लाइव टीवी

₹20 लाख करोड़ के राहत पैकेज का फीडबैक ले रही मोदी सरकार, बिहार में उद्योगपति से पूछी ये बात
Patna News in Hindi

Brijam Pandey | News18 Bihar
Updated: May 21, 2020, 7:19 AM IST
₹20 लाख करोड़ के राहत पैकेज का फीडबैक ले रही मोदी सरकार, बिहार में उद्योगपति से पूछी ये बात
नरेन्द्र मोदी सरकार के मंत्री अलग अलग लोगों से फीडबैक ले रहे हैं. फाइल फोटो.

नरेंद्र मोदी सरकार (Narendra Modi Government) 20 लाख करोड़ रुपयों के विशेष पैकेज की घोषणा के बाद अब उसका फीडबैक ले रही है.

  • Share this:
पटना. नरेंद्र मोदी सरकार (Narendra Modi Government) के 20 लाख करोड़ रुपयों के विशेष पैकेज की घोषणा के बाद अब उसका फीडबैक लिया जा रहा है. लगातार 5 दिनों तक केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने इस पूरे पैकेज को विस्तार से बताया कि किस तरह से इस 20 लाख करोड़ को भारत के अलग-अलग कल्याणकारी योजनाओं में खर्च किया जाएगा. इसमें यह भी बताया गया कि इस विशेष पैकेज से किन-किन तबकों को फायदा मिलेगा. इसके बाद अब केंद्र सरकार की तरफ से फीडबैक लिया जा रहा है. यह फीडबैक खुद केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर (Anurag Thakur) ले रहे हैं.

केन्द्रीय राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर अलग-अलग उद्योगपतियों को फोन करके उनसे इस विशेष पैकेज के बारे में जानकारी इकट्ठा कर रहे हैं. साथ ही सुझाव भी ले रहे हैं. इसके तहत बिहार से 2 उद्योगपतियों को इस फीडबैक के लिए चुना गया. इनमें बिहार इंडस्ट्री एसोसिएशन के अध्यक्ष रामलाल खेतान और बिहार इंडस्ट्रीज एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष केपीएस केसरी शामिल हैं. बीआईए के अध्यक्ष रामलाल खेतान से वित्त मंत्री अनुराग ठाकुर की बात नहीं हो सकी, लेकिन बीआईए के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष केपीएस केसरी से अनुराग ठाकुर ने लगभग 15 मिनट तक फोन पर बातचीत की. उनसे विशेष पैकेज का फीडबैक लिया, साथ ही उनके सुझाव भी लिए.

विशेष पैकेज के लिए दिया धन्यवाद
न्यूज 18 से बातचीत में बीआईए के पूर्व अध्यक्ष केपीएस केसरी ने बताया कि पहले उन्होंने अनुराग ठाकुर को पीएम पैकेज के लिए  धन्यवाद दिया. केपीएस केसरी ने  पीएम गरीब कल्याण योजना, एमएसएमई में नकदी की समस्या को दूर करने, बहुत सारे रिफॉर्म्स लाए गए हैं, जिससे कि व्यापार करने में सुविधा होगी. उन्‍होंंने बिहार के मखाना उद्योग को एक हजार करोड़ देने के लिए धन्यवाद दिया.



स्टार्टअप करने वाले को बैंक लगातर सहयोग करे


केपीएस केसरी ने सुझाव के रूप में नए स्टार्टअप शुरू करने वालों को फंडिंग की सुविधा देने की मांग की. उन्‍होंने कहा कि यदि बैंक के तरफ से नगदी मिलती रहेगी तो स्टार्ट अप बंद नहीं होंगी. वहीं 6 महीना क्रियाशील पूंजी में छूट दिए जाने की मांग की साथ मुर्गी पालन में कोई भी छूट नहीं दी गई है. यदि किसी कल्याणकारी योजना से मुर्गीपालन को भी जोड़ दिया जाए तो इनको भी सुविधा हो जाएगी.

स्टॉक एक्सचेंज में लिस्टिंग की बाध्यता खत्म की जाए
सुझाव के रूप में केपीएस केसरी ने वित्त मंत्री से कहा कि जो इंड्रस्ट्री अच्छा करती है, तो सरकार इक्विटी ले सकती है. ये बेहतर है, लेकिन जो शर्त स्टॉक एक्सचेंज में लिस्टिंग का है वो बिहार के उद्योग के लिए मुश्किल खड़ी कर सकता है. बिहार की कोई इंडस्ट्रीज स्टॉक एक्सचेंज में लिस्टेड नहीं है, ऐसे में इसको हटाया जाए. वहीं, उन्होंने कहा कि वन टाइम सेटेलमेंट करने वाले व्यापारियों को फिर लोन देने की सुविधा प्रदान की जाए.

केंद्रीय वित्त राज्यमंत्री ने दिया आश्वासन
केपीएस केसरी के मुताबिक लगभग 15 मिनट के इस बातचीत में केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने बिहार के उद्योगपतियों को आश्वासन दिया. साथ ही केपीएस केसरी उसे अपनी अपने पूरे सुझाव की चिट्ठी मांगी है और उस पर विचार करने का आश्वासन भी दिया है. इस बातचीत के दौरान अनुराग ठाकुर ने पहले केपीएस केसरी से उनके स्वास्थ्य के बारे में में पूरी जानकारी ली.

केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह भी ले रहे फीडबैक
केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने उद्योगपति मनीष तिवारी से फोन पर बात की और इस  20 लाख करोड़ के विशेष पैकेज का फीडबैक लिया. मनीष तिवारी ने बताया कि उन्होंने केंद्र सरकार को इस पैकेज के लिए धन्यवाद दिया है. साथ ही मनीष तिवारी ने कई अहम सुझाव केंद्र सरकार के मंत्री गिरिराज सिंह को दिए हैं. जिससे लघु, छोटे और मध्यम उद्योगों को फायदा मिल सके. स्टार्टअप वालों के लिए विशेष ध्यान देने की मांग केंद्रीय मंत्री से की.

ये भी पढ़ें:  

बिहार: एक करोड़ 31 लाख राशन कार्डधारी परिवारों के खातों में भेजे एक-एक हजार

BJP नेता ने कहा- जनता की लड़ाई के लिए सड़क पर क्यों नहीं उतरते सिंधिया, मिला ये जवाब

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 21, 2020, 7:01 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading