देश के टॉप-10 मंदिरों के भोग में शामिल हुआ पटना महावीर मंदिर का नैवेद्यम, FSSAI ने दिया सर्टिफिकेट

पटना हनुमान मंदिर का नैवेद्यम प्रसाद

पटना हनुमान मंदिर का नैवेद्यम प्रसाद

Patna News: पटना के हनुमान मंदिर का नैवेद्यम प्रसाद लोगों के बीच खासा लोकप्रिय है. ये प्रसाद शुद्ध घी से बनता है. FSSAI के CEO ने इस रिपोर्ट के आधार पर ब्लेजफुल हाइजीन आफरिंग टू गॉड का प्रमाण-पत्र जारी किया है.

  • Share this:

पटना. पटना के महावीर मंदिर (Mahaveer Mandir Patna) में भगवान हनुमान को भोग लगाया जाने वाला नैवेद्यम पूरी तरह से शुद्ध है. महावीर मंदिर के विशेष प्रसाद नेवेद्यम को भारत सरकार के खाद्य मंत्रालय से सर्टिफिकेट मिला है. इसकी शुद्धता की गारंटी FSSAI खाद्य सुरक्षा एवं प्राधिकरण ने ली है. भारत सरकार के खाद्य मंत्रालय के द्वारा ' भोग ' सर्टिफिकेट महावीर मंदिर के नैवेद्यम लड्डू (Naivadyam Laddu) को दिया गया है. इसकी जानकारी महावीर मंदिर के प्रमुख आचार्य किशोर कुणाल ने दी है.

इस बारे में जानकारी देते हुए किशोर कुणाल ने बताया कि खाद्य सुरक्षा विभाग के अधिकारियों ने महावीर मंदिर में हनुमान को लगाए जाने वाले नैवेद्यम की जांच की थी. जांच प्रक्रिया में पूरी तरह से से पास होने के बाद इसकी रिपोर्ट FSSAI को भेजी गई थी. FSSAI के CEO ने इस रिपोर्ट के आधार पर ब्लेजफुल हाइजीन आफरिंग टू गॉड का प्रमाण-पत्र जारी किया है. बिहार फूड सेफ्टी विभाग के नोडल अधिकारी ने बताया कि देश के 9 मंदिरों के प्रसाद को ही ब्लेजफुल हाइजीन आफरिंग टू गॉड BHOG का प्रमाण-पत्र मिला है.

देश के टॉप टेन मंदिरों के भोग में पटना के महावीर मंदिर में हनुमान को लगाया जाने वाला भोग नैवेद्यम भी शामिल हो गया है. ये मंदिर बिहार का पहला और देश का 10 वां मंदिर ऐसा है, जहां के प्रसाद को प्रमाण पत्र मिला है. पटना के हनुमान मंदिर को ये प्रमाण पत्र मिलना पूरे बिहार के लिए गर्व की बात है. बता दें कि पटना के महावीर मंदिर में देशी घी, बेसन, केसर और मेवे से बने प्रसाद 'नैवेद्यम' का भोग भगवान हनुमान को लगया जाता है. पटना के इस मंदिर के प्रसाद को तिरुपति से आए कारीगर पटना में ही रोज बनाते हैं और ये प्रसाद बाहर के लोगों के बीच भी काफी लोकप्रिय है.

रिपोर्ट- धर्मेंद्र कुमार

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज