लाइव टीवी

AES से बच्चों की मौत के सवाल पर केंद्रीय स्वास्थ्य राज्‍य मंत्री अश्विनी चौबे बोले सॉरी

News18 Bihar
Updated: June 22, 2019, 6:40 PM IST

केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्वनी चौबे ने एईएस से बच्चों की हो रही मौत पर प्रतिक्रिया देने से इनकार कर दिया. मुजफ्फरपुर में इंसेफेलाइटिस से डेढ़ सौ से ज्‍यादा बच्‍चों की मौत हो चुकी है.

  • Share this:
बिहार में एक्यूट इन्सेफेलाइटिस सिंड्रोम (एईएस) यानी चमकी बुखार से बच्चों की मौत का सिलसिला लगातार जारी है. इस बीच, केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्विनी चौबे ने एईएस से बच्चों की हो रही मौत पर प्रतिक्रिया देने से इनकार कर दिया. इस बाबत बार-बार सवाल पूछे जाने पर केंद्रीय मंत्री सॉरी बोल कर चलते बने. दरअसल, बीजेपी नेताओं की बैठक समाप्त होने के बाद वहां से सभी निकल रहे थे. लेकिन, चमकी बुखार से हो रही मौतों पर किसी ने भी सवालों का जवाब नहीं दिया.

गौरतलब है कि बिहार में एईएस से बच्चों की मौत का आंकड़ा 167 पार कर चुका है. वहीं, करीब 650 से अधिक मरीज प्रभावित हुए हैं. केवल मुजफ्फरपुर में ही एईएस से 129 बच्चे असमय काल के गाल में समा चुके हैं. बता दें कि मुजफ्फरपुर जिले में ही अब तक 580 बच्चे एईएस बीमारी से प्रभावित हो चुके हैं.

केंद्र से विशेषज्ञ डॉक्टरों की टीम पहुंची
उल्लेखनीय है कि शुक्रवार को केंद्र सरकार के अपर सचिव मनोज झलानी, एडीशनल हेल्थ सेक्रेटरी (बिहार) कौशल किशोर, दिल्ली के शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ. अरुण कुमार सिंह, दिल्ली से संक्रामक रोग विशेषज्ञ डॉ. सत्यम, बिहार के कार्यपालक निदेशक मनोज कुमार और जिलाधिकारी आलोक रंजन घोष एसकेएमसीएच पहुंचे. उन्होंने पीआईसीयू का निरीक्षण कर पीड़ित बच्चों का हाल जाना और डॉक्‍टर्स के साथ बैठक की.

सीपीई नेता कन्हैया कुमार ने SKMCH जाकर बीमार बच्चों से मिले और उनका हालचाल जाना. बच्चों से मुलाकात के बाद कन्हैया ने बोला कि अभी सभी को प्रार्थना करने की जरुरत है, अभी राजनीति की बातों का सही वक्त नहीं है. वहीं, अस्पताल की बदहाल व्यवस्था पर कन्हैया ने चुप्पी आश्चर्यजनक है.

ये भी पढ़ें: बिहार: कन्हैया को SKMCH गेट पर रोका, बोले- प्रार्थना का वक्त

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 22, 2019, 5:34 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...