पटना के कई अस्पतालों में COVID-19 मरीजों को नहीं मिल रहा इलाज, 5 हॉस्पिटल्स को DM ने दी नोटिस
Patna News in Hindi

पटना के कई अस्पतालों में COVID-19 मरीजों को नहीं मिल रहा इलाज, 5 हॉस्पिटल्स को DM ने दी नोटिस
कोरोना वायरस के संक्रमण की रफ्तार बढ़ती जा रही है (सांकेतिक तस्वीर)

अस्पतालों के इस गैर जिम्मेदाराना रवैये पर जिलाधिकारी ने 5 प्राइवेट अस्पतालों के प्रबंधक से स्पष्टीकरण तलब करते हुए 24 घंटे के अंदर जवाब मांगा है.

  • Share this:
पटना. वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (Coronavirus Pandemic) के संक्रमण ने इस समय पूरा देश जूझ रहा है. पटना में प्रशासन द्वारा COVID-19 के इलाज के लिए अस्पतालों की सूची जारी की गई है. लेकिन इस सूची में शामिल कई अस्पताल मरीजों के इलाज से इंकार कर रहे हैं ऐसे में कोरोना संक्रमित मरीज इलाज के लिए दर-दर भटक रहे हैं. बिहार राज्य में कोरोना महामारी से निपटने के राज्य सरकार के तौर-तरीकों की विपक्षी पार्टियों द्वारा भरपूर आलोचना की जा रही है. अस्पतालों में कोविड-19 के मरीजों के इलाज को लेकर अब सरकार सख्ती से पेश आने लगी है जिसके क्रम में आज राजधानी पटना के डीएम ने बढ़ते मरीजों और अस्पतालों के रवैये को लेकर पांच प्राइवेट अस्पतालों को शो कॉज नोटिस जारी कर जवाब-तलब किया है.

ये की गई सख्त कार्रवाई!
बता दें कि बिहार की राजधानी पटना का आलम ये है कि यहां कोविड-19 के इलाज के लिए चिन्हित किए गए 18 अस्पतालों में से पांच ने निर्देशों को दरकिनार कर कोरोना संक्रमित मरीजों भर्ती ही नहीं किया. लापरवाही को लेकर चौतरफा आलोचना के बाद अब जिलाधिकारी कुमार रवि ने कार्रवाई के नाम पर इन पांच प्राइवेट अस्पतालों के प्रबंधकों को शो कॉज नोटिस जारी कर 24 घंटे में जवाब मांगने की खानापूर्ति की है. बता दें कि प्रदेश में कोरोना मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए सरकारी अस्पतालों के अलावा प्राइवेट अस्पतालों को भी कोरोना संक्रमित मरीजों के इलाज की समुचित व्यवस्था करने का निर्देश दिया गया था. जिसको लेकर जिलाधिकारी ने 17 जुलाई को प्राइवेट अस्पताल के प्रबंधकों के साथ बैठक आयोजित कर उन्हें अस्पतालों में क्षमता के आधार पर 25 प्रतिशत बेड कोरोना संक्रमितों के इलाज के लिए आरक्षित करने व आइसोलेशन वार्ड बनाने का निर्देश दिया था. लेकिन 23 जुलाई को प्राइवेट अस्पतालों की समीक्षा बैठक में पाया गया कि इन अस्पतालों के द्वारा कोविड-19 संक्रमितों के इलाज हेतु कोई व्यवस्था नहीं की गई है और ना ही इस संबंध में अभिरुचि दिखाई जा रही है. प्राइवेट अस्पतालों के इस गैर जिम्मेदाराना रवैये पर जिलाधिकारी ने 5 प्राइवेट अस्पतालों के प्रबंधक से स्पष्टीकरण तलब करते हुए 24 घंटे के अंदर जवाब मांगा है.

ये भी पढ़ें- Opinion: क्या BJP-JDU से डरकर बदली है RJD ने चुनाव प्रचार की रणनीति ?



जिन प्राइवेट अस्पतालों को नोटिस दिया गया है वो हैं- हाईटेक इमरजेंसी, राजेश्वर हॉस्पिटल, जगदीश मेमोरियल हॉस्पिटल, सहयोग हॉस्पिटल, मिडवर्सल हॉस्पिटल पटना. प्रशासन द्वारा कोविड-19 के इलाज के जारी सूची के मुताबिक़ मरीज इन निजी अस्पतालों के चक्कर काट रहे हैं लेकिन इस संकट की घड़ी में उन्हें इलाज नहीं मिल पा रहा है. मीडिया में खबरें आने के बाद डीएम ने इन निजी अस्पतालों को नोटिस जारी की है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading