Bihar Chunav: RJD के 73 तो BJP के 72 फीसदी प्रत्याशियों पर क्रिमिनल केस, पढ़ें ADR रिपोर्ट की 10 प्रमुख बातें

Bihar Chunav 2020: बिहार विधानसभा चुनाव से पहले ADR ने उम्मीदवारों के क्रिमिनल रिकॉर्ड की रिपोर्ट जारी की है.
Bihar Chunav 2020: बिहार विधानसभा चुनाव से पहले ADR ने उम्मीदवारों के क्रिमिनल रिकॉर्ड की रिपोर्ट जारी की है.

Bihar Assembly elections: बिहार चुनाव के पहले चरण में उतरे 1064 उम्मीदवारों में से 328 पर क्रिमिनल केस दर्ज हैं. ADR की रिपोर्ट के मुताबिक 244 उम्मीदवारों ने अपने ऊपर गंभीर किस्म के आपराधिक मामले दर्ज होने की भी जानकारी दी है. इनमें BJP और RJD के प्रत्याशियों की संख्या सबसे ज्यादा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 21, 2020, 12:51 PM IST
  • Share this:
पटना. बिहार में हो रहे विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly elections) के पहले चरण का मतदान 28 अक्टूबर को होना है. मतदान (Voting) की तिथि करीब आने के साथ ही सियासी दलों का चुनाव प्रचार अपने शबाब पर पहुंच चुका है. लेकिन इससे पहले बिहार इलेक्शन वॉच (Bihar Election Watch) और एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स यानी एडीआर (ADR) ने पहले चरण के चुनाव में उतरे उम्मीदवारों के क्रिमिनल रिकॉर्ड्स (Criminal Record) की जांच की, तो आंकड़े चौंकाने वाले निकले. एडीआर की रिपोर्ट के मुताबिक पहले चरण के 1064 उम्मीदवारों में से 328 के खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज हैं. वहीं 244 प्रत्याशियों पर गंभीर किस्म के आपराधिक मामलों में शामिल होने की जानकारी सामने आई है. आइए ADR Report के चुनिंदा तथ्यों पर एक नजर डालते हैं.
बिहार इलेक्शन वॉच और ADR ने बिहार चुनाव के पहले चरण के मतदान के लिए विभिन्न दलों या निर्दलीय के तौर पर मैदान में उतरे कुल 1066 में से 1064 उम्मीदवारों के शपथ पत्रों का विश्लेषण कर इनके आपराधिक इतिहास की जानकारी जुटाई है.
पहले चरण के चुनाव के लिए भागलपुर, बांका, मुंगेर, लखीसराय, शेखपुरा, पटना, भोजपुर, बक्सर, कैमूर, रोहतास, अरवल, जहानाबाद, औरंगाबाद, गया, नवादा और जमुई जिले की विधानसभा सीटों के उम्मीदवारों के क्रिमिनल रिकॉर्ड की पड़ताल की गई.
बिहार इलेक्शन वॉच ने इन 16 जिलों की 70 विधानसभा सीटों पर चुनाव मैदान में उतरे 1064 उम्मीदवारों के आपराधिक इतिहास की पड़ताल के बाद ये रिपोर्ट जारी की है. रिपोर्ट में आपराधिक इतिहास के साथ-साथ उम्मीदवारों द्वारा घोषित संपत्ति के बारे में भी जानकारी दी गई है.
ADR की रिपोर्ट के मुताबिक 1064 में से 328 यानी 31 फीसदी उम्मीदवारों ने अपने ऊपर आपराधिक मामले घोषित किए हैं. वहीं, 244 यानी 23 प्रतिशत प्रत्याशियों पर गंभीर किस्म के आपराधिक मामले घोषित हैं.
पहले चरण के चुनाव में राजद के 73, बीजेपी के 72, लोजपा के 59, कांग्रेस के 57, जेडीयू के 43 और बीएसपी के 31 फीसदी उम्मीदवारों पर क्रिमिनल केस हैं. वहीं, राजद के 54, बीजेपी के 45, लोजपा के 49, कांग्रेस के 43, जेडीयू के 29 और बीएसपी के 19 प्रतिशत उम्मीदवारों ने गंभीर किस्म के आपराधिक मामलों में शामिल होने की जानकारी दी है.
आरजेडी के 41 में से 30, बीजेपी के 29 में से 21, लोजपा के 41 में से 24, कांग्रेस के 21 में से 12, जेडीयू के 35 में से 15 और बीएसपी के 26 में से 8 उम्मीदवारों पर आपराधिक मामले होने की जानकारी आई है.
वहीं गंभीर किस्म के आपराधिक मामलों में आरजेडी के 41 में से 22, लोजपा के 41 में से 20, बीजेपी के 29 में से 13, कांग्रेस के 21 में से 9, जेडीयू के 35 में से 10 और बीएसपी के 26 में से 5 उम्मीदवार शामिल हैं.
बिहार चुनाव के पहले चरण के मतदान के लिए मैदान में उतरे 29 प्रत्याशियों ने महिलाओं के ऊपर अत्याचार से संबंधित मामले घोषित किए हैं. इनमें से 3 प्रत्याशियों ने तो रेप के मामलों में शामिल होने की भी जानकारी दी है.
हत्या से संबंधित मामलों की जानकारी 21 उम्मीदवारों ने सार्वजनिक की है. वहीं, 62 उम्मीदवारों ने अपने ऊपर हत्या का प्रयास का मामला दर्ज होने की जानकारी भी घोषित की है.
बिहार चुनाव के पहले चरण में 5 करोड़ से ज्यादा की संपत्ति वाले 93 उम्मीदवार अपनी किस्मत आजमा रहे हैं. वहीं 2 करोड़ रुपए से अधिक की संपत्ति वाले प्रत्याशियों की संख्या 123 और 50 लाख से 2 करोड़ तक की संपत्ति वाले उम्मीदवारों की संख्या 301 है. 10 लाख रुपए से कम की संपत्ति वाले 232 प्रत्याशी चुनाव मैदान में उतरे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज