मधुबनी हत्याकांड: राजपूतों को तेजस्वी का मरहम भा गया, कठघरे में सुशील मोदी

मधुबनी नरसंहार को लेकर बिहार में सियासत. तेजस्वी यादव की पहल से खुश राजपूत समाज बीजेपी नेता सुशील मोदी पर हमलावर.

मधुबनी नरसंहार को लेकर बिहार में सियासत. तेजस्वी यादव की पहल से खुश राजपूत समाज बीजेपी नेता सुशील मोदी पर हमलावर.

Madhubani massacre Politics: दिवंगत सांसद रघुवंश प्रसाद सिंह को लेकर तेजप्रताप यादव के बयान से आरजेडी से बिफरा राजपूत समुदाय, मधुबनी हत्याकांड में तेजस्वी यादव की पहल का हुआ मुरीद. बीजेपी नेता सुशील मोदी को उनके ही बयान पर घेरा.

  • Share this:
पटना. मधुबनी हत्याकांड के बाद राष्ट्रीय जनता दल (राजद) नेता व बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी प्रसाद यादव का सटीक समय पर पीड़ित परिवार से मिलने का लाभ उन्हें मिला और राजद के प्रति राजपूत समाज की नाराजगी दूर होती नजर आ रही है. बिहार में होली के दिन मधुबनी के मोहम्मदपुर गांव में एक ही परिवार के पांच लोगों की हत्या कर दी गई. हत्या के बाद उनकी जाति के बिहार के नेताओं और जातीय संगठन से जुड़े लोगों का वहां जाने का सिलसिला जारी है. लेकिन, वे जवाब नपा-तुला दे रहे हैं.

मजेदार है कि बिहार में नीतीश कुमार की पार्टी जदयू और भाजपा के भी स्वजातीय नेता ही पीड़ित परिवार से मिलने पहुंचे. इस बीच भाजपा विधायक से नाराज चल रहे पीड़ित परिवार ने राज्यसभा में भाजपा सांसद सुशील कुमार मोदी के एक बयान पर कड़ी आपत्ति जताई है. सुशील मोदी ने राजेश यादव नाम के एक स्थानीय नेता पर मधुबनी हत्याकांड की पूरी साजिश रचने का आरोप लगाया है. उनके इस बयान के बाद हत्याकांड में अपने बेटों-भतीजों को खो चुके सुरेंद्र सिंह ने पलटवार करते हुए सुशील कुमार मोदी को ही कठघरे में खड़ा कर दिया और राजेश यादव को क्लीन चीट देते हुए कहा कि तेजस्वी यादव, राजेश यादव तो सांत्वना देने भी आए, लेकिन आप उनसे पहले क्यों नहीं आए. सुशील सिर्फ सोशल मीडिया के माध्यम से हवा-हवाई राजनीति करेंगे कि धरातल पर जनता से भी रूबरू होंगे.

नाराज राजपूतों को मनाने में कामयाब रहे तेजस्वी

आगे पढ़ें
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज