• Home
  • »
  • News
  • »
  • bihar
  • »
  • प्रवासी बिहारियों ने बढ़ाई नीतीश सरकार की मुश्किलें, 49 में 44 पाए गए कोरोना पॉजिटिव

प्रवासी बिहारियों ने बढ़ाई नीतीश सरकार की मुश्किलें, 49 में 44 पाए गए कोरोना पॉजिटिव

बिहार में बाहर से लौटने वाले मजदूरों का सिलसिला लगातार जारी है (सांकेतिक चित्र)

बिहार में बाहर से लौटने वाले मजदूरों का सिलसिला लगातार जारी है (सांकेतिक चित्र)

गृह मंत्रालय (MHA) के आदेश के बाद मजबूरन राज्य सरकार को प्रवासी बिहारियों (Migrant Bihari) को बिहार में एंट्री देनी पड़ी और अब सरकार के लिए बड़ी चुनौती बन गयी है क्योंकि अभी बाहर से आनेवाले श्रमिकों का सिलसिला जारी है.

  • Share this:
पटना. बिहार में कोरोना मरीजों (Corona Patients) की संख्या में तेजी से हो रहे इजाफा ने सरकार की चिंता बढ़ा दी है. बिहार के स्वास्थ्य विभाग ने खुलासा करते हुए कहा है कि कल 15 घन्टे के भीतर मिले 49 पॉजिटिव मरीजों में कुल 44 ऐसे मरीज हैं जो हाल ही में अलग-अलग राज्यों से बिहार (Migrant Bihari) पहुंचे हैं. सबसे हैरानी की बात तो ये है कि इन सभी मरीजों की बिहार पहुंचने पर दो से तीन जगहों पर स्क्रीनिंग भी की गई थी लेकिन इन्हें अधिकारियों और डॉक्टरों की टीम ने क्लीन चिट देते हुए क्वारेंटीन सेंटर (Quarantine Center) भेज दिया था जहां से सैम्पल लिए जाने के बाद पॉजिटिव रिपोर्ट का खुलासा हुआ है.

बिहार में 600 पार कर चुका है कोरोना का आंकड़ा

गृह मंत्रालय के आदेश के बाद मजबूरन राज्य सरकार को प्रवासी बिहारियों को बिहार में एंट्री देनी पड़ी और अब सरकार के लिए बड़ी चुनौती बन गयी है क्योंकि अभी बाहर से आनेवाले श्रमिकों का सिलसिला जारी है. कोरोना के बढ़ते आंकड़े और आंकड़ा 650 के करीब पहुंच जाने के बाद अब स्वास्थ्य विभाग जांच की क्षमता बढ़ाने से लेकर अस्पताल में संसाधनों का बढ़ाने का निर्णय लिया है. स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय की मानें तो किसी भी व्यक्ति का जब सैम्पल लिया जाता है तो रिपोर्ट पॉजिटिव आते ही उसे आइसोलेशन में भर्ती किया जाता है. उन्होंने कहा कि राज्य में 3 कोविड हॉस्पिटल बनाया गया है जिसमें पटना का एनएमसीएच,गया का एएनएमसीएच और भागलपुर का जेएलएनएमसीएच जिसमें कोविड के मरीजों को भर्ती किया जा रहा है.

सात जगहों पर हो रही है सैंपल की जांच

इन कोविड अस्पतालों में 2344 बेड लगे हैं जबकि 116 बेड का आईसीयू काम कर रहा है. स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि अभी राज्य के 7 जांच केंद्रों पर सैम्पल जांच की जा रही है जबकि आनेवाले कुछ दिनों में जांच के लिए यह 3 और लैब बढ़ाये जाएंगे. अब तक राज्य में लगभग 35000 सैम्पल की जांच हो चुकी है हांलाकि स्वास्थ्य मंत्री ये भी मानते हैं कि दूसरे राज्यों की तुलना में बिहार में कोरोना मरीजों की संख्या कम है बावजूद विभाग पूरा सतर्क है.

अलर्ट पर स्वास्थ्य महकमा

जांच को लेकर उन्होंने बताया कि मशीनों की खरीदारी भी शुरू हो गयी है और सीबी नेट मशीन के जरिये अब तेजी से जांच हो सकेगा जिसको लेकर 100 कॉटेज की व्यवस्था करा ली गयी है और बाकि कॉटेज की आपूर्ति के लिए आदेश जारी कर दिया गया है. साथ ही राज्य में कुछ ज़िलों में भी स्क्रीनिंग के लिए ट्रू नेट मशीन की खरीदारी की जाएगी. फिलहाल 30 ट्रू नेट मशीन भारत सरकार की तरफ से भेजी जा रही है और 10 मशीन बिहार सरकार ने खरीदने का आदेश दिया है.

रोज 1700 सैंपलों की हो रही जांच

राज्य में अभी सैम्पल जांच आरटीपीसीआर मशीन के जरिये की जा रही है लेकिन अब सरकार हाईटेक ऑटोमेटिक मशीन भी खरीदने जा रही है. उन्होंने बताया कि अभी राज्य में एक दिन में 1700 सैम्पल जांच की क्षमता है और अगले 2 से 3 दिनों में राज्य में 2600 जांच एक दिन में कराई जाएगी. जाहिर है स्वास्थ्य मंत्री ने खुद कोरोना को अदृश्य दुश्मन बताते हुए व्यवस्था का हवाला दिया है अब देखना है कि आनेवाले वक्त में कोरोना जैसी महामारी को सरकार कैसे नियंत्रण में लाती है.

ये भी पढ़ें- बिहार में फिर से कोरोना का कहर, 18 नए केस के साथ 629 हुई मरीजों की संख्या

ये भी पढ़ें- जेल में बंद लालू को सुशील कुमार मोदी ने दी 'गंगाजल' और 'अपहरण' देखने की सलाह

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन