• Home
  • »
  • News
  • »
  • bihar
  • »
  • Navratri 2021: आज रवियोग में खुलेगा माता रानी का पट, भक्तों को दर्शन देंगी माँ दुर्गा

Navratri 2021: आज रवियोग में खुलेगा माता रानी का पट, भक्तों को दर्शन देंगी माँ दुर्गा

सभी पूजा पंडालों और मंदिरों में मां दुर्गा के पट मंगलवार को खोल दिए जाएंगे

सभी पूजा पंडालों और मंदिरों में मां दुर्गा के पट मंगलवार को खोल दिए जाएंगे

Navratri Puja 2021: ज्योतिष श्रीपति त्रिपाठी के मुताबिक मंगलवार को सप्तमी तिथि मूल नक्षत्र एवं शोभन योग में सभी पूजा पंडालों मंदिरों एवं घरों में स्थापित माता का पट मंत्रोचार के साथ खोला जाएगा. मंगलवार को ही देवी के सातवें स्वरूप माता कालरात्रि की पूजा भी होगी.

  • Share this:

पटना. शारदीय नवरात्र (Navratra 2021) के नौ दिनों के अनुष्ठान में मां दुर्गा के अलग-अलग स्वरुपों की पूजा की जा रही है. सोमवार को पंचमी व षष्ठी तिथि एक दिन होने से ज्येष्ठा नक्षत्र व सौभाग्य योग में पंचम तथा षष्ठम स्वरूप में देवी स्कंदमाता व कात्यायनी माता की पूजन हुई. देवी को प्रसन्न करने में श्रद्धालु कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं. अलग-अलग प्रकार के भजन स्तुति, लोकगीत, कीर्तन, विविध आरती, विशेष भोग, पत्र-पुष्प, ईत्र आदि अर्पण कर माता की कृपा पाने हेतु प्रार्थना किया जा रहा है. माता के उपासक अपनी विशेष कामना की पूर्ति के लिए विशेष मंत्र से जाप व पाठ कर रहे हैं.

रवियोग में खुलेगा माता का पट

ज्योतिष आचार्य श्रीपति त्रिपाठी ने बताया कि मंगलवार को सप्तमी तिथि मूल नक्षत्र एवं शोभन योग में सभी पूजा पंडालों मंदिरों एवं घरों में स्थापित माता जगत जननी का विधि-विधान से पूजा करने के बाद वेदोक्त मंत्रोचार के साथ माता का पट खोला जाएगा. आज ही देवी के सातवें स्वरूप माता कालरात्रि की पूजा भी होगी. आश्विन शुक्ल सप्तमी में माता का पट प्रात: 06:14 बजे सूर्योदय के बाद खोला जायेगा श्रद्धालुओं को माता जगदम्बा का दिव्य दर्शन सुबह से ही होने लगेगा. पत्रिका प्रवेश की पूजा भी आज ही की जायेगी.

शुरू होगी चार दिवसीय विशेष पूजा

ज्योतिष झा ने कहा कि मंगलवार को देवी दुर्गा का पट खुलने के बाद श्रद्धालु अगले चार दिनों तक माता की विशेष आराधना में लीन हो जायेंगे. पट खुलने के बाद श्रद्धालुओं को माता का विहंगम दर्शन प्राप्त होगा. बुधवार को महाष्टमी में माता महागौरी की पूजा के साथ श्रृंगार पूजा भी किया जाएगा. इसी दिन मध्य रात्रि में महानिशा पूजा कर भक्त माता की विशेष अनुकंपा पाएंगे वहीं महानवमी (गुरुवार) को सिद्धिदात्री माता का पूजा दुर्गा सप्तशती पाठ का समापन हवन पुष्पांजलि व कन्या पूजन किया जाएगा. आश्विन शुक्ल दशमी शुक्रवार को विजयादशमी का पर्व होगा. इसी दिन देवी की विदाई और जयंती धारण किया जाएगा.

माता का पट खुलने का शुभ मुहूर्तसप्तमी तिथि

प्रात: 06:13 बजे से मध्यरात्रि 02:00 बजे तकमूल नक्षत्र : सुबह से लेकर शाम 04:26 बजे तकशोभन योग : सूर्योदय से दोपहर 02: 20 बजे तकअभिजित मुहूर्त : दोपहर 11:13 बजे से 11:59 बजे तकगुली काल मुहूर्त : दोपहर 11:36 बजे 01:03 बजे तक

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज