा है'
नागरिकता संशोधन विधेयक को लेकर लालू यादव ने ट्वीट किया है.

लालू यादव ने अपने ट्वीट में लिखा, 'अभी आंखों की शमाएं जल रही हैं उसूल जिंदा है, आप लोग मायूस मत होना अभी बीमार जिंदा है. हजारों जख्म खाकर भी मैं दुश्मन के मुकाबिल हूं खुदा का शुक्र अब तक दिल-ए-खुद्दार जिंदा है.'

  • Share this:
पटना. नागरिकता संशोधन विधेयक (Citizenship Amendment Bill) के संसद में पारित होने के बाद इस पर सियासत लगातार जारी है. जहां जनता दल यूनाइटेड (JDU) के स्टैंड को लेकर पार्टी के भीतर अल्पसंख्यक नेताओं में नाराजगी देखने को मिल रही है वहीं विपक्षी लालू खेमा इस अवसर का लाभ उठाने के लिए आतुर दिख रहा है. शुक्रवार को आरजेडी सुप्रीमो लालू यादव (Lalu Prasad Yadav) के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से एक ट्वीट किया गया जिसमें अल्पसंख्यकों को संबोधित करते हुए लालू यादव को मुस्लिमों का संरक्षक बताने की कोशिश की गई है. इस ट्वीट में एक शेर लिखा है. साथ ही एक पुराना वीडियो भी शेयर किया गया है.

लालू यादव ने ट्वीट में लिखा, 'अभी आंखों की शमाएं जल रही हैं उसूल जिंदा है, आप लोग मायूस मत होना अभी बीमार जिंदा है. हजारों जख्म खाकर भी मैं दुश्मन के मुकाबिल हूं खुदा का शुक्र अब तक दिल-ए-खुद्दार जिंदा है.'



नागरिकता संशोधन मसले पर प्रशांत किशोर भी हैं नाराज

वहीं जेडीयू के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर (Prashant Kishor) भी इस मसले पर लगातार ट्वीट कर अपना विरोध जता रहे हैं. शुक्रवार को उन्होंने अपने ताजा ट्वीट में लिखा, बहुमत से संसद में CAB पास हो गया. न्यायपालिका से परे, अब 16 गैर-बीजेपी मुख्यमंत्रियों पर भारत की आत्मा को बचाने की जिम्मेदारी है क्योंकि ये ऐसे राज्य हैं, जहां इसे लागू करना है. तीन मुख्यमंत्रियों (पंजाब, केरल और पश्चिम) ने CAB और NRC को नकार दिया है, और अब दूसरे गैर-बीजेपी राज्य के सीएम को अपना रुख स्पष्ट करने का समय आ गया है.



वहीं गुरुवार को पीके ने ट्वीट कर लिखा था कि हमें बताया गया है कि नागरिकता संशोधन विधेयक किसी की नागरिकता छीनने के लिए नहीं, बल्कि लोगों को नागरिकता देने के लिए है, लेकिन सच्चाई यह है कि NRC और यह CAB सरकार के हाथ में एक ऐसा घातक जोड़ हो सकता है जिसके जरिए धर्म के आधार पर लोगों से भेदभाव कर उनके खिलाफ मुकदमा चलाया जा सकता है.

JDU के अल्पसंख्यक नेताओं ने भी दर्ज करवाया विरोध

प्रशांत किशोर का हमलावर रूख जेडीयू के निर्णय पर सवाल खड़े कर रहा है. वहीं पार्टी के कई अल्पसंख्यक नेताओं ने भी इस पर अपना विरोध दर्ज करवाया है. इन सबके बीच खबर है कि पार्टी के फैसले का विरोध करने को लेकर जेडीयू का शीर्ष नेतृत्व बागी नेताओं के खिलाफ जल्द ही बड़ी कार्रवाई कर सकता है. माना जा रहा है कि जिन नेताओं पर गाज गिर सकती हैं उनमें सबसे ऊपर MLC गुलाम रसूल बलियावी का नाम है.

न्यूज़ 18 के पास यह पुख्ता जानकारी है कि अगर बलियावी या अन्य अल्पसंख्यक नेताओँ पर नीतीश कुमार कोई कार्रवाई करते हैं तो राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) बेशक उन्हें गले लगाने में एक मिनट की भी देरी नहीं करेगी. जाहिर है लालू यादव के इस ट्वीट को भी जेडीयू के विक्षुब्ध गुट को अपनी ओर करने की एक कवायद माना जा रहा है.

ये भी पढ़ें

नीतीश के 'मौलाना' पर है लालू कैंप की नजर! पढ़ें क्या है मामला

Google पर सबसे ज्यादा सर्च किए जाने वाले बिहारी बने 'सुपर 30' के आनंद कुमार

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 13, 2019, 12:34 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर