Assembly Banner 2021

अब अपराध की गुत्थी सुलझान में बिहार पुलिस की मदद करेंगे पबजी, सिंबा, शेरू और ड्यूक, जानें डॉग स्क्वायड की खासियत

बिहार पुलिस के डॉग स्क्वायड में शामिल हुए कई कुत्ते (फाइल फोटो)

बिहार पुलिस के डॉग स्क्वायड में शामिल हुए कई कुत्ते (फाइल फोटो)

Bihar Police Dog Squad: बिहार पुलिस ने इससे पहले 2019 में 20 स्निफर डॉग्‍स खरीदे थे जो शराब पकड़ने में माहिर हैं. बिहार पुलिस में आज शामिल होने वाले नए डॉग्स अपने हैंडलर के साथ पिछले छह माह से हैदराबाद में ट्रेनिंग ले रहे थे.

  • Share this:
पटना. बड़ी और महत्वपूर्ण घटनाओं की जांच में अब बिहार पुलिस को पबजी, सिंबा, शेरू, ड्यूक और तेजा मदद करेंगे. ये सभी नाम उन ट्रेंड डॉग्स के हैं जो बिहार पुलिस के दस्ते में विधिवत शामिल हो रहे हैं. इसको लेकर बीएमपी-5 परिसर में इंडक्शन प्रोग्राम के साथ ही डॉग शो का भी आयोजन किया गया है. इसमें डीजीपी एसके सिंघल बतौर मुख्य अतिथि शिरकत करेंगे.

ये सभी डॉग्स अपने हैंडलर के साथ पिछले छह माह से हैदराबाद में ट्रेनिंग ले रहे थे. इसमें बेल्जियम शेफर्ड व लेब्रा नस्ल के डॉग्स भी शामिल किए गए हैं. बेल्जियम शेफर्ड की खासियत है कि इसमें लंबी छलांग लगाने के अलावा सूंघने की शक्ति काफी तीव्र होती है. डॉग स्क्वॉयड में शामिल सभी डॉग्स को नारकोटिक्स और बम ट्रैकिंग आदि का विशेष प्रशिक्षण दिया गया है. बिहार में शराबबंदी को सख्ती से लागू करने में भी इनकी मदद ली जाएगी, इसके अलावा लैंड माइंस की पहचान करने में भी यह ट्रेंड डॉग माहिर होते हैं.

CID के डॉग स्‍क्‍वॉड में 68 कुत्‍ते हैं. मिली जानकारी के अनुसार, डॉग स्‍क्‍वॉड के हर कुत्‍ते पर राज्‍य सरकार हर महीने करीब डेढ़ लाख रुपये खर्च करती है. इन सभी की तैनाती रेंज हेडक्‍वार्टर्स पर है. अभी कोई घटना होने पर उन्‍हें ट्रेन या फिर सामान्‍य वाहन से घटनास्‍थल पर ले जाया जाता है, हालांकि भीषण गर्मी इनके लिए चुनौती होती है. गर्मी की वजह से विदेशी कुत्‍तों के काम करने की क्षमता तो प्रभावित होती ही है, हेल्‍थ पर भी असर पड़ता है.



करीब डेढ़ साल पहले बिहार पुलिस ने 20 स्निफर डॉग्‍स खरीदे थे जो शराब पकड़ने में माहिर हैं. इस टीम में दामिनी, माही और हंटर जैसे डॉग ने केस सुलझाने में पुलिस को काफी सहयोग दिया है. दामिनी जर्मन शेफर्ड नस्ल की है जिसने करीब एक दर्जन कांडों को सुलझाने में पुलिस की मदद की है. हंटर और मैडी जमीन से शराब निकालने में एक्सपर्ट है. अब दो दर्जन से अधिक नए ट्रेंड डॉग्स मिलने से डॉग स्क्वायड की ताकत और भी मजबूत हो जाएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज