लाइव टीवी

बिहार: मोदी सरकार ने पूरे किए लालू यादव के शुरू किए कई प्रोजेक्ट्स 
Patna News in Hindi

News18 Bihar
Updated: January 19, 2020, 10:05 AM IST
बिहार: मोदी सरकार ने पूरे किए लालू यादव के शुरू किए कई प्रोजेक्ट्स 
लालू प्रसाद यादव की शुरू की गई कई परियोजनाओं को मोदी सरकार के कार्यकाल में पूरा किया गया. (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर)

रेल मंत्री रहते लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) ने मधेपुरा में लोको फैक्ट्री लगाने का ऐलान किया था. अब वहां 12 हजार हार्स पावर के इंजन का निर्माण शुरू हो चुका है.

  • Share this:
पटना. आगामी 1 फरवरी 2020 को देश की वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) देश का आम बज़ट पेश करेंगी. इसके साथ ही रेल बज़ट भी पेश किया जाएगा. बजट प्रस्ताव में लोगों की सबसे अधिक उत्सुकता रेलवे को लेकर बनी रहती है. अपने-अपने इलाकों के लिए नई ट्रेनों के ऐलान से लेकर सुविधाओं की बढ़ोतरी को लेकर लोग टकटकी लगाए रहते हैं. बिहार के संदर्भ में इस बार का रेल बजट खास मायने रखता है.

दरअसल, रेल मंत्री रहते लालू प्रसाद यादव ने बिहार में कई परियोजनाओं की घोषणा की थी. हालांकि, वो अपने कार्यकाल में उसे पूरा नहीं कर पाए थे, लेकिन पूर्व-मध्य रेलवे के अधिकारियों की मानें तो मोदी सरकार में वो योजनाएं पूरी कर ली गई हैं.

पुरानी सभी रेल परियोजनाओं का काम हुआ पूरा
पूर्व मध्य रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी राजेश कुमार ने बताया कि रेल मंत्री रहते लालू प्रसाद यादव ने मधेपुरा में लोको फैक्ट्री लगाने का ऐलान किया था. अब वहां के इलेक्ट्रिक लोको फैक्ट्री-12 हजार हार्स पावर के इंजन का निर्माण शुरू हो चुका है. उन्होंने बताया कि मिनिस्ट्री ऑफ रेलवे और फ्रांस की कंपनी ऐल्सटम के साथ ज्वाइंट वेंचर में बनने वाले रेल इंजन का उपयोग भी पश्चिम रेलवे में शुरू हो चुका है.

इसके अलावा मढौरा डीजल लोकोमोटिव फैक्ट्री से इंजन का निर्माण शुरू हो गया है. लगभग 50 इंजन उत्तर भारत में चलने भी लगे हैं. यह भी मिनिस्ट्री ऑफ रेलवे और अमेरिकन कंपनी जनरल इलेक्ट्रिक ट्रांसपोर्टेशन के साथ ज्वाइंट वेंचर के जरिये बनाए गए इंजन हैं. इसके साथ ही छपरा रेल चक्का कारखाना में भी साल 2013 से निर्माण कार्य शुरू हो चुका है, इसके अतिरिक्त हरनौत वैगन रिपेयर वर्कशाप में भी कार्य शुरू हो गया है.

नई योजनाओं पर भी कार्य जारी
राजेश कुमार ने बताया कि नई योजना में 210 किलोमीटर मुजफ्फरपुर-सुगौली-बाल्मीकि नगर लाइन के डबलिंग का काम भी जारी है. 10 अप्रैल 2018 को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के शिलान्यास के बाद ही इसका निर्माण कार्य शुरू कर दिया गया था. इसके साथ गया में मेमू रिपेयरिंग कार शेड, दरभंगा समस्तीपुर रेल लाइन डबलिंग का काम, हाजीपुर-वैशाली-सुगौली के लिए नयी लाइन बिछाने का काम, सहरसा-फारबिसगंज अमान परिवर्तन का काम चल रहा है.साथ ही पटना-रांची रूट पर हजारीबाग-बरकाकाना-रांची मार्ग का निर्माण कार्य भी 31 मार्च 2021 तक पूरा हो जाएगा. रक्सौल से काठमांडू तक के लिए 136 किलोमीटर की नई रेल लाइन के लिए डीपीआर तैयार की जा रही है.

बिहार को मिलेगी नई सौगात
बता दें कि साल 1934 में आये भूकंप के दौरान क्षतिग्रस्त हुए कोसी रेल पुल को 86 साल बाद 31 मार्च 2020 तक शुरू किए जाने की उम्मीद है. इसके अलावा किउल-लखीसराय रूट पर किउल नदी पर बने 100 साल पुराने पुल की जगह बनाए गए नए पुल पर भी रेल का परिचालन 31 मार्च 2020 तक शुरू किया जा सकता है.

गौरतलब है कि पिछले बज़ट में यानी 2019-20 के लिए ईस्ट सेन्ट्रल रेलवे को 4560.12 करोड़ रुपये केन्द्र सरकार से मिला था. साल 2018-19 की तुलना में 542 करोड़ यानि 13.5 फीसदी अधिक था. इस बार देखना है कि चुनावी वर्ष में बिहार को रेल की ओर से क्या सौगात दी जाती है.

ये भी पढ़ें

लालू बनाम नीतीश: कौन होगा बिहार में 2020 का सुल्तान?

JDU ने फिर जारी किया पोस्टर, लिखा- कैदी संख्या 3351 लालू जी के ससुराल..

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 19, 2020, 9:40 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर