Assembly Banner 2021

मांझी का दावा- महागठबंधन में आना चाहते थे पासवान, मैंने रोकी एंट्री

जीतनराम मांझी (फाइल फोटो)

जीतनराम मांझी (फाइल फोटो)

पूर्व सीएम ने कहा, रामविलास पासवान एनडीए से अलग होना चाह रहे थे. इसको लेकर उन्होंने लालू यादव से कई बार बात भी की थी.

  • Share this:
बिहार की सियासत में हर दिन नयी-नयी बातें सामने आ रही हैं. आज हिन्दुस्तानी आवाम मोर्चा के अध्यक्ष और बिहार के पूर्व सीएम जीतनराम मांझी ने इसी कड़ी में नया दावा किया है. उन्होंने कहा कि लोक जनशक्ति पार्टी के अध्यक्ष और केन्द्रीय मंत्री एनडीए से अलग होकर महागठबंधन में आना चाहते थे. मांझी ने दावा किया कि उन्होंने ही उनकी महागठबंधन में एंट्री रोक दी.

पूर्व सीएम ने कहा कि रामविलास पासवान एनडीए से अलग होना चाह रहे थे. इसको लेकर रामविलास पासवान ने लालू यादव के कई बार बात भी की थी. मांझी ने कहा कि इस बात पर जब लालू यादव ने मुझसे जब सुझाव लिया तो मैंने मना कर दिया.

ये भी पढ़ें- राबड़ी का पीएम मोदी पर ठेठ भोजपुरी में निशाना, बोलीं- अबकी बार इनका के मजा चखाई



मांझी ने कहा कि मैंने उपेन्द्र कुशवाहा के बारे भी लालू यादव को आगाह  करते हुए कहा था कि उनके महागठबंधन में शामिल होने से  कोई लाभ नहीं होगा. हां कुशवाहा को जरूर इसका लाभ होगा.
हालांकि रामविलास पासवान के महागठबंधन में जाने की चाहत पर मांझी के दावे को जेडीयू ने गलत करार दिया है. पार्टी के प्रवक्ता अजय आलोक ने कहा कि पासवान जी NDA का महत्वपूर्ण हिस्सा हैं, उनका बड़ा कद्द है और वो कभी लालू के साथ नही जाने वाले.

बता दें कि कल ही बिहार के डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी ने दावा किया था कि सीबीआई से बचने के लिए लालू यादव ने वित्त मंत्री अरुण जेटली से मुलाकात की थी और कहा था कि अगर उन्हें मदद मिलती है तो 24 घंटे के अंदर नीतीश कुमार का 'इलाज' कर देंगे.

इनपुट- अमित कुमार

ये भी पढ़ें-
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज