Home /News /bihar /

तेजप्रताप ने CM नीतीश के लिए मांगी 'सद्बुद्धि'! हवन-पूजन कर बिहार सरकार को दिया ये 'खास' ऑफर

तेजप्रताप ने CM नीतीश के लिए मांगी 'सद्बुद्धि'! हवन-पूजन कर बिहार सरकार को दिया ये 'खास' ऑफर

'सद्बुद्धि यज्ञ' करते हुए तेजप्रताप यादव

'सद्बुद्धि यज्ञ' करते हुए तेजप्रताप यादव

तेजप्रताप यादव ने कहा कि अगर बिहार की सरकार उन्हें यह अनुमति देती है कि कोरोना बन्दी के बीच वो कोटा और दूसरे राज्यों में जाकर बच्चों और मजदूरों को बिहार सही सलामत लेकर आएं, तो वो बेशक इसके लिए तैयार हैं.

पटना. मौका कोई भी हो राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad yadav) के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव (Tejpratap Yadav) अपने खास अंदाज के जरिये मीडिया के सुर्खियों में आ ही जाते हैं. कभी उटपटांग हरकतों की वजह से तो कभी अपनी वेश भूषा के जरिये. वो सबसे अलग दिखने की कोशिश भी करते हैं. जन्माष्टमी में कृष्ण के रूप में तो महाशिवरात्रि में भोले शंकर की वेश भूषा में तेजप्रताप पहले भी सुर्खियां बटोर चुके हैं. इस बार यज्ञ करके तेजप्रताप खुद को सुर्खियों में बने रहने की कोशिश में हैं. इस बार तेजप्रताप कोटा में फंसे बच्चों और अप्रवासी मजदूरों के लिए एक यज्ञ कर रहे हैं.

तेजप्रताप का पॉलिटिकल स्टंट
कहने के लिए तो यह यज्ञ बच्चों और मजदूरों के लिए हो रहा है, लेकिन असलियत में इस यज्ञ के जरिये तेजप्रताप दरअसल नीतीश सरकार पर हमला कर रहे हैं. तेजप्रताप का कहना है कि यह सद्बुद्धि यज्ञ है जिसका मकसद है कि नीतीश कुमार की सरकार को सद्बुद्धि आए. भगवान इस सरकार को सद्बुद्धि दे कि कोटा और दूसरे राज्यों में फंसे छात्रों और मजदूरों को बिहार वापस लाया जाए.

तेजप्रताप का नया फंडा
तेजप्रताप अपने बयानों के लिए भी जाने जाते हैं. रविवार को यज्ञ करते हुए तेजप्रताप यादव ने कहा कि अगर बिहार की सरकार उन्हें यह अनुमति देती है कि कोरोना बन्दी के बीच वो कोटा और दूसरे राज्यों में जाकर बच्चों और मजदूरों को बिहार सही सलामत लेकर आएं, तो वो बेशक इसके लिए तैयार हैं.

तेजप्रताप ने कहा कि उनके पास बस और गाड़ियां मौजूद हैं अगर सरकार अनुमति दे तो वो खुद कोटा जाकर बच्चों को बिहार लाएंगे. तेजप्रताप के बारे में यह भी कहा जाता है कि सुर्खियों में बने रहने का दूसरा नाम तेजप्रताप है.

ये भी पढ़ें

Tags: Bihar News, Lalu Prasad Yadav, Nitish kumar, PATNA NEWS, Tejpratap yadav

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर