बिहार: चक्रवाती तूफान 'यास' से निपटने के लिए राहत व बचाव में जुटी NDRF, 19 टीमें तैनात

चक्रवाती तूफान यास से राहत व बचाव के लिए एनडीआरएफ की टीमें तैनात.

Cyclone yaas: चक्रवाती तूफान से जानमाल के नुकसान की आशंका के मद्देनजर NDRF के जवान आम लोगों को लगातार घरों में रहने की अपील कर रहे हैं. साथ ही इस तूफान में फंसे लोगों को उनके घरों से निकालकर सुरक्षित स्थानों पर भी पहुंचा रहे हैं.

  • Share this:
पटना. चक्रवाती तूफान 'यास' ने बंगाल की खाड़ी से उठकर ब ओडिशा और बंगाल में दस्तक दे दी है. इसको लेकर  बिहार में भी अलर्ट जारी किया गया है. खासकर उत्तर व दक्षिणी बिहार के कुछ जिलों में इसका असर देखा जा रहा है. पटना, औरंगाबाद, गया, जहानाबाद, अरवल, भागलपुर, पूर्णिया, किशनगंज, बांका, अररिया, पश्चिमी चंपारण, वैशाली सहित प्रदेश के कई जिलों में बारिश हो रही है. वहीं, कई जिलों में मंगलवार से ही आंधी तूफान और बिजली गिरने की घटनाओं के साथ-साथ बारिश जारी है. इस बीच राष्ट्रीय आपदा मोचन बल यानी कि NDRF की 9वीं वाहिनी की 19 टीमें कमान्डेंट विजय सिन्हा के नेतृत्व में चक्रवाती तूफान यास से निपटने में जुटी है. उडीसा से लेकर झारखण्‍ड और बिहार के विभिन्‍न जिलों में सभी टीमें अत्याधुनिक आपदा प्रबंधन और संचार उपकरणों से लैस होकर तैनात है.

कमान्डेंट विजय सिन्हा ने बताया कि चक्रवात यास से निपटने के लिए सभी टीमें पश्चिम बंगाल, उड़ीसा, झारखण्‍ड और बिहार के विभिन्‍न जिलों में तैनात हैं. इन टीमों के कुल करीब 500 बचावकर्मी शामिल हैं जो चक्रवाती तूफान यास के दौरान हर चुनौती का सामना करने और आपदा की घड़ी में स्‍थानीय लोगों को हर सम्‍भव मदद करने को तैयार है.

इस दौरान NDRF के बचावकर्मी विभिन्‍न जिलों में इस चक्रवाती तूफान से बचने के लिए लोगों के बीच जागरूकता कार्यक्रम भी चला रहे हैं. इसके साथ ही कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के सभी दिशा-निर्देशो का पालन करते हुए सम्‍भावित खतरों को देखते हुए उन्‍हे सुरक्षित जगहों पर पहुंचा रहे हैं.

बता दें कि चक्रवा‍ती तूफान यास के खतरे को देखते हुए पहले ही राज्य सरकारों ने अपने अपने राज्‍य में हाई अलर्ट जारी दिया था, जिसको देखते हुए 9वीं बटालियन NDRF की टीमें राहत और बचाव कार्यों में जुटी हुई हैं. NDRF के जवान आम लोगों को लगातार घरों में रहने की अपील कर रहे हैं. साथ ही साथ इस तूफान में फंसे लोगों को उनके घरों से निकालकर सुरक्षित स्थानों पर भी पहुंचा रहे हैं.