कश्मीर में शहीद हुए बिहार के लाल कैप्टन आशुतोष कुमार का पार्थिव शरीर पहुंचा पटना, केन्द्रीय मंत्री नित्यानन्द राय ने दी श्रद्धांजलि

शहीद कैप्टन आशुतोष कुमार मधेपुरा के रहने वाले थे.
शहीद कैप्टन आशुतोष कुमार मधेपुरा के रहने वाले थे.

पटना एयरपोर्ट से कैप्टन आशुतोष कुमार के पार्थिव शरीर को उनके पैतृक गांव ले जाया गया. केंद्रीय राज्य मंत्री नित्यानन्द राय (Nityanand Rai) ने कहा कि जिस बहादुरी से कैप्टन ने दुश्मनों का मुकाबला किया, उनके जज्बे को सलाम है.

  • Share this:
पटना. विगत दिनों आतंकवादियों (Terrorist) से लोहा लेते हुए कश्मीर में शहीद (Martyr) हुए मधेपुरा के लाल कैप्टन आशुतोष कुमार का पार्थिव शरीर मंगलवार को पटना एयरपोर्ट पहुंचा. एयरपोर्ट पर डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी, केंद्रीय राज्य मंत्री नित्यानन्द राय, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ. संजय जायसवाल, स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे सहित लोजपा के नेताओं ने श्रद्धांजलि दी.

पटना एयरपोर्ट से कैप्टन आशुतोष कुमार के पार्थिव शरीर को उनके पैतृक गांव ले जाया गया. केंद्रीय राज्य मंत्री नित्यानन्द राय ने कहा कि जिस बहादुरी से कैप्टन आशुतोष ने दुश्मनों का मुकाबला किया, उनके जज्बे को सलाम है. वहीं बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल ने भी शहीद कैप्टन की शहादत को सलाम किया.

बताते चलें कि पिछले दिनों जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा सेक्टर के माछिल इलाके में आतंकियों के घुसपैठ को नाकाम करने के दौरान बीएसएफ के कैप्टन आशुतोष कुमार समेत चार जवान शहीद हो गए थे. कैप्टन आशुतोष कुमार मधेपुरा जिले के घैलाढ़ प्रखंड के भतरंधा परमानंदपुर पंचायत के जागीर टोला वार्ड-17 के रहने वाले थे. उनके पिता रविंद्र भारती घैलाढ़ पशु अस्पताल में अनुसेवक हैं. आशुतोष की दो साल पूर्व ही नौकरी लगी थी. वह नौ माह से बॉर्डर पर तैनात थे. शहीद कैप्टन की दो बहनें हैं.



रविवार को बीएसएफ के 12 जवानों की टीम पाकिस्तानी बार्डर से सटे माछिल इलाके में पेट्रोलिंग कर रही थी. इसी दौरान पांच आतंकियों को पाकिस्तान की ओर से घुसपैठ करते देखा गया. इसके बाद मुठभेड़ शुरू हो गई. इसमें कैप्टन आशुतोष ने दो आतंकियों को मार गिराया. हालांकि बाद में आतंकियों की गोलीबारी में आशुतोष समेत चार जवान शहीद हो गए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज