लोकसभा चुनाव 2019: सीमांचल में नीतीश के सहारे NDA तो मिथिला में मोदी की छवि का भरोसा

बिहार में इस बार जो सीटें जेडीयू के खाते में गई है उनमें सीमांचल की किशनगंज, कटिहार,पूर्णिया हैं. मिथिलांचल की बात करे तों बीजेपी के खाते में मधुबनी, दरभंगा, मुजफ्फरपुर, शामिल है.

Amrendra Kumar | News18 Bihar
Updated: March 17, 2019, 4:40 PM IST
लोकसभा चुनाव 2019: सीमांचल में नीतीश के सहारे NDA तो मिथिला में मोदी की छवि का भरोसा
फाइल फोटो
Amrendra Kumar
Amrendra Kumar | News18 Bihar
Updated: March 17, 2019, 4:40 PM IST
बिहार में लोकसभा चुनाव को लेकर एनडीए में सीटों का बंटवारा हो गया है. बंटवारे के तहत दोनों दलों यानी जेडयू और भाजपा दोनों को अपनी सीटों की कुर्बानी देनी पड़ी है. राज्य की 40 सीटों में कुछ ऐसी सीटें हैं जहां से पिछला चुनाव बीजेपी ने लड़ा था लेकिन इस बार ये सीटें अब जेडीयू के खाते में हैं.

सीमांचल के इलाके में एनडीए ने नीतीश कुमार की छवि का सहारा लिया है. शायद यही कारण है कि कोसी के साथ-साथ सीमांचल इलाके में ज्यादातर सीटों पर जेडीयू ने अपने उम्मीदवार चुनाव में देने का फैसला लिया है. जिस सीट को लेकर सबसे ज्यादा चर्चा हो रही है वो है भागलपुर सीट. भागलपुर सीट से पिछला चुनाव शाहनवाज हुसैन ने लड़ा था लेकिन वो चुनाव हार गए थे लेकिन इस बार इस सीट को बीजेपी से ट्रांसफर कर जेडीयू के खाते में कर दिया गया है हालांकि ये साफ नहीं हो सका है कि इस सीट से कौन उम्मीदवार होगा.

ये भी पढ़ें- लोकसभा चुनाव 2019: सीटों की तस्वीर साफ लेकिन उम्मीदावारी को लेकर सस्पेंस अभी भी जारी



दरअसल 2014 के लोकसभा चुनाव में एनडीए की स्थिति सीमांचल में ठीक नहीं रही थी. हालात ऐसे थे कि इलाके में पार्टी एक भी सीट हासिल नहीं कर पाई थी. तब कटिहार से राकांपा, किशनगंज से कांग्रेस और अररिया से राजद के अल्पसंख्यक उम्मीदवार ने जीत हासिल की थी, जबकि पूर्णिया से जेडीयू के संतोष कुशवाहा ने जीत हासिल की थी. इसके साथ ही उप चुनाव में भी इस इलाके में बीजेपी का खाता नहीं खुल सका था. पिछले चुनाव के रिजल्ट को देखते हुए इस बार जेडीयू ने सीमांचल में बीजेपी को डॉमिनेट किया है.

ये भी पढ़ें- तेजस्वी के ट्वीट से बिहार में टूट के कगार पर महागठबंधन, 11 बनाम 8 की लड़ाई में फंसा है पेंच

बिहार में इस बार जो सीटें जेडीयू के खाते में गई है उनमें सीमांचल की किशनगंज, कटिहार, पूर्णिया सीट शामिल हैं जबकि अररिया सीट बीजेपी के खाते में गई है. सीमांचल से उलट अगर मिथिलांचल की बात करे तों इस इलाके में बीजेपी को ज्यादा सीटें मिली हैं और वो पीएम नरेंद्र मोदी की छवि को इस इलाके में भुनाने की कोशिश करेगी. बीजेपी के खाते में मिथिला की मधुबनी, दरभंगा, मुजफ्फरपुर, बेगूसराय सीटें गई है. इस इलाके में एनडीए को पीएम नरेंद्र मोदी की छवि पर भरोसा है साथ ही नीतीश कुमार के सीएम रहते विकास के कार्यों का.

ये भी पढ़ें- लोकसभा चुनाव 2019: बाहुबली अनंत सिंह की पत्नी होंगी मुंगेर सीट से महागठबंधन की उम्मीदवार !
Loading...

बिहार में बीजेपी और जेडीयू 17-17 और एलजेपी 6 सीटों पर चुनाव लड़ने जा रही है. रविवार को एनडीए ने बिहार की सभी 40 लोकसभा सीटों के लिए पार्टीवार घोषणा कर दी. इसके तहत सीटों का बंटवारा कुछ यूं किया गया है.

जेडीयू को कौन सी सीट- वाल्मीकिनगर, सीतामढ़ी, झंझारपुर, सुपौल, किशनगंज, कटिहार, पूर्णिया, मधेपुरा, गोपालगंज, सिवान, भागलपुर, बांका, मुंगेर, काराकाट, नालंदा, जहानाबाद और गया

बीजेपी को कौन सी सीट- पश्चिम और पूर्वी चंपारण, शिवहर, मधुबनी, अररिया, दरभंगा, मुजफ्फरपुर, महाराजगंज, सारण, उजियारपुर, बेगूसराय, पटना साहिब, पाटलीपुत्र, आरा, बक्सर, सासाराम और औरंगाबाद

लोजपा को मिली सीटों में हाजीपुर, वैशाली, समस्तीपुर, अऱरिया, जमुई, नवादा शामिल हैं.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...