तेजस्वी का CM नीतीश पर तंज, बोले- कितने भोले और अनजान हैं बिहार के मुख्यमंत्री?

जहरीली शराब से मौत पर तेजस्वी  का सीएम नीतीश पर निशाना  (न्यूज़ 18 ग्राफिक्स)

जहरीली शराब से मौत पर तेजस्वी का सीएम नीतीश पर निशाना (न्यूज़ 18 ग्राफिक्स)

Bihar News: नवादा शराबकांड को लेकर मीडिया द्वारा पूछे गए सवालों पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) ने कहा कि ये जो कुछ भी हुआ है, उसके बारे में हमने वरीय पदाधिकारियों से पूछा था. ये सबलोग जांच कर रहे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 3, 2021, 11:01 AM IST
  • Share this:
पटना. होली के बाद संदिग्ध स्थिति में नवादा के 16 लोगों की मौत होने की बात सामने आ रही है. ये सभी नवादा नगर थाना क्षेत्र के अलग-अलग इलाकों के निवासी थे. जिला प्रशासन ने भी अब तक 10 लोगों की मौत की पुष्टि कर दी है. हालांकि इनमें से पांच की मौत विभिन्न बीमारियों से हुई बतायी गई है. पर गैर आधिकारिक सूत्रों से जानकारी यही आ रही है कि इन सभी की मौत जहरीली शराब पीने से हुई है. इसी तरह की घटना बेगूसराय के बखरी से भी सामने आ चुकी है. यहां भी दो युवकों की मौत शराब पीने से हुई बताई जा रही है. पोस्टमार्टम रिपोर्ट में भी यही बात सामने आई है. इन्हीं संदिग्ध मौतों पर बिहार सरकार के रुख से अब राजनीति भी गर्म होती दिख रही है. नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) ने इस मसले पर सीएम नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) के बयान पर तंज कसते हुए एक बार फिर बिहार सरकार पर निशाना साधा है.

तेजस्वी ने ट्वीट कर लिखा, 'बिहार  4 दिन पूर्व जहरीली शराब पीने से प्रदेश में 19 मौतें (नवादा-12, सासाराम-5, बेगुसराय-2) हो जाती है लेकिन CM अभी भी जानकारी ही प्राप्त कर रहे है. कितना विचित्र है ना?' तेजस्वी आगे लिखा, 'कल्पना करिए, CM की नजर में बिहार के आम नागरिकों के जीवन की क्या कीमत है? क्या किसी अधिकारी पर कोई कारवाई हुई? मृतकों के परिजन कह रहे है जहरीली शराब से उनकी मौत हुई है. पोस्ट्मॉर्टम रिपोर्ट में डॉक्टर भी यही कह रहे है लेकिन प्रशासन कह रहा है कि नहीं संयोग ही ऐसा था कि एक ही दिन सभी की बीमारियों से मौत हो गई.'



नेता प्रतिपक्ष ने आगे कहा, 'शराबबंदी के बावजूद प्रशासन खुद शराब बनवाता और बिकवाता है, भला वह यह स्वीकार क्यों करेगा कि शराब से मौतें हुई है? बिहार के माननीय मुख्यमंत्री को इतनी साधारण सी बात समझ नहीं आ रही है? क्या उनका कृत्य और बयान दोषी अधिकारियों को संरक्षण प्रदान नहीं कर रहा.
बता दें कि शुक्रवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा था कि नवादा में हुई लोगों की मौत के मामले की पूरी जांच होगी. मुख्यालय से शुक्रवार को विशेष टीम वहां पर जांच के लिए भेजी गई है. यह टीम एक-एक चीज को देखेगी. एक-एक चीज के बारे में पता लगाएगी. इसके बाद हर चीज पर जो जरूरी कार्रवाई है, वह सब की जाएगी.

मीडिया द्वारा पूछे गए सवालों पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि ये जो कुछ भी हुआ है, उसके बारे में हमने वरीय पदाधिकारियों से पूछा था. ये सबलोग जांच कर रहे हैं. यहां से भी कुछ लोग गए थे. मुख्यमंत्री ने कहा कि वहां के भी अधिकारियों का कुछ कहना है. फिर भी जो बात समाचार पत्रों में आ रही है, उसको लेकर यहां की विशेष टीम जांच में गई है.

गौरतलब है कि जिला प्रशासन द्वारा अब तक शराब से किसी की मौत की पुष्टि नहीं की गयी है. नवादा की एसपी डीएस सावलाराम ने कहा है कि मृतकों में से दो-तीन के परिजनों ने शराब पीने की बात कही है. लेकिन, इनमें से अधिकांश की मृतकों का अंतिम संस्कार कर दिये जाने के कारण पोस्टमार्टम नहीं हो सका.



एसपी ने कहा कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बिना शराब से मौत की पुष्टि नहीं की जा सकती है. इधर, मृतकों में से तीन की बॉडी का पोस्टमार्टम कराया गया. सदर अस्पताल की मेडिकल बोर्ड की देखरेख में तीनों का विसरा प्रिजर्व कर लिया गया है जिसे जांच के लिए फोरेंसिक लैब भेजा जाएगा, ताकि मौत का वास्तविक कारण पता लगाया जा सके.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज