Home /News /bihar /

बिहार में शराबबंदी के सवाल पर BJP को मिला कांग्रेस का साथ, कहा- समीक्षा किए जाने की जरूरत

बिहार में शराबबंदी के सवाल पर BJP को मिला कांग्रेस का साथ, कहा- समीक्षा किए जाने की जरूरत

बिहार में लागू पूर्ण शराबबंदी कानून को लेकर विपक्षी पार्टियों के अलावा अब जेडीयू की सहयोगी पार्टी बीजेपी ने भी सवाल उठाये हैं (प्रतीकात्मक तस्वीर)

बिहार में लागू पूर्ण शराबबंदी कानून को लेकर विपक्षी पार्टियों के अलावा अब जेडीयू की सहयोगी पार्टी बीजेपी ने भी सवाल उठाये हैं (प्रतीकात्मक तस्वीर)

Bihar News: विधानसभा में कांग्रेस विधायक दल के नेता अजीत शर्मा ने रविवार को पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि मैंने बार-बार कहा है कि बिहार में लागू शराबबंदी की समीक्षा होनी चाहिए, और अब जेडीयू की सहयोगी बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल भी इसकी समीक्षा की बात कह रहे हैं जिसका मैं भी पक्षधर हूं

अधिक पढ़ें ...

भागलपुर. बिहार के नालंदा जिले में जहरीली शराब कांड (Nalanda Hooch Tragedy) पर राजनीति तेज हो गई है. इसके बाद एक बार फिर राज्य में लागू शराबबंदी कानून (Liquor Ban In Bihar) पर सवाल उठाए जाने लगे हैं. इस बार विपक्षी कांग्रेस ने नीतीश सरकार (Nitish Government) को घेरा है. बिहार विधानमंडल में कांग्रेस विधायक दल के नेता अजीत शर्मा (Bihar Congress Leader Ajit Sharma) ने सरकार के सहयोगी दल बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल (Sanjay Jaiswal) के शराबबंदी की समीक्षा करने के बयान का समर्थन करते हुए इस पर अविलंब कदम उठाने की मांग की है.

रविवार को पत्रकारों से बातचीत करते हुए अजीत शर्मा ने कहा कि मैंने बार-बार कहा है कि बिहार में लागू शराबबंदी की समीक्षा होनी चाहिए, और अब उनके सहयोगी बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल भी इसकी समीक्षा की बात कह रहे हैं जिसका मैं भी पक्षधर हूं.

कांग्रेस विधायक दल के नेता अजीत शर्मा ने कहा- हम उपचुनाव में ही महागठबंधन से अलग हो गए थे.

विधानसभा में कांग्रेस विधायक दल के नेता अजीत शर्मा ने कहा कि बिहार में लागू शराबबंदी कानून की समीक्षा होनी चाहिए (फाइल फोटो)

बिहार BJP अध्यक्ष ने शराबबंदी को लेकर खड़े किये थे सवाल  

दरअसल संजय जायसवाल ने नालंदा की घटना पर एक दिन पहले फेसबुक पोस्ट लिखकर शराबबंदी कानून को लेकर सवाल खड़े किए थे. बिहार बीजेपी के अध्यक्ष संजय जयसवाल ने अपने फेसबुक पोस्ट में लिखा, ‘नालंदा जिले में जहरीली शराब से 11 मौतें हो चुकी हैं. परसों मुझसे जहरीली शराब पर जेडीयू प्रवक्ता ने प्रश्न पूछा था. आज मेरा प्रश्न उस दल से है कि क्या इन 11 लोगों के पूरे परिवार को जेल भेजा जाएगा क्योंकि अगर कोई जाकर उनके यहां सांत्वना देता तो आपके लिए अपराध है. अगर शराबबंदी लागू करना है तो सबसे पहले नालंदा प्रशासन द्वारा गलत बयान देने वाले उस बड़े अफसर की गिरफ्तारी होनी चाहिए. क्योंकि प्रशासन का काम जिला चलाना होता है ना कि जहरीली शराब से मृत व्यक्तियों को अजीबोगरीब बीमारी से मरने का कारण बताना. यह साफ बताता है कि प्रशासन स्वयं शराब माफिया से मिला हुआ है और उनकी करतूतों को छुपाने का काम कर रहा है.’

अप्रैल 2016 से बिहार में लागू है शराबबंदी कानून

बता दें कि नवंबर 2015 में आरजेडी के साथ गठबंधन में विधानसभा चुनाव में जीत हासिल करने के बाद नीतीश कुमार ने सातवीं बार मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी. अप्रैल 2016 में नीतीश कुमार ने बिहार में शराबबंदी कानून लागू किया था. इस कानून के तहत प्रदेश में शराब बेचने और खरीदने पर पूर्ण प्रतिबंध है. यदि कोई इस कानून का उल्लंघन करते हुए पाया जाता है तो उसके विरुद्ध कानूनी कार्रवाई की जाती है.

Tags: Bihar BJP, Bihar Congress, Bihar News in hindi, Bihar politics, Liquor Ban

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर