Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    7वीं बार बिहार के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने जा रहे नीतीश कुमार के खिलाफ गया है मेंडेट : कांग्रेस

    बिहार में सोमवार को नीतीश कुमार एक बार फिर सीएम पद की शपथ लेंगे. (फोटो: न्यूज़ 18 ग्राफिक्स)
    बिहार में सोमवार को नीतीश कुमार एक बार फिर सीएम पद की शपथ लेंगे. (फोटो: न्यूज़ 18 ग्राफिक्स)

    अखिलेश सिंह (Akhilesh Singh) ने ध्यान दिलाया कि पिछले चुनाव में नीतीश कुमार की अगुवाई वाले जदयू को 71 सीटें आई थीं, लेकिन इस बार उनकी पार्टी महज 43 सीट पर सिमट कर रह गई है, वह भी निष्पक्ष तौर पर नहीं.

    • News18Hindi
    • Last Updated: November 15, 2020, 5:04 PM IST
    • Share this:
    पटना. बिहार (Bihar) में नीतीश कुमार (Nitish Kumar) के एनडीए सरकार (NDA Government) के गठन का दावा पेश किए जाने के बाद कांग्रेस सांसद अखिलेश सिंह (Congress MP Akhilesh Singh) ने कहा कि बिहार में जिस तरह का मेंडेट मिला है वह उनके (नीतीश कुमार ) खिलाफ गया है. अखिलेश सिंह ने ध्यान दिलाया कि पिछले चुनाव में नीतीश कुमार की अगुवाई वाले जदयू को 71 सीटें आई थीं, लेकिन इस बार उनकी पार्टी महज 43 सीट पर सिमट कर रह गई है, वह भी निष्पक्ष तौर पर नहीं.

    नीतीश कुमार बीजेपी के दबाव में हैं

    कांग्रेसी नेता अखिलेश सिंह ने कहा कि नीतीश कुमार कहा भी करते थे कि वह साफ स्वच्छ छवि के व्यक्ति हैं. पर इस बार ऐसा लग रहा है कि वे बीजेपी के दवाब में मुख्यमंत्री बन रहे हैं. अब वह क्या दवाब है - यह तो वही जानते होंगे. नीतीश कुमार ने कहा भी था कि वह सीएम नहीं बनना चाहते हैं. उन्होंने सुशील मोदी के डिप्टी सीएम बनाए जाने के सवाल पर कहा कि सुशील मोदी (Sushil Modi) को डिप्टी सीएम बनाया जाएगा कि नहीं है, वह उस पार्टी का आंतरिक मामला है. लेकिन यह तो तय है कि सुशील कुमार मोदी सिर्फ बयानबाजी ही करते हैं. पिछले पांच सालों से कोई भी विकास का काम नहीं किया है.



    नीतीश कुमार इस बार नहीं चाहते थे सीएम बनना
    आपको याद दिला दें कि रविवार को पटना में विधायक दल का नेता चुने जाने के बाद नीतीश कुमार ने कहा कि मैं मुख्यमंत्री नहीं बनना चाहता था लेकिन बीजेपी (BJP) के नेताओं के आग्रह और निर्देश के बाद ही मैंने मुख्यमंत्री बनना स्वीकार किया है. पटना में एनडीए के विधायक दल का नेता चुने जाने के बाद नीतीश कुमार ने कहा कि मैं तो चाहता था कि इस बार बिहार का मुख्यमंत्री भाजपा का बने, लेकिन बीजेपी के ही लोगों ने मुझसे मुख्यमंत्री बनने को लेकर आग्रह किया. गौरतलब है कि रविवार को पटना में कई बैठकें हुईं. एनडीए की बैठक के दौरान विधानमंडल के नेता के तौर पर सुशील मोदी के नाम का ऐलान किया गया. नीतीश कुमार के आवास पर एनडीए की बैठक के बाद उनके ही नेतृत्व में एक शिष्टमंडल रविवार को गवर्नर हाउस पहुंचा, जहां सभी ने मिलकर सरकार बनाने का दावा किया. नीतीश कुमार ने राज्यपाल से मुलाकात कर सरकार गठन का दावा पेश किया और 126 विधायकों का समर्थन पत्र राज्यपाल को सौंपा.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज