लाइव टीवी

शहीद रमेश के पिता बोले, मुआवजा नहीं परमवीर चक्र चाहिए

Amrendra Kumar | News18Hindi
Updated: February 6, 2020, 7:10 PM IST
शहीद रमेश के पिता बोले, मुआवजा नहीं परमवीर चक्र चाहिए
शहीद के शव पर पुष्पचक्र चढ़ाते बिहार सरकार के मंत्री सन्तोष निराला.

गांव की मिट्टी में हुआ शहीद का अंतिम संस्कार, शव यात्रा में शामिल हुए हजारों की संख्या में लोग, पूरे सूबे में शोक की लहर

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 6, 2020, 7:10 PM IST
  • Share this:
पटना. जम्मू-कश्मीर के बारामूला इलाके में आतंकियों के साथ मुठभेड़ में शहीद हुए भोजपुर के लाल रमेश रंजन का अंतिम संस्कार गुरुवार को उनके पैतृक गांव देव टोला मठिया गांव में किया गया. इस दौरान हजारों की संख्या में लोग शहीद की अंतिम यात्रा में शामिल हुए. रमेश का शव गांव पहुंचने की सूचना मिलने पर बड़ी संख्या में लोग आरा से जगदीशपुर के रास्ते में शहीद को नमन करने के लिए खड़े थे. रमेश का शव जैसे ही गांव पहुंचा सभी का रो रोकर बुरा हाल हो गया.

रमेश रंजन अमर रहे के लगे नारे
इस दौरान गांव में रमेश रंजन अमर रहे के नारे लगे. वहीं शहीद की अंतिम यात्रा में शामिल हुए लोगों ने पाकिस्तान मुर्दाबाद के भी नारे लगाए. इस दौरान बिहार सरकार के मंत्री संतोष निराला सहित सरकार के कई आला अधिकारी और स्‍थानीय नेता मौजूद थे.

पिता ने दी मुखाग्नि

रमेश रंजन के पिता राधामोहन सिंह ने अपने बेटे को मुखाग्नि दी तो माहौल और भी ज्यादा गमगीन हो गया. शहीद के पिता ने कहा कि मेरे बेटे को देश की मिट्टी से प्यार था. राधामोहन ने फक्र के सा‌थ कहा कि मुझे मेरे बेटे की शहादत पर फक्र है. उन्होंने इस दौरान कहा कि उन्हें मुआवजा नहीं चाहिए, बेटे की शहादत के लिए परमवीर चक्र, शहीद स्मारक और गांव की मुख्य सड़क का नाम रमेश के नाम पर रखा जाए.

हमेशा से ही देश सेवा का जुनून
राधामोहन सिंह के चार बेटों में रमेश सबसे छोटा था. बचपन से ही उसमें देशभक्ति का जज्बा था. 2011 में रमेश रंजन की नियुक्ति सीआरपीएफ में हो गई. इसके बाद से लगातार रमेश देश की सरहदों की रक्षा करता आ रहा था.ये भी पढ़ेंः श्रीनगर में CRPF पर हुए आतंकी हमले में भोजपुर का जवान शहीद

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 6, 2020, 7:10 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर