Bihar Politics: चिराग पासवान की दो टूक- लोजपा कोटे से पशुपति कुमार पारस का केंद्र में मंत्री बनना मंजूर नहीं

चिराग पासवान ने कहा- मेरे पिता और मैं बीजेपी के साथ चट्टान की तरह खड़े रहे (फाइल फोटो)

LJP Controversy: राजनीतिक जानकार बताते हैं कि भाजपा मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की चिराग पासवान से नाराजगी को देखते हुए चिराग का समर्थन कर बिहार की अपनी सरकार को खतरे में डालने से बचना चाह रही है.

  • Share this:
    पटना. लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) में छिड़े राजनीतिक विवाद के बीच पिछले कुछ समय से ऐसी खबरें लगातार आ रही हैं कि केन्द्र की मोदी सरकार (Modi Government) में कुछ और मंत्री शामिल हो सकते हैं. यानी मोदी कैबिनेट का जल्द विस्तार हो सकता है. ऐसे में राजनीतिक तौर पर देश के सबसे संवेदनशील प्रदेशों में से एक बिहार में हलचल तेज है. माना जा रहा है कि इस बार के मंत्रिपरिषद विस्तार में जदयू भी शामिल हो सकती है. कयास तो यह भी लगाए जा रहे हैं कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) लोजपा कोटे से भी किसी एक सांसद को मंत्री बना सकते हैं. लेकिन, वह कौन होगा, यह अभी भविष्य के गर्त में है. हालांकि, इस पर चिराग पासवान ने अपनी प्रतिक्रिया जाहिर कर दी है.

    चिराग पासवान (Chirag Paswan) ने साफ तौर पर कहा है कि अगर बीजेपी ने उनके चाचा पशुपति कुमार पारस (Pashupati Kumar Paras) को बतौर एलजेपी सांसद केंद्रीय मंत्रिमंडल में जगह देगी तो यह उन्‍हें स्वीकार नहीं होगा. अगर पशुपति पारस को निर्दलीय या किसी अन्य दल से मंत्रिमंडल में शामिल किया जाए तो उन्‍हें कोई आपत्ति नहीं होगी.

    समझें भाजपा की चुप्पी का सबब
    बता दें कि लोक जनशक्ति पार्टी एनडीए (NDA) का हिस्सा रही है, लेकिन इस गठबंधन की सबसे बड़ी पार्टी बीजपी केंद्र सरकार में अपने सहयोगी एलजेपी में मचे घमासान पर कुछ नहीं कह रही है. हालांकि, बीजेपी के बिहार प्रदेश अध्यक्ष डॉ. संजय जायसवाल (Dr. Sanjay Jaiswal) ने इसे एलजेपी का आंतरिक मामला बता कर कुछ कहने से इनकार कर दिया था.

    चिराग ने कहा- संबंध एकतरफा नहीं
    गौरतलब है कि चिराग पासवान ने एक अखबार को दिए इंटरव्यू में यह बात साफ कर दिया कि बीजेपी के साथ उनके संबंध एकतरफा नहीं रह सकते हैं. उन्‍होंने लोजपा में बिखराव पर बीजेपी की चुप्‍पी पर सवाल उठाते हुए कहा कि भाजपा चाहती तो यह मामला आगे नहीं बढ़ता. उन्होंने यह भी कहा कि अगर ऐसा ही रहा तो वे अपने भावी राजनीतिक फैसलों को लेकर सभी संभावनाओं पर विचार करेंगे.

    एनडीए की राजनीति के लिए कितना सही?
    हालांकि, चिराग ने यह भी साफ कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी में विश्वास है. पर राजनीतिक जानकार बताते हैं कि भाजपा मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की चिराग पासवान से नाराजगी को देखते हुए चिराग का समर्थन कर बिहार की अपनी सरकार को खतरे में डालने से बचना चाह रही है. हालांकि सवाल यही है कि कि चिराग पासवान पर भाजपा की चुप्पी क्या एनडीए की भविष्य की राजनीति के लिए सही रहेगी?

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.