लाइव टीवी

उपेंद्र कुशवाहा बोले- शरद यादव को बिहार में बनाया जाए महागठबंधन का चेहरा

भाषा
Updated: February 14, 2020, 12:39 AM IST
उपेंद्र कुशवाहा बोले- शरद यादव को बिहार में बनाया जाए महागठबंधन का चेहरा
महागठबंधन में नेतृत्व को लेकर उपेंद्र कुशवाहा ने शरद यादव के नाम का प्रस्ताव दिया है.

आरएलएसपी के प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा (Upendra Kushwaha) ने महागठबंधन (Grand Alliance) में नेतृत्व को लेकर बड़ा बयान दिया है.

  • भाषा
  • Last Updated: February 14, 2020, 12:39 AM IST
  • Share this:
पटना. राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (RLSP) के प्रमुख और पूर्व केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा (Upendra Kushwaha) ने गुरुवार को प्रस्ताव दिया कि दिग्गज समाजवादी नेता शरद यादव (Sharad Yadav) को इस साल के अंत में होने वाले बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Election) से पहले महागठबंधन (Grand Alliance) के चेहरे के रूप में पेश किया जाए.

तेजस्वी को CM पद का उम्मीदवार घोषित कर चुकी है RJD
चारा घोटाला मामले में रांची की जेल में सजा काट रहे लालू प्रसाद की पार्टी आरजेडी उनके छोटे बेटे तेजस्वी यादव को इस साल के अंत में होने वाले बिहार विधानसभा चुनाव के लिए मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित कर चुकी है.

लालू जी बाहर रहते तो ठीक है...: कुशवाहा

वहीं, महागठबंधन में शामिल कुशवाहा ने गुरूवार को कहा, 'लालू जी बाहर रहते तो ठीक है पर वह आज बाहर नहीं हैं तो स्वभाविक रूप से एक ऐसा चेहरा चाहिए और उसमें शरद यादव जी हैं और जहां तक मुख्यमंत्री की बात है तो मुख्यमंत्री कौन होगा वह तो फिर मिलकर तय होगा.’’

शरद यादव का 42 साल का राजनीतिक अनुभव: मुकेश सहनी
महागठबंधन में शामिल एक अन्य दल वीआईपी के प्रमुख मुकेश सहनी ने शरद के बारे में कहा, 'हमारे अभिभावक हैं. इनका 42 साल का राजनीतिक अनुभव है. जो भी राय, विचार देंगे निश्चित तौर पर हमलोग मानेंगे.’’जेडीयू के प्रमुख रह चुके हैं शरद यादव
बिहार के मधेपुरा से सांसद रहे शरद यादव पूर्व में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की जेडीयू के प्रमुख थे. उन्होंने कहा, 'मुझे जो भी जिम्मेवारी सौंपी गई हमेशा सेवा देने में खुशी हुई. सबके साथ आम सहमति बनाने के बाद चेहरा भी होगा. चेहरा क्यों नहीं होगा लेकिन बैठकर सभी लोग रास्ता और राह निकालेंगे.' जेडीयू छोडने के बाद शरद यादव ने लोकतांत्रिक जनता दल बनाया और पिछले लोकसभा चुनाव में महागठबंधन के सभी घटक दलों के सहयोग से मधेपुरा से चुनाव लड़ा था.

महागठबंधन में शामिल कांग्रेस पार्टी के प्रवक्ता राजेश राठौर ने कहा कि गठबंधन के सभी सहयोगियों के साथ विचार-विमर्श के बाद नेतृत्व पर कोई निर्णय लिया जाना चाहिए. उन्होंने कहा “नेतृत्व के सवाल को महागठबंधन के सभी घटक एक उचित समय पर संयुक्त रूप से तय करेंगे. लोग तब तक व्यक्तिगत राय व्यक्त करने के लिए स्वतंत्र हैं.’’

बता दें कि महागठबंधन के एक अन्य घटक दल हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा के प्रमुख पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी समन्वय समिति नहीं बनाए जाने पर महागठबंधन से बाहर निकलने की धमकी दे चुके हैं.

तेजस्वी का कोई विकल्प नहीं: मनोज झा
वहीं आरजेडी के राष्ट्रीय प्रवक्ता और राज्यसभा सदस्य मनोज झा ने कहा कि "तेजस्वी का कोई विकल्प नहीं है." आरजेडी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रघुवंश प्रसाद सिंह ने कहा कि बिहार विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता (तेजस्वी) मुख्यमंत्री के उम्मीदवार के तौर पर पसंद और योग्य हैं. शरद यादव एक राष्ट्रीय नेता हैं. उन्हें राज्य में विशिष्ट भूमिका तक सीमित नहीं किया जा सकता है.

उल्लेखनीय है कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह बिहार विधानसभा चुनाव में राजग के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में लडने की घोषणा कर चुके हैं लेकिन इस चुनाव में प्रदेश के विपक्षी महागठबंधन का नेतृत्व कौन करेगा यह अभी महागठबंधन के घटक दलों के बीच अब तक तय नहीं हो पाया है.

ये भी पढ़ें-

RJD छोड़ CM नीतीश के साथ जाएंगे लालू के समधी, बोले- पार्टी से मुझे काफी पीड़ा

दिल्‍ली में हार के बाद महागठबंधन में घटा कांग्रेस का कद, RJD ने रखी ये शर्त

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 14, 2020, 12:14 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर