अपना शहर चुनें

States

बिहार विधानसभा सत्र का आखिरी दिन: कृषि बिल वापस लेने के लिए विपक्षी दलों ने किया हंगामा

केंद्र के कृषि बिल के विरोध में हंगामा करते हुए बिहार विधानसभा में विरोधी दलों के विधायक.
केंद्र के कृषि बिल के विरोध में हंगामा करते हुए बिहार विधानसभा में विरोधी दलों के विधायक.

विपक्षी दलों के विधायकों द्वारा सदन के बाहर किए गए हंगामे पर कृषि मंत्री अमरेंद्र प्रताप सिंह (Agriculture Minister Amarendra Pratap Singh) ने कहा कि हमारी सरकार किसानों के हित को देखते हुए लगातार काम कर रही है और आगे भी करती रहेगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 27, 2020, 11:08 PM IST
  • Share this:
पटना. नवगठित बिहार विधानसभा (Bihar Assembly) के इस सत्र के आखिरी दिन कृषि बिल के खिलाफ बिहार विधानसभा के बाहर विपक्षी दलों के विधायकों ने जोरदार हंगामा किया. विधायकों का कहना था कि यह सरकार किसान विरोधी है. अगर हम लोगों की मांग को यह सरकार नहीं सुनेगी तो यह आंदोलन सदन से सड़क तक जायेगा. विपक्षी दलों के विधायकों के इस विरोध प्रदर्शन के कारण काफी देर तर बाहरी परिसर के साथ ही सदन के अंदर भी काफी शोर शराबा होता रहा.

दरअसल बिहार विधानसभा में राज्यपाल के अभिभाषण पर वाद-विवाद शुरू हुआ. पूर्व मंत्री श्रवण कुमार ने सत्ता पक्ष की ओर से धन्यवाद प्रस्ताव रखा जिसके बाद कृषि बिल वापस लेने की मांग को लेकर विपक्ष नारेबाजी करते हुए वेल में उतर पड़े. विधानसभा अध्यक्ष के आग्रह पर विपक्ष के सदस्य अपनी-अपनी सीटों पर लौटे.





वहीं, किसानों को लेकर विपक्षी दलों के विधायकों के द्वारा सदन के बाहर और अंदर किये गए हंगामा को कृषि मंत्री अमरेंद्र प्रताप सिंह ने बेतुका करार दिया. कृषि मंत्री का कहना है कि हमारी सरकार किसानों के हित को देखते हुए लगातार काम कर रही है और आगे भी करती रहेगी. वहीं, सीमांचल में वर्षो से हो रहे कटाव को लेकर आज AIMIM के विधायकों ने विधानसभा के बाहर हंगामा किया.
बता दें कि सीएम नीतीश कुमार के नेतृत्व में एनडीए की नई सरकार के गठन के साथ ही 23 नवंबर से शुरू हुए विधानसभा का पांच दिवसीय विशेष सत्र का आखिरी दिन है. सत्र के पहले और दूसरे दिन नवनिर्वाचित विधायकों को सदस्यता की शपथ दिलाई गई और विधान सभा अध्यक्ष पद के लिए एनडीए और महागठबंधन के प्रत्याशियों की ओर से नामांकन दाखिल की गई.

सत्र के तीसरे दिन बिहार विधानसभा के अध्यक्ष का चुनाव हुआ और चौथे दिन की शुरुआत राज्यपाल के अभिभाषण से हुई, जिसमें सरकार के विकास के रोडमैप को रखा गया. वहीं आज पांचवे दिन राज्यपाल के अभिभाषण पर होगा वाद विवाद होना है. ऐसे में विपक्ष जहां किसानों के मुद्दों को लेकर मुखर है वहीं राजद की ओर से 19 लाख लोगों को रोजगार के मुद्दे को लेकर आक्रामकता दिख रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज