Assembly Banner 2021

तेजस्वी का पलटवार, बोले- मुझे गिरिराज सिंह का नाम पसंद नहीं, नाम बदल दो

फाइल फोटो

फाइल फोटो

तेजस्वी ने कहा कि इनको देश की शिक्षा, स्वास्थ्य, रोजगार, महंगाई, किसान, देश की अर्थव्यवस्था से कोई मतलब नहीं है. उन्होंने कहा कि ये अपने विचार को देश भर में थोप नहीं सकते हैं.

  • Share this:
बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम और नेता प्रतिपक्ष  तेजस्वी यादव ने गिरिराज सिंह के उस बयान पर पलटवार किया है जिसमें उन्होंने हरे रंग के इस्लामिक झंडे पर बैन लगाने की बात कही थी. तेजस्वी ने इसे तिरंगे का अपमान बताया क्योंकि तिरंगे झंडे में भी हरा रंग है. उन्होंने यह भी कहा कि अगर ऐसा ही है तो मुझे गिरिराज सिंह का नाम पसंद नहीं है, उनका नाम बदल देना चाहिए.

बुधवार को चुनाव प्रचार से लौटने के बाद पटना एयरपोर्ट पर संवाददाताओं से बात करते हुए तेजस्वी ने कहा कि इनको देश की शिक्षा, स्वास्थ्य, रोजगार, महंगाई, किसान, देश की अर्थव्यवस्था से कोई मतलब नहीं है. उन्होंने कहा कि ये अपने विचार को देश भर में थोप नहीं सकते हैं. अगर ऐसा ही है तो मुझे गिरिराज सिंह का नाम पसंद नहीं है, नाम बदल देना चाहिए.

ये भी पढ़ें- राबड़ी देवी ने खोया आपा, गिरिराज सिंह को बताया 'कलिया नाग'



बता दें कि इससे पहले तेजस्वी यादव ने ट्विटर पर बेगूसराय से आरजेडी के प्रत्याशी को ट्वीट करते हुए गिरिराज सिंह को काला नाग बताया था. उन्होंने ट्वीट में लिखा, तनवीर साहब, अगर ज़हरीला आदमी विषगमन नहीं करेगा तो क्या करेगा? आज हमारे समाज में काले नागों की बहुतायत हो गई है। ऐसे नाग क्षेत्रवाद, भाषावाद, धर्मवाद और संप्रदायवाद का समाज में विषगमन करके देश की एकता और अखंडता को खंडित करने की कोशिश कर रहे हैं। लेकिन हम बिहारी ऐसा नहीं होने देंगे.



बता दें कि गिरिराज सिंह ने मंगलवार को कहा था कि राहुल गांधी के नामांकन में वहां मुस्लिम लीग का झंडा दिखा न कि कांग्रेस का. इस कार्यक्रम को देख एक धारणा बनी कि यह केरल में नहीं, बल्कि शायद पाकिस्तान के रावलपिंडी में नामांकन हो रहा हो.

ये भी पढ़ें- बिहार: वैशाली से LJP प्रत्याशी वीणा देवी का रद्द हो सकता है नामांकन, पढ़ें क्या है वजह

गिरिराज सिंह ने यह भी कहा कि हजारों की संख्या में वो झंडा देखने से पाकिस्तान के झंडे सरीखा लगता है. मेरी चुनाव आयोग से मांग है कि राजनैतिक दलों की रैली और कार्यक्रमों में इस आकृति के झंडों पर रोक लगनी चाहिए.

इससे पहले गिरिराज सिंह के बयान का जेडीयू ने भी विरोध किया था. पार्टी के नेता अशोक चौधरी ने कहा कि जेडीयू का भी रंग हरा है.  अशोक चौधरी ने गिरिराज सिंह को नसीहत देते हुए कहा कि सार्वजनिक और राजनीतिक जीवन मे ऐसी भाषा से परहेज करनी चाहिए.

इनपुट- धर्मेंद्र

ये भी पढ़ें-
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज