Assembly Banner 2021

भाजपा MLC के शराबबंदी पर बयान ने बढ़ाई नीतीश सरकार की टेंशन, JDU ने कहा- हम कोई समझौता नहीं कर सकते

शराबबंदी कानून को लेकर विपक्ष सीएम नीतीश पर हमलावर है. (सांकेतिक तस्वीर)

शराबबंदी कानून को लेकर विपक्ष सीएम नीतीश पर हमलावर है. (सांकेतिक तस्वीर)

Liquor Ban in Bihar: सीएम नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) पर आरजेडी लगातार शराबबंदी को लेकर हमला बोल रही है. इस बीच भाजपा एमएलसी संजय पासवान (BJP MLC Sanjay Paswan) ने शराबबंदी पर पुनर्विचार करने का बयान देकर सरकार के सामने परेशानी खड़ी कर दी है.

  • Share this:
पटना. बिहार में शराबबंदी (Liquor Ban) को लेकर इस समय जमकर सियासत हो रही है. इस बीच भाजपा एमएलसी संजय पासवान (BJP MLC Sanjay Paswan) ने बड़ा बयान दिया है, जिसने एनडीए के लिए परेशानी खड़ी कर दी है. उन्‍होंने कहा कि नीतीश सरकार (Nitish Government) को शराबबंदी पर पुनर्विचार करना चाहिए, क्‍योंकि जिस तरह से पुलिस के जवान पर हमला हुआ उससे मामला और गंभीर हो गया है. संजय पासवान यही नहीं रुके बल्कि उन्होंने शराब माफिया द्वारा पुलिस पर किए हमले के बहाने गृह सचिव पर भी इशारों-इशारों में बड़ा हमला किया. उन्‍होंने कहा कि गृह सचिव हमारे मित्र हैं, लेकिन उनसे गृह विभाग नहीं संभल रहा है, जिस तरह से घटनाएं घट रही हैं उन्हें खुद से पद से हट जाना चाहिए.

बहरहाल, शराबबंदी को लेकर मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार लगातार विपक्ष के निशाने पर हैं. जबकि अब उनके सहयोगी भी शराबबंदी पर सवाल उठाने लगे हैं, जो कि सरकार के लिए परेशानी खड़ी कर रहे हैं. यही नहीं, भाजपा एमएलसी संजय पासवान के बयान के बाद जेडीयू भी बैकफुट पर नजर आ रही है.

जेडीयू ने कही यह बात
भाजपा एमएलसी के बयान पर जेडीयू के एमएलसी गुलाम गौस ने कहा कि कौन क्या कहता है यह हम नहीं जानते, लेकिन नीतीश कुमार शराबबंदी को लेकर पूरी तरह से गम्भीर हैं और इसमें किसी तरह से समझौता नहीं कर सकते है. उनका अपना निजी विचार हो सकता है, लेकिन बिहार में मजबूती से शराबबंदी पर काम हो रहा है.
यही नहीं, शराबबंदी के सवाल पर नीतीश के मंत्री अशोक चौधरी झल्ला गए. उन्‍होंने कहा कि कौन क्या कहता है, इस पर मुझे कुछ नहीं कहना, लेकिन शराबबंदी पर जो लोग सवाल उठाते हैं उन्हें देखना चाहिए इसको लेकर सरकार कितनी गंभीर है. खैर शराबबंदी को लेकर विरोधी लगातार नीतीश कुमार पर हमला बोल रहे हैं, लेकिन जब सहयोगी भी विरोधियों के सुर में सुर मिलाने लगे तो सरकार के लिए परेशानी खड़ी हो सकती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज