क्या है बिहार की उन 8 सीटों का जातीय समीकरण जहां आखिरी चरण में है मतदान

बिहार में क्यों प्रत्याशियों के चयन से लेकर मतदान तक अहम है जातीय समीकरण

Deepak Priyadarshi | News18Hindi
Updated: May 18, 2019, 12:05 AM IST
क्या है बिहार की उन 8 सीटों का जातीय समीकरण जहां आखिरी चरण में है मतदान
बिहार में क्यों प्रत्याशियों के चयन से लेकर मतदान तक अहम है जातीय समीकरण
Deepak Priyadarshi
Deepak Priyadarshi | News18Hindi
Updated: May 18, 2019, 12:05 AM IST
लोकसभा चुनाव के अंतिम चरण के मतदान में बिहार की अंतिम आठ सीटों पर 19 मई को मतदान होगा. जिसमें नालंदा, पटना साहिब, पाटलिपुत्र, आरा, बक्सर, सासाराम, काराकाट और जहानाबाद सीट है. इस चरण में कई दिग्गजों के राजनीतिक भाग्य का फैसला होगा. जिसमें चार केन्द्रीय मंत्री भी हैं.

इस चुनाव में मुद्दों पर लंबी चौड़ी बहस हुई. राष्ट्रवाद, वंशवाद, विकास जैसे कई मुद्दों पर जमकर भाषण और बयानबाजी हुई. लेकिन सच्चाई यह भी है कि बिहार जैसे राज्य में जब चुनाव की बात होती है तो उम्मीदवार के चयन से लेकर वोटिंग तक सबकुछ जातीय समीकरण पर आकर टिक जाता है. इन आठ सीटों पर भी जातीय समीकरण पर सबकी निगाहें टिकी होंगी और सभी अपने अपने वोटबैंक को साधने के अलावा दूसरे के वोट बैंक पर सेंघ लगाने की कोशिश होगी. अगर सीट दर सीट पर नजर डालें तो जातीय समीकरण कुछ इस तरह हैं...

नालंदा
बिहार के लिहाज से यह सीट बेहद महत्वपूर्ण है. वह इसलिए क्योंकि नालंदा मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का गृह जिला है. इस सीट पर कौशलेन्द्र जेडीयू से उम्मीदवार हैं तो महागठबंधन की ओर से 'हम' उम्मीदवार अशोक कुमार आजाद हैं. ये दोनों ही उम्मीदवार अतिपिछड़ा वर्ग से आते हैं. नालंदा सीट का जातीय समीकरण देखें तो यहां कुर्मी -25 प्रतिशत, यादव 20 प्रतिशत, अल्पसंख्यक - 9 प्रतिशत, कुशवाहा - 10 प्रतिशत, अतिपिछड़ा-13 प्रतिशत, सवर्ण-9 प्रतिशत, महादलित-13 प्रतिशत तो अन्य जातियां 1 प्रतिशत है.

पटना साहिब
पटना साहिब की सीट पर देश की दो चर्चित हस्तियों के भाग्य का फैसला होगा. एनडीए की ओर से केन्द्रीय मंत्री बीजेपी उम्मीदवार रविशंकर प्रसाद हैं. तो दूसरी ओर महागठबंधन की ओर से वॉलीवुड के शॉटगन और बीजेपी के ‘शत्रु’ शत्रुघ्न सिन्हा उम्मीदवार हैं. इन्हीं दोनों के बीच सीधा मुकाबला है. दोनों ही हाईप्रोफाइल उम्मीदवार पटना के ही निवासी हैं और दोनों ही कायस्थ जाति से आते हैं, जो पटना साहिब की सीट पर फैसला करने में अपनी सबसे बड़ी भूमिका अदा करती है. इस सीट का जातिगत समीकरण देखें तो सवर्ण- 23.65 प्रतिशत है. जिसमें कायस्थ वोटरों की संख्या तकरीबन 8 प्रतिशत है. जबकि यादव - 17.10 प्रतिशत, मुस्लिम- 6.70 प्रतिशत और दलित- 15.66 प्रतिशत हैं.

पाटलिपुत्र
Loading...

इस सीट पर भी सबकी निगाहें टिकी हुई है. बीजेपी की ओर से केन्द्रीय मंत्री रामकृपाल यादव हैं तो महागठबंधन की ओर से आरजेडी प्रत्याशी मीसा भारती है. पिछली बार भी चाचा भतीजी आमने सामने हुए थे तो इस बार भी दोनों आमने सामने हैं. यादव बहुल इस सीट के जातिगत समीकरण में यादव- 24.24 प्रतिशत, भूमिहार-10.22 प्रतिशत, मुस्लिम- 8 प्रतिशत, कुर्मी-7 प्रतिशत और अन्य जातियां- 23.82 प्रतिशत हैं.

आरा
यह सीट भी इस लिहाज से महत्वपूर्ण है कि यहां से केन्द्रीय मंत्री आर के सिंह बीजेपी उम्मीदवार हैं और उनके सामने सीपीआई माले के राजू यादव हैं. इस सीट के जातीय समीकरण पर नजर डालें तो सवर्ण- 28.19 प्रतिशत, यादव- 20.80 प्रतिशत, मुस्लिम- 8.23 प्रतिशत और दलित- 14.55 प्रतिशत हैं.

बक्सर
यह सीट भी हाईप्रोफाइल है, यहां बीजेपी से केन्द्रीय राज्य मंत्री अश्विनी चौबे हैं. चौबे का सीधा मुकाबला आरजेडी के जगदानंद सिंह से है. यह सीट भी सवर्ण बहुल सीट मानी जाती है. यहां सवर्ण- 22.47 प्रतिशत, यादव- 17.27 प्रतिशत, मुस्लिम- 6.38 प्रतिशत और दलित- 16.39 प्रतिशत है.

सासाराम
यह सीट दलित बहुल के साथ कांग्रेस की परंपरागत सीट मानी जाती है. यहां से कांग्रेस ने पूर्व लोकसभा स्पीकर मीरा कुमार को मैदान में उतारा है तो बीजेपी की ओर से पुराने नेता छेदी पासवान उम्मीदवार हैं. यहां का जातिगत समीकरण कुछ ऐसा है. दलित- 27 प्रतिशत, मुस्लिम- 10 प्रतिशत, राजपूत-10 प्रतिशत, वैश्य- 14 प्रतिशत, यादव 7 प्रतिशत, कुशवाहा-10 प्रतिशत तो एससी वोट बैंक- 4 प्रतिशत का है.

काराकाट
बिहार की राजनीति के लिहाज से इस सीट पर सबकी निगाहें हैं. क्योंकि इस सीट पर जेडीयू की ओर से महाबली सिंह और RLSP से पूर्व केन्द्रीय मंत्री और एनडीए छोड़कर आए उपेन्द्र कुशवाहा के बीच सीधा मुकाबला है. इस सीट का जातीय समीकरण देखें तो 18.45 प्रतिशत के साथ सवर्णों की बड़ी भूमिका रहेगी. जबकि यादव- 17.39 प्रतिशत, मुस्लिम- 8.94 प्रतिशत और दलित- 19.02 प्रतिशत है.

जहानाबाद
यह सीट यादव और पिछड़ा अतिपिछड़ा बहुल सीट मानी जाती है. जहां से जेडीयू से अतिपिछड़ा वर्ग से चंदेश्वर चन्द्रवंशी उम्मीदवार हैं तो आरजेडी से सुरेन्द्र यादव उम्मीदवार हैं. जहानाबाद का जातिगत समीकरण कुछ यूं है, पिछड़ा-अतिपिछड़ा-36 प्रतिशत, यादव- 17 प्रतिशत, भूमिहार-15 प्रतिशत, दलित-महादलित-21 प्रतिशत जबकि मुस्लिम-11 प्रतिशत है.

ये भी पढ़ें : लालू बोले- ‪इसका कौनो ठिकाना है, कब कहां कैसे और क्यों लुढ़क जाए?‬

CM नीतीश का तंज- लोग संविधान का 'क ख ग घ' नहीं जानते, लेकिन...
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...

वोट करने के लिए संकल्प लें

बेहतर कल के लिए#AajSawaroApnaKal
  • मैं News18 से ई-मेल पाने के लिए सहमति देता हूं

  • मैं इस साल के चुनाव में मतदान करने का वचन देता हूं, चाहे जो भी हो

    Please check above checkbox.

  • SUBMIT

संकल्प लेने के लिए धन्यवाद

जिम्मेदारी दिखाएं क्योंकि
आपका एक वोट बदलाव ला सकता है

ज्यादा जानकारी के लिए अपना अपना ईमेल चेक करें

डिस्क्लेमरः

HDFC की ओर से जनहित में जारी HDFC लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड (पूर्व में HDFC स्टैंडर्ड लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड). CIN: L65110MH2000PLC128245, IRDAI R­­­­eg. No. 101. कंपनी के नाम/दस्तावेज/लोगो में 'HDFC' नाम हाउसिंग डेवलपमेंट फाइनेंस कॉर्पोरेशन लिमिटेड (HDFC Ltd) को दर्शाता है और HDFC लाइफ द्वारा HDFC लिमिटेड के साथ एक समझौते के तहत उपयोग किया जाता है.
ARN EU/04/19/13626

News18 चुनाव टूलबार

  • 30
  • 24
  • 60
  • 60
चुनाव टूलबार