बिहार साइंस टॉपर कल्पना ने खोला अपनी सफलता का राज, इतने घंटे करती थी पढ़ाई
Patna News in Hindi

बिहार साइंस टॉपर कल्पना ने खोला अपनी सफलता का राज, इतने घंटे करती थी पढ़ाई
कल्पना का कहना है कि उन्होंने ज्यादातर घर में ही पढ़ाई की है, हालांकि जरूरत पड़ने पर कल्पना ने कोचिंग की भी मदद ली. इंटर का परिणाम आने के बाद कल्पना ने न्यूज़18 हिंदी से खास बातचीत की.

कल्पना का कहना है कि उन्होंने ज्यादातर घर में ही पढ़ाई की है, हालांकि जरूरत पड़ने पर कल्पना ने कोचिंग की भी मदद ली. इंटर का परिणाम आने के बाद कल्पना ने न्यूज़18 हिंदी से खास बातचीत की.

  • Share this:
बिहार बोर्ड 12वीं की परीक्षा में 500 में 434 अंक लाकर कल्पना स्टेट टॉपर बनी हैं. वहीं दो दिन पहले NEET परीक्षा में भी 99.99 परसेंट लाकर उन्होंने देश में पहला स्थान पाया था. नीट टॉपर और आज बिहार बोर्ड साइंस टॉपर कल्पना ने न्यूज़18 हिंदी से खास बातचीत में कहा कि वह सफल होने के लिए हर दिन 12-13 घंटे पढ़ाई करती थी. कल्पना का कहना है कि उन्होंने ज्यादातर घर में ही पढ़ाई की है, हालांकि जरूरत पड़ने पर कल्पना ने कोचिंग की भी मदद ली. इंटर का परिणाम आने के बाद कल्पना ने न्यूज़18 हिंदी से खास बातचीत की.

यहां क्लिक करके देखें रिजल्ट

सवाल: क्या आपको ऐसे रिजल्ट की उम्मीद थी ?
जवाब: रिजल्ट बेहतर आने की उम्मीद तो थी क्यों कि बहुत मेहनत की थी लेकिन इतनी बड़ी सफलता की उम्मीद नहीं थी. बहुत खुश हूं.
सवाल: इतनी बड़ी सफलता को लेकर क्या कहेंगी?


जवाब: यह किसी सपने से कम नहीं है. दो-दो परीक्षा में टॉप करना सच में बहुत खास है. सफलता के बाद लगातार मीडिया वाले घर पहुंच रहे हैं.

सवाल: आपने पढ़ाई कहां से की है बिहार या दिल्ली से?
जवाब: मैं शिवहर और दिल्ली दोनों जगह रहकर पढ़ाई करती थी. नवोदय विद्यालय शिवहर से 10वीं की परीक्षा दी है. वहीं 12वीं की पढ़ाई वाईजेम कॉलेज तरियानी शिवजर से की है.

सवाल: भविष्य की क्या योजना है?
जवाब: आगे चल कर बहुत बड़ी डॉक्टर बन समाज के लिए कुछ करना चाहती हूं. डॉक्टर बनने का सपना शुरू से था. घर में भैया और दीदी दोनों ने अपने करियर में बेहतर किया है. मुझे भी बड़ा करना है.

सवाल: किस रूटीन से पढ़ाई करती थी ?
जवाब: हर दिन मैंने 12-13 घंटे पढ़ाई की है. जरूरत पड़ने पर कोचिंग का भी सहारा लिया है, लेकिन मैंने सेल्फ स्टडी को ज्यादा महत्व दिया है और उसी का परिणाम है कि सफलता मिली है.

सवाल: अगले साल परीक्षा देने वाले अभ्यर्थियों को क्या संदेश देंगी?
जवाब: बस यही कहूंगी कि अपने टारगेट को हमेशा बड़ा रखें और उसके लिए लगातार प्रयास करें. सेल्फ स्टडी पर फोकस के साथ आप कोचिंग या किसी शिक्षक की मदद ले सकते हैं.

सवाल: सफलता का श्रेय किसे देंगी?
जवाब: मेरे पढ़ाई में मेरी फैमिली ने मुझे बहुत स्पोर्ट किया है. खासकर मेरे पापा ने हर समय मेरी पढ़ाई के लिए फिक्र करते रहे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading