बिहार पुलिस पर कोरोना अटैक, 200 से अधिक खाकी वाले पॉजिटिव, कई तोड़ चुके हैं दम

बिहार में 200 से अधिक पुलिवाले कोरोना के कहर का सामना कर चुके हैं (सांकेतिक चित्र)

बिहार में 200 से अधिक पुलिवाले कोरोना के कहर का सामना कर चुके हैं (सांकेतिक चित्र)

Bihar Police Corona Guideline: बिहार पुलिस ने अपने विभाग में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए कई तरह के दिशा निर्देश जारी किए हैं. इसके तहत कई अधिकारियों को भी स्पेशल टास्क दिए गए हैं.

  • Share this:
पटना. बिहार में कोरोना के संक्रमण से सिर्फ आम अवाम और सियासतदान ही संक्रमित नहीं हुए हैं बल्कि कोरोना ने अपना प्रकोप बिहार पुलिस (Bihar Police) महकमे पर भी बरपा रखा है. बिहार पुलिस मुख्यालय से मिली जानकारी के मुताबिक अबतक 210 से अधिक पुलिसकर्मी और पुलिस पदाधिकारी से लेकर आला पुलिस अधिकारी तक कोरोना (Corona Positive) की चपेट में आ चुके हैं जिनका इलाज जारी है. कई पुलिसकर्मी और पुलिस पदाधिकारी ऐसे भी रहे जिन्होंने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया.

कोरोना से संक्रमित होने के कारण पुलिस पदाधिकारी और जवानों की हुई असमय मौत ने पुलिस मुख्यालय में बैठे आला पुलिस अधिकारियों की परेशानी बढ़ा दी है. आनन-फानन में DG टीम ने एक अहम बैठक की. घण्टों चली इस बैठक में ADG पुलिस मुख्यालय, ADG लॉ एंड ऑर्डर, IG PHQ से लेकर कई और आला पुलिस अधिकारी शामिल थे. इन आला पुलिस अधिकारियों ने मुख्यालय से लेकर थाना स्तर तक तैनात पुलिस पदाधिकारी और जवानों के लिये कई दिशा-निर्देश जारी किये जिसका अनुपालन आज से थाना के SHO से लेकर वहां पदस्थापित पुलिसकर्मी कर रहे हैं.

ये हैं वो गाइडलाइन 

कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए बिहार पुलिस मुख्यालय ने जो निर्देश जारी किए हैं उसके मुताबिक थाना स्तर से लेकर जिला मुख्यालय तक तैनात पुलिसकर्मियों को मास्क लगाना अनिवार्य किया गया है. बाहरी व्यक्तियों की थाने में इंट्री के दौरान थर्मल स्क्रीनिंग करने को कहा गया
है. यथासंभव हो तो कार्यालय में बाहरी लोगों के प्रवेश पर नियंत्रण रखी जाने, उम्र और स्वास्थ्य के आधार पर कर्मियों पर विशेष ध्यान दिया जाने का भी जिक्र है. पुलिस केंद्रों में स्थित पुलिस पदाधिकारी पुलिसकर्मी कोविड 19 से संक्रमित हों तो उनके लिये अलग रहने, मेस एवं शौचालय की व्यवस्था पुलिस केंद्रों के समीप ही की जाएगी.

पुलिस बल में कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम एवं संक्रमित पुलिस पदधिकारियों / कर्मियों की बेहतर उपचार उपलब्ध कराने हेतु क्षेत्रीय पुलिस महानिरीक्षकों / पुलिस उप महानिरीक्षकों को उनके क्षेत्रान्तगर्ता नोडल पदाधिकारी नियुक्त किये गये हैं. पुलिस महानिरीक्षक (मुख्यालय) नोडल पदाधिकारी के रूप में कार्य करेंगे एवं इस कार्य में सहयोग देने हेतु पुलिस उप महानिरीक्षक (कार्मिक) पुलिस महानिरीक्षक के सहायक (निरीक्षण) एवं पुलिस उपाधीक्षक सह  प्रभारी महानिदेशक नियंत्रण कक्ष प्रतिनियुक्त किये गये है.

सबसे बड़ी बात यह है कि थाना का सीधा सरोकार आम जन मानस से होता है जिसके तहत पुलिस पदधिकारियों को ना चाह कर भी थाना में आये फरियादियों की ना सिर्फ फरियाद शिकायत सुननी पड़ती है बल्कि उसका हल भी निकालना पड़ता है. ऐसे में देखा जाए तो कोविड 19 को देखते हुए जो गाइडलाइन पुलिस मुख्यालय ने अपने अधीनस्थों को जारी की है वो कोरोना से इन पुलिसकर्मियों को कितना हद तक संक्रमित होने से बचाता है यह तो आने वाला समय ही तय करेगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज