LJP Dispute: पशुपति पारस ने भंग की सभी पुरानी कमेटी, नई राष्ट्रीय कार्यकारिणी का किया गठन

पशुपति कुमार ने नई राष्ट्रीय कार्यकारिणी का किया गठन. (फाइल फोटो)

Bihar Politics: चिराग पासवान (Chirag Paswan) की बैठक से ठीक एक दिन पहले पशुपति पारस (Pashupati Paras) ने एलजेपी के  सभी राष्ट्रीय और प्रदेश स्तर की समितियों, प्रकोष्ठों को भंग कर दिया है. 

  • Share this:
पटना. लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) में विवाद फिलहाल शांत होता नहीं दिख रहा है. एलजेपी के पारस गुट के अध्यक्ष पशुपति पारस (Pashupati Paras) ने राष्ट्रीय कार्यकारिणी समेत सभी राष्ट्रीय और प्रदेश स्तर की समितियों, प्रकोष्ठों को भंग कर दिया है. पशुपति पारस ने ऐसा चिराग पासवान की तरफ से बुलाई गई राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक से ठीक एक दिन पहले किया है. इसे कल की चिराग गुट (Chirag Paswan) की बैठक को असफल करने की कोशिश के तौर पर देखा रहा है. इसके साथ ही चेतावनी देते हुए पारस खेमे ने साफ कहा है कि चिराग पासवान की बैठक में शामिल होने वालों पर कार्रवाई की जाएगी.



पशुपति पारस ने नई राष्ट्रीय कार्यकारिणी का ऐलान कर दिया है. पारस गुट ने इसकी सूचना चुनाव आयोग को देने की भी बात कही है. उनकी तरफ से बनाई गई नई राष्ट्रीय कार्यकारिणी में 9 लोग हैं जिसमें अध्यक्ष पशुपति पारस के अलावा आठ सदस्य और बनाए गए हैं. उन आठ सदस्यों में चौधरी महबूब अली कैसर,  वीणा देवी, चंदन सिंह, प्रिंस राज, सुनीता शर्मा (राष्ट्रीय उपाध्यक्ष), संजय सराफ (राष्ट्रीय महासचिव और प्रवक्ता), रामजी सिंह (राष्ट्रीय महासचिव) और विनोद नागर (राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष और राष्ट्रीय प्रवक्ता) के नाम शामिल हैं.

पशुपति पारस का दावा

पशुपति पारस का कहना है कि जल्द ही बाकी लोगों को राष्ट्रीय कार्यकारिणी में मनोनीत कर दिया जाएगा. इसके अलावा राष्ट्रीय संसदीय बोर्ड, राष्ट्रीय और प्रदेश स्तर की सभी कमेटियों का गठन किया जाएगा. पारस ने कहा कि आगे और लोग कार्यकारिणी में मनोनीत होंगे. उन्होंने कल होने वाले चिराग पासवान की बुलाई गई बैठक को असंवैधानिक करार दिया है. पशुपति पारस गुट ने नई राष्ट्रीय कार्यकारिणी के फैसले की जानकारी चुनाव आयोग को भी दे दी है.

रविवार को बैठक

चिराग पासवान ने चुनाव आयोग से साफ कहा कि चाचा पशुपति पारस को पार्टी का अध्यक्ष बनाने के लिए पटना में बुलाई गई बैठक पूरी तरह से असंवैधानिक थी. इसमें राष्ट्रीय कार्यकारी के सदस्यों की उपस्थिति नहीं थी. सिर्फ नौ सदस्यों ने पारस को पार्टी का अध्यक्ष चुना लिया था. उन्होंने चुनाव आयोग को पत्र लिखकर पार्टी के चुनाव चिह्न और झंडे के इस्तेमाल पर रोक लगाने की मांग की भी है. अब चिराग ने रविवार को दिल्ली में राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक बुलाई है. माना यह भी जा रहा है कि इस बैठक में वो बड़ा बदलाव कर सकते हैं.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.