लोजपा में तख्ता पलट कर बिहार लौटे कई दिग्गज नेता, पशुपति पारस के भी आज पटना आने की संभावना

लोजपा में तख्ता पलट करने वाले पशुपति कुमार पारस (फाइल फोटो)

LJP Dispute Update: लोजपा सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक बुधवार को पटना आने के बाद पशुपति पारस अगले ही दिन यानी 17 जून को पटना में LJP राष्ट्रीय परिषद् की बैठक में भी शामिल होंगे.

  • Share this:
पटना. दिल्ली में ऑपरेशन लोजपा (LJP) की सफलता के बाद नेताओं का पटना वापस लौटने का सिलसिला शुरू हो गया है. इस कड़ी में चिराग पासवान (Chirag Paswan) के चाचा और लोजपा में रातोरात तख्ता पलट करने वाले पशुपति पारस (Pashupati Paras) भी बुधवार की शाम को पटना आ रहे हैं. जानकारी के मुताबिक, पारस शाम को 3.30 की फ्लाइट से पटना आ रहे हैं. लोजपा, जेडीयू और बीजेपी के कई नेताओं के पटना पहुंचने के बाद अब दिल्ली की राजनीति के पटना में परवान चढ़ने संभावना है.

लोजपा सांसद महबूब अली कैसर, वीणा सिंह, जेडीयू नेता संजय सिंह, बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष डॉ. संजय जायसवाल समेत कई अन्य नेता मंगलवार की शाम को पटना लौट आए हैं. लोजपा की टूट में भूमिका निभाने वाले जेडीयू विधान पार्षद संजय सिंह ने दिल्ली से पटना पहुंचने पर कहा कि लोजपा में टूट परिवार का इंटरनल मामला है, इसमें हमारी दखलंदाजी नहीं है. लोजपा के विवाद में जदयू की कोई भूमिका नहीं है. लोजपा के लोग चाहते थे कि एनडीए के साथ रहें, लेकिन चिराग की जिद के कारण 2020 के चुनाव में एनडीए से अलग हुए. उन्होंने कहा कि चिराग को लेकर पार्टी में भारी असंतोष था.

लोजपा सांसद चौधरी महबूब अली कैसर ने पटना पहुंचने पर कहा कि बिहार चुनाव में चिराग पासवान ने बड़ी गलती की. एनडीए में रहते हुए जदयू के विरोध में काम किया. इसी कारण हमलोगों ने नेतृत्व परिवर्तन का निर्णय लिया. चिराग में अनुभव की भारी कमी है, इसलिए हमने पशुपतिनाथ पारस का समर्थन किया. चिराग ने बिहार की राजनीति का नब्ज नहीं पकड़ा और बड़ी भूल की जिसका खामियाजा उन्हें और पूरी पार्टी को भुगतना पड़ा. चिराग पासवान को हमारी शुभकामना है. इस परिस्थिति से निपट कर वे आगे बढ़ेंगे और एक बड़े नेता बनेंगे. उन्होंने कहा कि लोजपा में कोई टूट नहीं हुई है. कैसर ने कहा कि ललन सिंह के कहने पर पार्टी में टूट नहीं हुई है. हमारी मुलाकात ललन सिंह से वीणा सिंह के घर पर हुई थी. हम चाहते हैं कि चिराग पासवान हमारे साथ रहे. लोजपा का अगला अध्यक्ष कौन होगा यह बैठक में तय किया जाएगा.

लोजपा सांसद वीणा सिंह के पति और जदयू एमएलसी दिनेश सिंह भी पटना पहुंचे. पटना पहुंचने पर दिनेश सिंह ने कहा कि मुझे जानकारी नहीं है कि क्या चल रहा है. मैं जदयू में हूं और मेरी पत्नी लोजपा की सांसद हैं. चिराग पासवान से चूक हुई है, जिसके कारण बाकी के सांसदों ने यह निर्णय लिया. हर पार्टी में नेता का परिवर्तन होता है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.