अपना शहर चुनें

States

बिहार: RJD में गहरी हुई लीडरशिप क्राइसिस! लालू यादव से मिलेंगे तीन बड़े नेता

लालू प्रसाद यादव (फाइल फोटो)
लालू प्रसाद यादव (फाइल फोटो)

लालू यादव से जो नेता मिलने वाले हैं इनमें आरजेडी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रघुवंश प्रसाद सिंह, शिवानंद तिवारी, पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष रामचंद्र पूर्वे या वरिष्ठ नेता अब्दुल बारी सिद्दीकी में से किसी एक के मिलने की बात कही जा रही है.

  • Share this:
लोकसभा चुनाव में करारी शिकस्त के बाद आरजेडी सदमे से उबर नहीं पाई है. वहीं पार्टी के नेता तेजस्वी यादव की गैर मौजूदगी से पार्टी के भीतर खलबली है. हार के बाद जिस तरह से तेजस्वी यादव ने हार की जिम्मेदारी अपने ऊपर नहीं ली और जिस तरह से आरजेडी अब नेतृत्वहीनता की शिकार बनती जा रही है, इसलिए तीन बड़े नेता शनिवार को रांची लालू प्रसाद यादव से मिलने रांची जा रहे हैं.

लालू यादव से जो नेता मिलने वाले हैं इनमें आरजेडी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रघुवंश प्रसाद सिंह, शिवानंद तिवारी, पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष रामचंद्र पूर्वे या वरिष्ठ नेता अब्दुल बारी सिद्दीकी में से किसी एक के मिलने की बात कही जा रही है.

ये भी पढ़ें- बिहार: आपस में विलय क्यों चाहती हैं क्षेत्रीय पार्टियां ? पढ़ें जानकारों की राय



सूत्रों की मानें तो इन नेताओं के वहां जाने के पीछे बड़ा मकसद ये है कि आरजेडी में फिलहाल कोई नेतृत्व नहीं दिख रहा है. दरअसल लोकसभा चुनाव नतीजों के बाद पार्टी ने हार के कारणों के लिए 28 मई को समीक्षा बैठक तो बुलाई, लेकिन इसमें हार की समीक्षा नहीं की गई.
तेजस्वी यादव ने मीडिया से जब बात की तो उन्होंने मीडिया के सामने जनादेश को षडयंत्र करार दिया और इसके बाद वे सीन से ही गायब हो गए. 3 जून को आरजेडी की इफ्तार पार्टी में तेजस्वी यादव के नहीं आने को लेकर भी सवाल खड़े होते रहे. हालांति तेजप्रताप यादव ने अपनी मौजूदगी जरूर दर्ज करवाई.

ये भी पढ़ें-  बोले केसी त्यागी- ममता के लिए काम करने में कोई बुराई नहीं, BSNL की तरह काम करती है PK की कम्पनी

एक ओर सभी पार्टियां जहां 2021 में होने वाले विधानसभा चुनाव की तैयारियों में जुटने की तैयारी कर रही हैं, वहीं तेजस्वी यादव की गैरमौजूदगी ने आरजेडी के अनुभवी और वरिष्ठ नेताओं की चिंता बढ़ा दी है.

पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने ऑफ द रिकॉर्ड बातचीत में बताया कि जिस तरीके से तेजस्वी यादव सीन से ही गायब हो गए हैं, इसको लेकर लोगों में चिंता है. आखिर हमारी क्या रणनीति होगी, हम कैसे आगे बढ़ेंगे यह बताने वाला भी कोई नहीं है.

इस बीच राष्ट्रीय जनता दल (राजद) की छात्र इकाई की बैठक शनिवार को पटना में होगी. इसमें छात्र राजद का प्रदेश अध्यक्ष चुना जाना है. आरजेडी दफ्तर में होने जा रही ये बैठक लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव की अध्यक्षता में होगी.

ये भी पढ़ें- बिहार: क्या RJD में फिर से 'एक्टिव' हो रहे हैं तेजप्रताप यादव?

बता दें कि जनवरी महीने में तेजप्रताप यादव ने छात्र राजद के संरक्षक पद से इस्तीफा दे दिया था. जाहिर है इसको लेकर अब फिर से कयासों का बाजार गर्म हो गया है. यही नहीं जिस तरह से 3 जून की इफ्तार में तेजस्वी के नहीं आने पर राबड़ी देवी ने तेजस्वी को बीमार बताया, यह भी लोगों के गले नहीं उतरा.

जाहिर है अब कयासों के साथ सवाल भी उठने लगे हैं. क्या तेजप्रताप यादव फिर से आरजेडी में सक्रिय भूमिका निभाने जा रहे हैं? क्या लालू यादव से उन्हें हरी झंडी मिल गई है? क्या तेजस्वी यादव अब बैकफुट पर चले गए हैं? ऐसे में सवाल ये भी कि क्या लालू यादव की गैरमौजूदगी में आरजेडी में लीडरशिप क्राइसिस गहरी हो गई है?

ये भी पढ़ें-
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज