Bihar Floods: बाढ़ से बिगड़े बिहार के हालात, अब तक 16 जिलों की 63.60 लाख आबादी प्रभावित
Patna News in Hindi

Bihar Floods: बाढ़ से बिगड़े बिहार के हालात, अब तक 16 जिलों की 63.60 लाख आबादी प्रभावित
बाढ़ की वजह से बिहार में अब तक 19 लोगों की मौत हो चुकी है.

बाढ़ (Flood) का कहर बिहार के 16 जिलों में जारी है और अब तक इससे 63.60 आबादी प्रभावित हो चुकी है. जबकि दरभंगा जिले में सबसे अधिक 15 प्रखंडों की 199 पंचायतों की 1861960 आबादी बाढ़ से प्रभावित हुई है. वहीं, सीएम नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने हवाई सर्वेक्षण द्वारा हालात का जायजा लिया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 5, 2020, 11:45 PM IST
  • Share this:
पटना. बिहार के 16 जिलों में बाढ़ (Flood) का कहर जारी है और अब तक इससे 63 से अधिक आबादी प्रभावित हो चुकी है. जबकि बिहार सरकार (Bihar Government)बाढ़ आपदा से निपटने के लिए हर संभव प्रयास कर रही है और अब तक 418490 लोगों को सुरक्षित ठिकानों तक पहुंचाया गया है. वहीं, हवाई सर्वेक्षण द्वारा मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने हालात का जायजा लिया है.

आपदा प्रबंधन विभाग ने कही ये बात
आपदा प्रबंधन विभाग के मुताबिक, बिहार राज्य के 16 जिलों- सीतामढ़ी, शिवहर, सुपौल, किशनगंज, दरभंगा, मुजफ्फरपुर, गोपालगंज, पूर्वी चम्पारण, पश्चिम चंपारण, खगडिया, सारण, समस्तीपुर, सिवान, मधुबनी, मधेपुरा और सहरसा जिले के 120 प्रखंडों के 1152 पंचायतों की 6360424 आबादी बाढ़ से प्रभावित है. बाढ़ प्रभावित इलाकों से बाहर निकाले गये 440507 लोगों में से 17916 ने 17 राहत शिविरों में शरण ले रखी है. इसके अलावा बाढ़ के कारण विस्थापित लोगों को भोजन कराने के लिए 1365 सामुदायिक रसोई की व्यवस्था की गयी है जहां अब तक 952481 लोगों को भोजन मिला है.

दरभंगा में बाढ़ का सबसे अधिक असर
आपदा प्रबंधन विभाग के मुताबिक, दरभंगा जिले में सबसे अधिक 15 प्रखंडों की 199 पंचायतों की 1861960 आबादी बाढ़ से प्रभावित हुई है.  बिहार के बाढ़ प्रभावित इन जिलों में बचाव और राहत कार्य चलाए जाने के लिए एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की कुल 33 टीमों की तैनाती की गयी हैं.



इन नदियों ढहाया कहर
बिहार के इन जिलों में बाढ़ का कारण अधवारा समूह नदी, लखनदेई, रातो, मरहा, मनुसमारा, बागमती, अधवारा समूह, कमला बलान, गंडक, बूढ़ी गंडक, कदाने, नून, वाया, सिकरहना, लालबेकिया, तिलावे, धनौती, मसान, कोशी, गंगा, कमला बलान, करेह एवं धौंस नदी में जलस्तर का बढ़ना है. जबकि जल संसाधन विभाग के मुताबिक, बागमती नदी सीतामढी, मुजफ्फरपुर एवं दरभंगा में, बूढी गंडक नदी मुजफ्फरपुर, समस्तीपुर एवं खगडिया में, कमला बलान नदी मधुबनी में, लालबकिया नदी पूर्वी चंपारण में, गंगा नदी भागलपुर में, अधवारा नदी सीतामढी में, खिरोई दरभंगा में और घाघरा नदी सिवान में बुधवार को खतरे के निशान से उपर बह रही थी. वहीं, जल संसाधन विभाग के अनुसार विभाग के अंतर्गत सभी बाढ़ सुरक्षात्मक बांध सुरक्षित हैं.

अब तक 19 लोगों की मौत
उल्लेखनीय है कि बिहार में अबतक बाढ से कुल 19 लोगों की मौत हो चुकी है जिनमें सबसे अधिक सात लोगों की दरभंगा जिले में, तो मुजफ्फरपुर में छह, पश्चिम चंपारण में चार तथा सिवान में दो व्यक्तियों की जान चली गयी.

सीएम ने किया हवाई सर्वेक्षण
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बुधवार को पुहिया, राजघाट ब्रिज, कोल्हुआघाट ब्रिज, कंकरघाट ब्रिज, बुनियादपुर, मझरिया, बरियाहीघाट ब्रिज, हथौरी ब्रिज, बरछिया, हायाघाट, एकमीघाट और बिरनी में तटबंधों का हवाई सर्वेक्षण किया. लगभग डेढ़ घंटे के हवाई सर्वेक्षण के उपरांत मुख्यमंत्री दरभंगा हवाइ अड्डे पर उतरे और सीधे उच्चत्तर माध्यमिक विद्यालय मखनाही में स्थापित बाढ़ राहत शिविर एवं सामुदायिक किचन के निरीक्षण के लिये चल पड़े. मुख्यमंत्री ने आपदा राहत शिविर में रह रहे लोगों से बातचीत कर वहां उपलब्ध करायी जा रही व्यवस्थाओं के बारे में जानकारी ली. इसके अलावा उन्होंने रसोई घर, चिकित्सकीय सुविधाओं, आवासित कमरों का जायजा लिया तथा बच्चों के बीच बिस्कुट भी वितरित किये. वहीं, मुख्यमंत्री ने कोरोना के बढते प्रकोप के मद्देनजर शिविर में रह रहे सभी लोगों का एंटीजन टेस्ट और आरटीपीसीआर टेस्ट कराने का निर्देश देने के साथ प्रति दिन लोगों को काढ़ा भी उपलब्ध कराने को कहा है. दरभंगा में बाढ़ राहत शिविर के निरीक्षण के उपरांत मुख्यमंत्री ने चम्पारण तटबंध एवं गोपालगंज जिले के विभिन्न तटबंधों का लगभग एक घंटे हवाई सर्वेक्षण किया और अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिये. जबकि हवाई सर्वेक्षण में मुख्यमंत्री के साथ मुख्य सचिव दीपक कुमार और सीएम के प्रधान सचिव चंचल कुमार भी थे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज