पटना में शराब माफियाओं का पुलिस टीम पर हमला, मारपीट के दौरान दो जवानों की वर्दी फाड़ी

पटना में पुलिस टीम पर हमले के बाद मौजूद अधिकारी

पटना में पुलिस टीम पर हमले के बाद मौजूद अधिकारी

Patna News: राजधानी पटना में पुलिस पर शराब माफियाओं ने ये हमला दीघा इलाके में किया. दीघा थानेदार ने बताया कि पुलिस विकास काे गिरफ्तार करने के लिए छापेमारी करने में जुटी है.

  • Share this:

पटना. पटना में शराब बरामद करने गई दीघा पुलिस (Patna Police) पर बुधवार काे धंधेबाजाें और उसके परिजनाें ने  हमला कर दिया. यही नहीं विकासनगर में मारपीट करने के साथ क्विक माेबाइल के एक जवान समेत दाे पुलिसकर्मियाें (Policemen) की वर्दी फाड़ दी गई. इस घटना के बाद शराब काराेबारी विकास कुमार काे पुलिस की गिरफ्त से छुड़ा लेकर ले गए, वहीं पुलिस ने विकास के साथी मनाेज दुबे काे गिरफ्तार कर लिया. उसके पास से पुलिस ने 20 बाेतल शराब बरामद की.

मनाेज मूल रूप से आरा का रहने वाला है पर दीघा इलाके में किराए के मकान में रहता है. विकास पूर्व सरपंच का भांजा है. वह विकासनगर में रहता है. दीघा थानेदार ने बताया कि पुलिस विकास काे गिरफ्तार करने के लिए छापेमारी करने में जुटी है. इन दाेनाें ने शराब की बड़ी खेप मंगवाई है. दाेनाें ने भारी मात्रा में शराब की बाेतलाें काे अपने ठिकानाें पर पहुंचा दिया है. पुलिस दाेनाें के ठिकानाें पर छापेमारी कर रही है.

दूसरी तरफ पटना जिला के जेल में बंद कुख्याताें पर पुलिस अब शिकंजा कसने जा रही है.

एसएसपी ने जिले के सभी 11 डीएसपी और एसडीपीओ काे आदेश दिया है कि वो अपने-अपने क्षेत्र के एक-एक वैसे कुख्यात के विरुद्ध सीसीए लगाने का प्रस्ताव भेजें जाे जेल में बंद हैं और जिनकी जमानत हाेने वाली है. सीसीए लगाने के प्रस्ताव आने के बाद इसे आगे की कार्रवाई के लिए भेजा जाएगा. सीसीए लग जाने के बाद एक साल तक जमानत नहीं मिलेगी. एसएसपी उपेंद्र कुमार शर्मा ने बुधवार काे जिले के सभी एसपी, डीएसपी व एसडीपीओ व थानेदाराें के साथ क्राइम मीटिंग की. करीब तीन घंटे तक चली बैठक में कंकड़बाग, पीरबहाेर, सुल्तानगंज व कंकड़बाग थानेदाराें काे जमकर फटकार लगाई गई.
दरअसल इन थानेदाराें ने अपने इलाके में हुई संगीन वारदाताें में फरार चल रहे अपराधियाें काे गिरफ्तार नहीं किया, वहीं दूसरी तरफ एसएसपी ने थानेदाराें काे आदेश दिया कि छाेटे से बड़े पुराने मामले में जाे भी आराेपी फरार चल रहे हैं, उसे गिरफ्तार कर केस का निष्पादन करें. लाॅकडाउन खत्म हाे गया है इसलिए गश्ती में तेजी लाने की जरूरत है. बैंक से लेकर अन्य वित्तीय संस्थानाें के पास पुलिस काे तैनाती करनी है, थानेदाराें काे कहा गया है कि अब हरेक बुधवार काे जिस तरह लाॅकडाउन से पहले स्वर्ण काराेबारियाें, अन्य बिजनेस मैन और अपार्टमेंट के सचिवाें के साथ बैठक हाेती थी, उसे फिर से शुरू करें.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज