Assembly Banner 2021

Bihar News: जब नीतीश कुमार के सामने ही उनके मंत्री ने तेजस्वी यादव को दे डाली फरिया लेने की दी चेतावनी

बिहार के मंत्री रामसूरत राय के साथ तेजस्वी यादव की फोटो (फाइल)

बिहार के मंत्री रामसूरत राय के साथ तेजस्वी यादव की फोटो (फाइल)

Bihar Assembly Budget Session: बिहार सरकार में मंत्री रामसूरत राय के भाई का नाम तथाकथित रूप से शराब माफियाओं से जोड़ने पर हंगामा मचा हुआ है.

  • Share this:
पटना. बिहार में नीतीश सरकार (Nitish Government) के एक मंत्री के भाई का संबंध शराब कारोबारियों से होने का मामला लगातार तूल पकड़ रहा है. इसको लेकर विधानसभा (Bihar Assembly) में रोज हंगामा हो रहा है. राजस्व एवं भूमि सुधार मंत्री रामसूरत राय के भाई का शराब माफियाओं से संबंध होने के सवाल पर तेजस्‍वी यादव (Tejashwi Yadav) के खानदान का जिक्र तक आ गया. इसको लेकर मंगलवार को विधानसभा में ज़ोरदार हंगामा हुआ. हंगामा इतना बढ़ गया की दोनों पक्षों के बीच टकराव की नौबत आ गई.

तेजस्वी यादव ने बिहार सरकार के भू-राजस्व मंत्री रामसूरत राय पर जो आरोप लगाया था, उस पर मंत्री ने विधानसभा में अपनी बात रखी. सदन में मंत्री ने अपना पक्ष रखने का समय मांगा था, जिसके बाद गृह विभाग के बजट के बाद उन्हें मौक़ा दिया गया. जैसे ही रामसूरत राय बोलने उठे तेजस्वी यादव खड़े हो गए, जिसके बाद रामसूरत राय ने ऐसा बयान दे दिया जिससे सदन में ज़ोरदार हंगामा शुरू हो गया.

रामसूरत राय ने कह दिया कि मेरे ख़ानदान पर दाग लगाने वाले को सोचना चाहिय कि मेरा ख़ानदान कैसा है और आपका खानदान कैसा है. इतना ही नहीं रामसूरत राय ने तेजस्वी यादव को गांधी मैदान में फरिया लेने की चेतावनी तक दे डाली. दरअसल, विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने अपने भाषण में मुजफ्फरपुर शराबकांड का जिक्र किया था. उन्होंने किसी का नाम नहीं लिया, लेकिन सत्ता पक्ष से आवाज आने लगी कि मंत्री को अपना पक्ष रखने का अवसर मिलना चाहिए.



विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि वह उन्हें भी अवसर देंगे, जिसके बाद बात खत्म हो गई. सदन की कार्यवाही सामान्य ढंग से चलने लगी. विभिन्न विभागों का बजट पारित कराने के बाद अध्यक्ष ने रामसूरत राय को अपना पक्ष रखने के लिए कहा. वो बोलने के लिए उठे ही थे कि तेजस्वी ने कहा कि पहले वह अपना पक्ष रख लें. अध्यक्ष ने उन्हें यह कहकर रोका आप मंत्री के बारे में बोल चुके हैं, जिसके बाद मंत्री बोलने लगे.
मंत्री रामसूरत राय खुद को बेकसूर बता रहे थे. उन्‍होंने कहा कि मुजफ्फरपुर जिले में उनके परिवार की कितनी इज्जत है. गवाह के तौर पर उन्होंने अपने जिले से जुड़े पक्ष-विपक्ष के कई सदस्यों का नाम लिया. वो शराबकांड के बारे में बताने के दौरान बोल गए- मेरे खानदान के बारे में लोग जानते हैं और इनके खानदान के बारे में भी सब लोग जानते हैं. मंत्री का इतना कहना था कि राजद के साथ सभी विपक्षी सदस्य जोर-जोर से बोलने लगे.

तेजप्रताप यादव ने अपने सदस्यों को सदन के बीच में जाने का इशारा किया. विपक्ष के कई सदस्य सदन के बीच में आ भी गए. प्रतिक्रिया में सत्तापक्ष के सदस्य भी नारेबाजी करते हुए अपनी सीट से निकलने की कोशिश करने लगे. शोर-शराबा और दोनों पक्षों के तीखे तेवर को देखते हुए अध्यक्ष ने सदन की कार्यवाही बुधवार के लिए स्थगित कर दी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज