Lockdown: ट्रेन सफर के दौरान एक दिन में सात प्रवासी मजदूरों की मौत, रेलवे ने कही ये बात

श्रमिक स्पेशल ट्रेन से सफर के दौरान एक दिन में सात मजदूरों की मौत.
श्रमिक स्पेशल ट्रेन से सफर के दौरान एक दिन में सात मजदूरों की मौत.

सोमवार को श्रमिक स्पेशल ट्रेन (Shramik Special Train) से सफर करने वाले सात प्रवासी मजदूरों की मौत हो गई. मृतकों में आठ माह का एक बच्चा भी था. साफ है कि कोरोना के पहले भूख- प्यास और गर्मी इन मजदूरों के लिए मौत बनकर आ रही है

  • Share this:
पटना. कोरोना काल (COVID-19) में लागू लॉकडाउन (Lockdown) के बीच बिहार लौट रहे कई प्रवासियों की सड़क दुर्घटना और ट्रेन से कटने के कारण मौत हो चुकी है. लेकिन इसके अलावा अब बेबसी की मार झेल रहे मजदूरों की ट्रेन के सफर के दौरान भी मौत हो जा रही है. कई श्रमिक स्पेशल ट्रेनें (Shramik Special Train) लेट से चल रही हैं. खास कर लंबी दूरी की ट्रेनों को अपने गंतव्य तक पहुंचने में निर्धारित समय से अधिक वक्त लग रहा है जिससे इसमें सफर करने वाले कई मजदूरों की भूख-प्यास और गर्मी की वजह से जान चली जा रही हैं. सोमवार को श्रमिक स्पेशल ट्रेन से सफर करने वाले सात प्रवासी मजदूरों की मौत हो गई. मृतकों में आठ माह का एक बच्चा भी था. साफ है कि कोरोना के पहले भूख- प्यास और गर्मी इन मजदूरों के लिए मौत बनकर आ रही है.

सोमवार को एक दिन में इन व्यक्तियों की हुई मौत

पश्चिम चंपारण जिला के चनपटिया थाना क्षेत्र के निवासी इरशाद की मुजफ्फरपुर जंक्शन पर मौत.



55 साल के अनवर की बरौनी में मौत, अनवर श्रमिक स्पेशल ट्रेन से मुंबई के बांद्रा स्टेशन से चले थे.
सूरत से आ रही ट्रेन में औरंगाबाद के ओबरा की महिला की सासाराम स्टेशन पर मौत

मोतिहारी के एक मजदूर की महाराष्ट्र से आने के दौरान जहानाबाद में मौत

मुंबई से सीतामढ़ी जा रहे आठ महीने के बच्चे की कानपुर में मौत

अहमदाबाद से कटिहार जा रही अलवीना की ट्रेन में मौत

रेलवे के अधिकारी का बयान
ईस्ट सेंट्रल रेलवे के सीपीआरओ राजेश कुमार से जब न्यूज़ 18 की टीम ने ट्रेन में खाने-पीने की व्यवस्था और ट्रेनों की लेट लतीफी पर सवाल पूछा तो उन्होंने कहा कि किसी भी श्रमिक की मौत भूख से नहीं हुई है. उन्होंने कहा कि कुछ मजदूरों की मौत तो अस्पताल में जाने के बाद हुई है. वहीं उन्होंने कहा कि रेलवे श्रमिक स्पेशल ट्रेन के यात्रियों को सुबह का नाश्ता से लेकर रात का खाना समय पर पहुंचा रही है. इसके लिए रेलवे ने अलग-अलग जोन में कई स्टेशनों पर फ़ूड सेंटर बनाया है, जहां जिस समय में जो ट्रेन आती है उसमें खाना और पानी दिया जाता है.

ट्रेनों की लेट लतीफी पर उन्होंने कहा कि अमूमन ट्रेनें समय पर ही पहुंचती हैं लेकिन जो लंबी दूरी की ट्रेन है उसे पहुंचने में थोड़ी देर हो रही है. लेकिन पांच से सात दिन की देरी से कोई भी ट्रेन नहीं चल रही है.

ये भी पढ़ें-


Lockdown: श्रमिक ट्रेन में नहीं था पानी तो दवा नहीं खा पाया प्रवासी मजदूर, परिजनों के सामने तड़पकर हो गई मौत




शूटआउट @ Noon: बाहुबली JDU विधायक के करीबी को गोलियों से भूना, मौके पर हुई मौत

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज