लाइव टीवी

बिहार में प्रवासी मजदूरों को भी मिलेगा काम, सरकार कर रही 1.10 लाख लोगों के रोजगार का इंतजाम!
Patna News in Hindi

jyoti mishra | News18 Bihar
Updated: May 20, 2020, 7:04 AM IST
बिहार में प्रवासी मजदूरों को भी मिलेगा काम, सरकार कर रही 1.10 लाख लोगों के रोजगार का इंतजाम!
बिहार सरकार कृषि विभाग के माध्यम से रोजगार का दावा कर रही है.

कोरोना महामारी (Corona epidemic) के इस दौर में सबसे ज्यादा परेशानी प्रवासी मजदूर (Migrant laborers) व कामगारों के बीच देखने को मिल रही है.

  • Share this:
​पटना. कोरोना महामारी (Corona epidemic) के इस दौर में सबसे ज्यादा परेशानी प्रवासी मजदूर (Migrant laborers) व कामगारों के बीच देखने को मिल रही है. ज्यादातर लोग बेरोजगार हो गए हैं. ऐसे में बिहार सरकार के कृषि विभाग द्वारा जरूरतमंद कामगारों को रोजगार की उचित व्यवस्था करने का दावा किया जा रहा है. इसके तहत पलायन कर आए प्रवासी मजदूरों को भी काम देने का दावा सरकार कर रही है. कृषि विभाग के जिम्मेदारों का कहना है कि कोरोना काल में जब मजदूर और कामगार बेरोजगार हो गए हैं. ऐसे में विभाग कि कोशिश है वो ज्यादा से ज्यादा रोजगार सृजित कर पाएं.

बिहार सरकार में कृषि मंत्री डाॅ. प्रेम कुमार ने कहा कि कृषि विभाग के भूमि संरक्षण निदेशालय के जरिए हम कोविड-19 के संक्रमण काल में आधारभूत जल संचयन संरचनाओं के निर्माण में चाहते हैं. ताकि ज्यादा से ज्यादा मजदूर और कामगारों को काम दे पाएं. यानी कृषि विभाग मानव कार्य दिवस सृजित करने का कार्य कर रही है. भूमि संरक्षण निदेशालय में मुख्य रूप से राज्य योजना के अंदर पक्का चेक डैम, सोक पीट, साद अवरोधक बांध, जल संचयन तालाब, शुष्क बागवानी , कृषि वानिकी के पौधारोपण और स्टैगर्ड कंटूर ट्रेंचेस का काम, प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के तहत निजी बोरवेल और तालाब निर्माण एवं राष्ट्रीय कृषि विकास योजना की उप योजना पूर्वी भारत की हरित क्रांति योजना के तहत सामुदायिक सिंचाई कूप निर्माण का कार्य किया जाता है. इसके साथ ही जल जीवन हरियाली योजना के अंदर खेतों में जल संचयन के लिए आधारभूत संरचना का निर्माण किया जाता है.

किन-किन जिलों में फायदा
कृषि मंत्री डॉ. कुमार ने बताया कि राज्य के 17 जिलों में कोरोना संक्रमण के इस समय में जरूरतमंद कामगारों को रोजगार देने के लिए कुल 2815 तरह की नई एवं पुरानी योजनाओं के अंतर्गत निर्माण का कार्य किया जा रहा है. मुख्य रूप से राज्य के पठारी क्षेत्रों यथा जमुई में 649, कैमूर में 523, नवादा में 334, गया में 168, बांका में 133 के साथ-साथ नालन्दा में 204, भोजपुर में 230 तरह की योजनाओं का काम चल रहा है. इन योजनाओं को सफल बनाने में तत्पर है कि कोरोना संक्रमण के दौरान 1.10 लाख से अधिक मानव कार्य दिवस का सृजन कृषि विभाग के भूमि संरक्षण निदेशालय कररहा है. डाॅ. कुमार ने कहा कि राज्य में बाहर से आये प्रवासी मजदूरों को रोजगार के अवसर प्रदान करने में कृषि विभाग अहम भूमिका निभा रही है. विभाग मानव दिवस के सृजन के साथ ही राज्य में वर्षा वाले क्षेत्रों में फसलों के उत्पादन एवं उत्पादकता और हरित आवरण को बढ़ाने के लिए काम कर रहा है. कृषि विभाग इसके अतिरिक्त भी पलायन से वापस लौटे कामगारों को बड़े पैमाने पर रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने की लिए योजना तैयार कर रही है, जिससे बड़े पैमाने पर स्थायी रोजगार के अवसर भी मिल पाएंगे.



ये भी पढ़ें:


3 महीने लॉज में साथ रहने के बाद प्रेमी ने किया घर ले जाने से इनकार, प्रेमिका ने कोर्ट की छत से लगा दी छलांग

एक आम के लिए दबंगों ने 2 बच्चियों को बनाया बंधक, पिटाई की और गर्म लोहे से दागा!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 20, 2020, 7:04 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading