Home /News /bihar /

बिहार में कैसे लागू हो सकेगी पूर्ण शराबबंदी, समीक्षा बैठक से पहले CM नीतीश को 2 पूर्व DGP ने दिये अहम सुझाव

बिहार में कैसे लागू हो सकेगी पूर्ण शराबबंदी, समीक्षा बैठक से पहले CM नीतीश को 2 पूर्व DGP ने दिये अहम सुझाव

बिहार में शराबबंदी लागू रहने को लेकर लगातार उठते सवालों को देखते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मंगलवार को महत्वपूर्ण समीक्षा बैठक बुलाई है (न्यूज़ 18 ग्राफिक्स)

बिहार में शराबबंदी लागू रहने को लेकर लगातार उठते सवालों को देखते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मंगलवार को महत्वपूर्ण समीक्षा बैठक बुलाई है (न्यूज़ 18 ग्राफिक्स)

Bihar News: माना जा रहा है कि मंगलवार को होने वाली समीक्षा बैठक में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार उन तमाम पहलुओं पर विस्तार से न सिर्फ चर्चा करेंगे बल्कि हर उस बिंदु को जानने की कोशिश करेंगे जिसकी वजह से बिहार में अवैध तरीके से शराब कैसे पहुंच रही है, और कौन लोग हैं जो इस धंधे में शामिल हैं. साथ ही इस काम में कौन उन्हें मदद कर रहा है

अधिक पढ़ें ...

पटना. बिहार में शराबबंदी (Liquor Ban In Bihar) को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) मंगलवार को समीक्षा बैठक करने वाले हैं. इसे बेहद महत्वपूर्ण माना जा रहा है. गोपालगंज, बेतिया और मोतिहारी में जहरीली शराब (Hooch Tragedy) पीने से कई लोगों की मौत के बाद नीतीश कुमार काफी नाराज हैं. माना जा रहा है कि समीक्षा बैठक में मुख्यमंत्री नीतीश उन तमाम पहलुओं पर विस्तार से न सिर्फ चर्चा करेंगे बल्कि हर उस बिंदु को जानने की कोशिश करेंगे जिसकी वजह से बिहार (Bihar) में अवैध तरीके से शराब कैसे पहुंच रही है, और कौन लोग हैं जो इस धंधे में शामिल हैं. साथ ही इस काम में कौन उन्हें मदद कर रहा है.

समीक्षा बैठक के पहले नीतीश सरकार को राज्य के दो पूर्व पुलिस महानिदेशकों (डीजीपी) ने अहम सुझाव दिये हैं जो शराबबंदी को और भी कारगर बनाने में महत्वपूर्ण साबित हो सकता है. पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को सुझाव दिया है कि सबकी जवाबदेही तय होनी चाहिए. चाहे वो चौकीदार हो या थाने. थानेदार से लेकर सिपाही तक अगर थाना स्तर पर कड़ाई हो गई तो फिर शराब के धंधे पर काफी हद तक काबू पाया जा सकता है. उन्होंने कहा कि व्यवस्था में कहीं न कहीं कमी है जिसकी वजह से यह धंधा चल रहा है. उन्होंने यह भी कहा कि स्थानीय जनप्रतिनिधियों पर जवाबदेही तो तय नहीं की जा सकती है. लेकिन नैतिकता के नाते उनकी जवाबदेही भी तय करनी चाहिए.

बिहार के दो पूर्व पुलिस महानिदेशक गुप्तेश्वर पांडेय और सुरेश कुमार भारद्वाज ने मंगलवार को शराबबंदी को लेकर बुलाई गई समीक्षा बैठक से पहले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को अपनी तरफ से महत्वपूर्ण सुझाव सुझाए हैं (फाइल फोटो)

‘बिहार में शराबबंदी पूरी तरह से खत्म होगा, ऐसा संभव नहीं लगता’

वहीं, पूर्व डीजीपी सुरेश कुमार भारद्वाज कहते हैं कि बिहार में शराबबंदी पूरी तरह से खत्म होगा, यह संभव नहीं लगता है. क्योंकि बिहार की सीमा से दो देशों और दो राज्यों की सीमा लगती है. जब तक पूरे देश में शराबबंदी लागू नहीं होता, तब तक बिहार में शराबबंदी को पूरे तौर पर सफल नहीं बनाया जा सकता है. उन्होंने कहा कि पुलिस और उत्पाद विभाग पर निचले स्तर तक कड़ाई करनी होगी. लेकिन इससे भी ज्यादा जरूरी है कि लोगों को ज्यादा से ज्यादा जागरूक किया जाए. खास कर हर स्कूल में बच्चों को भी जागरूक किया जाए ताकि वो अपने घर के लोगों को ठीक तरीके से यह समझा सकें. महिलाओं को भी रणनीति बना कर उन सभी को जागरूक करना होगा. साथ ही गांव से लेकर पंचायत स्तर तक यह मुहिम छेड़नी होगी.

इसके अलावा उन्होंने कहा कि उत्पाद विभाग और पुलिस को अपना खुफिया तंत्र को और मजबूत बनाना होगा. इसके विंग का विस्तार भी करना होगा. साथ ही बॉर्डर पर कड़ाई करने की जरूरत है.

अप्रैल 2016 में बिहार में लागू हुआ था शराबबंदी कानून

बता दें कि वर्ष 2015 में सातवीं बार बिहार का मुख्यमंत्री बनने के बाद नीतीश कुमार ने अप्रैल 2016 में पूरे प्रदेश में शराबबंदी लागू कर दी थी. इसके तहत बिहार में कहीं भी शराब बेचना और उसे खरीदना कानूनन अपराध हो गया था.

Tags: Bihar News in hindi, CM Nitish Kumar, Liquor Ban, PATNA NEWS

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर