Home /News /bihar /

9 साल बाद मोदी-नीतीश की साझा चुनावी रैली, ये हो सकता है इस केमिस्ट्री का असर

9 साल बाद मोदी-नीतीश की साझा चुनावी रैली, ये हो सकता है इस केमिस्ट्री का असर

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (फाइल फोटो)

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (फाइल फोटो)

नरेन्द्र मोदी और नीतीश कुमार इससे पहले 2010 में पंजाब के लुधियाना में एनडीए के लिए प्रचार करने के दौरान एक साथ चुनावी मंच पर दिखे थे. 9 साल बाद एक बार फिर 3 मार्च को चुनावी मंच पर एक साथ दिखेंगे.

लोकसभा चुनाव से पहले 9 साल बाद किसी चुनावी रैली में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार एक साथ दिखेंगे. दोनों 3 मार्च को पटना के गांधी मैदान में एक रैली को संबोधित करेंगे. बिहार की राजधानी पटना में होने वाली एनडीए की संकल्प रैली में यह मौका एक बार फिर आएगा. जाहिर है पीएम मोदी और सीएम नीतीश के एक साथ राजनीतिक मंच पर देखने के लिए दोनों ही दलों के समर्थकों की नजरें बेताब हो रही हैं.

बता दें कि मोदी और नीतीश इससे पहले 2010 में पंजाब के लुधियाना में एनडीए के लिए प्रचार करने के दौरान एक साथ चुनावी मंच पर दिखे थे. आपको बता दें कि नीतीश कुमार 1998 से एनडीए का हिस्सा रहे. वे एनडीए के लिए बढ़-चढ़ कर प्रचार भी करते रहे. लेकिन, जून 2013 में उन्होंने एनडीए से नाता तोड़ लिया. हालांकि अगस्त 2017 से वह फिर से एनडीए का हिस्सा बन गए.

ये भी पढ़ें- Loksabha Election 2019: मुंगेर के चुनावी अखाड़े में मैदान मारने की चुनौती

बहरहाल एनडीए से फिर जुड़ाव के बाद मोदी-नीतीश की केमिस्ट्री में भी अब नया रंग और उमंग देखा जा रहा है. पीएम मोदी जहां नीतीश कुमार को अपना मित्र बताते हैं वहीं सीएम नीतीश पीएम मोदी के मुरीद हो गए हैं. सर्जिकल स्ट्राइक पार्ट- 2 के लिए सीएम नीतीश ने जिस अंदाज में पीएम मोदी का समर्थन किया है उससे दोनों ही दलों के समर्थकों में बड़ा उत्साह है.

पटना में 3 मार्च की रैली के लिए लगाए पोस्टर


इतना ही नहीं एनडीए की ये रैली 2 फरवरी को पटना में हुई राहुल गांधी की रैली का जवाब भी मानी जा रही है. उसमें कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के साथ तेजस्वी यादव, जीतनराम मांझी, उपेन्द्र कुशवाहा, शरद यादव सरीखे नेताओं ने एक मंच पर आकर मजबूती का संकेत दिया था. हालांकि एनडीए और महागठबंधन में एक बड़ा फर्क अब भी नजर आ रहा है.

ये भी पढ़ें- पीएम मोदी की संकल्प रैली में फुलप्रूफ होगी सुरक्षा, 4000 हजार पुलिस जवान रहेंगे तैनात

दरअसल एनडीए में जहां सीटों का बंटवारा हो गया है, वहीं महागठबंधन में अब भी पेंच फंसा हुआ है. इस रैली में लोक जनशक्ति पार्टी के अध्यक्ष और केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान भी शामिल होंगे. कयास लगाए जा रहे हैं कि जीतनराम मांझी भी पाला बदलकर एनडीए में जा सकते हैं.

ऐसे भी सिर्फ मोदी और नीतीश के साथ आने भर से कोई भी सियासी मंच दूसरे किसी भी अन्य दल या गठबंधन से भारी लगने लगता है. पासवान की मौजूदगी से यह और भी वजनदार हो जाता है. कहीं पीएम मोदी की मौजूदगी में मांझी अगर एनडीए के मंच पर चढ़ गए तो जाहिर है बिहार की सियासत में एनडीए का मंच और भी वजनी हो जाएगा.

इनपुट- आनंद अमृतराज

ये भी पढ़ें-  ड्यूटी पर चैटिंग से परेशान बिहार पुलिस का बड़ा फैसला, पुलिसकर्मियों के मोबाइल चलाने पर 'बैन'

Tags: Bihar NDA, Bihar News, Jitan ram Manjhi, Narendra modi, Nitish kumar, PATNA NEWS, PM Modi, Rahul gandhi, Ram vilas paswan, Sharad yadav, Upendra kushwaha

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर