Home /News /bihar /

20-20 फार्मूले पर NDA के बीच इस तरह होगा सीटों का बंटवारा, कुशवाहा नाराज

20-20 फार्मूले पर NDA के बीच इस तरह होगा सीटों का बंटवारा, कुशवाहा नाराज

फाइल फोटो

फाइल फोटो

बची 20 सीटों में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की जनता दल यूनाईटेड (जेडीयू) 12-14, रामविलास पासवान की लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) 5-6, उपेंद्र कुशवाहा की राष्ट्रीय लोक समता पार्टी ( आरएलएसपी) 2 और अरुण कुमार जहानाबाद सीट से चुनाव लड़ सकते हैं.

अधिक पढ़ें ...
    बिहार में लोकसभा चुनाव के मद्देनजर एनडीए के बीच पहले से तय 20-20 फॉर्मूले के आधार पर सीटों के बंटवारे पर बातचीत अंतिम चरण में है.  गठबंधन में सबसे बड़ी भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) जीती हुई सीटों में दो सीट छोड़ेगी और सिर्फ 20 पर चुनाव लड़ेगी.

    बची 20 सीटों में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की जनता दल यूनाईटेड (जेडीयू) 12-14,  रामविलास पासवान की लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) 5-6,  उपेंद्र कुशवाहा की राष्ट्रीय लोक समता पार्टी ( आरएलएसपी) 2 और अरुण कुमार जहानाबाद सीट से चुनाव लड़ सकते हैं.

    न्यूज 18 ने सबसे पहले 10 अप्रैल को ही ये खबर दे दी थी कि एनडीए के गैर भाजपाई दलों ने 20-20 फॉर्मूला सामने रखा है जिस पर बीजेपी तैयार है. बीजेपी ने 2014 के लोकसभा चुनाव में 30 सीटों पर उम्मीदवार उतारे थे और 22 में उसे सफलता हासिल हुई थी. लोजपा को सात में छह और रालोसपा ने सभी तीन सीटों पर जीत हासिल की थी. हालांकि बाद में रालोसपा सांसद अरुण कुमार बागी हो गए और कुशवाहा का साथ छोड़ दिया.

    हालांकि उपेंद्र कुशवाहा की पार्टी रालोसपा ने सीटों की साझीदारी को लेकर किसी बातचीत या प्रस्ताव से इनकार किया है. पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव माधव आनंद ने ट्वीट कर सीट बंटवारे की खबर को भ्रामक बताया. साथ ही ये भी कहा कि अगर रालोसपा की जानकारी के बिना ऐसा हुआ है तो ये बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है.

    ये भी पढ़ें- बिहार में बीजेपी से घबराए NDA साझेदारों का 20-20 फ़ॉर्मूला, नीतीश के इर्द-गिर्द लामबंदी

    भाजपा के लिए दो सीट की कुर्बानी आसान है क्योंकि दरभंगा से कीर्ति आजाद और पटना पश्चिम से शत्रुघ्न सिन्हा का पार्टी से कोई लेना-देना नहीं है. दरभंगा जेडीयू के खाते में जाएगी. संजय झा यहां से चुनवा लड़ेंगे.

    12 जुलाई को अमित शाह और नीतीश कुमार की बंद कमरे में हुई बातचीत में इस पर भी सहमति बनी थी कि टिकट बंटवारे में उम्मीदवार के जीतने की संभावना ही सबसे बड़ी शर्त होगी. इस लिहाज से कई सीटों पर जेडीयू या बीजेपी के प्रत्याशी  एक दूसरे के सिंबल पर भी चुनाव लड़ सकते हैं.

    जेडीयू ने 17 से 18 सीटों की मांग की थी. इसे देखते हुए बीजेपी नीतीश की पार्टी को झारखंड और उत्तर प्रदेश में भी एक-एक सीट दे सकती है.

    सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक कुछ सीटें सहयोगियों के बीच अदला-बदली भी की जा सकती है. उपेंद्र कुशवाहा पर भी एनडीए की नजर है. अगर वो गठबंधन छोड़ कर जाते हैं तो उनकी सीटें बीजेपी और जेडीयू में बंटेगीं. सूत्रों से ये भी खबर है कि अगले लोकसभा चुनाव के मद्देनजर पटना साहिब, दरभंगा, बेगूसराय, वाल्मीकीनगर, मधुबनी और वैशाली में उम्मीदवार बदले जा सकते हैं. इसके अलावा 2019 चुनाव में जेडीयू को यूपी और झारखंड में भी कुछ सीटें देने पर सहमति बनी है.

    ये भी पढ़ें-BJP-JDU में सीटों का तालमेल लगभग तय, 16 सितंबर को हो सकती है घोषणा

    2014 लोकसभा चुनाव में एनडीए को 40 में से 31 सीटें मिली थीं. अभी बीजेपी के पास 22, LJP के पास 6 और RLSP के पास 3 सांसद हैं. 2014 में लोकसभा चुनाव में जेडीयू एनडीए से अलग होकर चुनाव लड़ी थी और उसे सिर्फ दो सीटें ही मिली थी.

    ये भी पढ़ें- शाह-नीतीश मुलाकात में सीट शेयरिंग और उम्मीदवारों के जल्द चयन पर बनी सहमति

    इससे पहले 28 अगस्त को जेडीयू के बिहार प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह ने न्यूज 18 के साथ खास बातचीत में कहा था कि अंतिम निर्णय लेने से पहले बाकी घटक दलों से भी बात होगी और जल्द ही सीटों की संख्या के बारे में ऐलान कर दिया जाएगा.

    ( साथ में दिल्ली से दिवाकर तिवारी)

     

    Tags: Bihar News

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर