मिशन चंद्रयान -2: रामविलास पासवान ने पीएम मोदी को बताया 'असली लीडर', जानें और क्या कहा...

News18 Bihar
Updated: September 7, 2019, 11:49 AM IST
मिशन चंद्रयान -2: रामविलास पासवान ने पीएम मोदी को बताया 'असली लीडर', जानें और क्या कहा...
उपभोक्ता मामलों के मंत्री रामविलास पासवान ने इसरो वैज्ञानिकों की हौसला अफजाई करने पर पीएम मोदी को असली लीडर कहा. (फाइल फोटो)

संबोधन के बाद पीएम मोदी बाहर निकले और भावुक इसरो चीफ फफककर रो पड़े. पीएम मोदी ने तत्काल उन्हें गले लगा लिया और हिम्मत दी.

  • News18 Bihar
  • Last Updated: September 7, 2019, 11:49 AM IST
  • Share this:
पटना. चंद्रयान-2 (Chandrayaan- 2) का चांद की सतह पर उतरने से ठीक पहले इसरो (ISRO) परिसर स्थित कंटोल रूम (Controll Room) से संपर्क टूट गया. इससे वैज्ञानिकों के चेहरे पर मायूसी छा गई. इस असफलता के बाद भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने वैज्ञानिकों का हौसला बढ़ाया और उन्होंने इसरो के कंट्रोल सेंटर (Controll Center) से देश को भी संबोधित किया. इसके बाद एक पल ऐसा भी आया जब इसरो चीफ के सिवन (ISRO Chief K Siwan) और पीएम मोदी दोनों ही भावुक हो गए.

पीएम मोदी ने इसरो चीफ को गले लगाया
दरअसल इसरो कंट्रोल रूम में वैज्ञानिकों को दिए संबोधन के बाद पीएम बाहर निकले और भावुक इसरो चीफ फफककर रो पड़े. पीएम मोदी ने तत्काल उन्हें गले लगा लिया और हिम्मत दी. इस पल को पूरे देश ने टेलिविजन पर देखा.

पासवान ने पीएम मोदी को असली लीडर कहा

इसी पल के वीडियो को केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने अपने ट्वीटर हैंडल से शेयर किया और पीएम मोदी को असली लीडर बताया. उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा, असली लीडर वही होता है जो मुश्किल घड़ी में भी अपनी टीम के साथ मजबूती से खड़ा रहे और उसका हौसला बढ़ाए.

पासवान ने आगे लिखा कि देश की 130 करोड़ जनता को गर्व है अपने वैज्ञानिकों पर और पूरा विश्वास है कि आप अपनी मंजिल हासिल करेंगे और पूरी मजबूती से भविष्य के अभियानों को जारी रखेंगे.



पीएम मोदी ने वैज्ञानिकों का हौसला बढ़ाया
इस वी़डियो में देखा जा सकता है कि पीएम ने इसरो चीफ के सिवन की पीठ थपथपाई और उन्हें गले लगाया. इससे पहले  पीएम ने कहा कि हर मुश्किल, हर संघर्ष, हर कठिनाई, हमें कुछ नया सिखाकर जाती है, कुछ नए आविष्कार, नई टेक्नोलॉजी के लिए प्रेरित करती है और इसी से हमारी आगे की सफलता तय होती हैं.

उन्होंने कहा कि ज्ञान का अगर सबसे बड़ा शिक्षक कोई है तो वो विज्ञान है. विज्ञान में विफलता नहीं होती, केवल प्रयोग और प्रयास होते हैं. मैं सभी अंतरिक्ष वैज्ञानिकों के परिवार को भी सलाम करता हूं.

ये भी पढ़ें- 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 7, 2019, 11:29 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...