बिहार: JDU का नया Eco friendly कार्यालय बनकर तैयार, साउंड प्रूफ कमरे में बैठेंगे CM नीतीश, 10 हजार वर्गफीट में बना हॉल
Patna News in Hindi

बिहार: JDU का नया Eco friendly कार्यालय बनकर तैयार, साउंड प्रूफ कमरे में बैठेंगे CM नीतीश, 10 हजार वर्गफीट में बना हॉल
जेडीयू के नये कार्यालय को पार्टी का वार रूम भी कहा जा रहा है.

जेडीयू के नये कार्यालय (JDU New Office) के चारों तरफ पेड़-पौधों की कई प्रजातियां लगाई जा रही हैं. कार्यालय के कैम्पस में ही पीछे स्टोर रूम बनाया गया है जहां पार्टी के झंडा-बैनर जैसी सामग्री रखने की व्यवस्था होगी.

  • Share this:
पटना. बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Election)से पहले जेडीयू ने अपना नया वार रूम तैयार कर लिया है. जेडीयू (JDU) का यह नया वार  रूम पार्टी का नया कार्यालय भी होगा. जेडीयू के वर्तमान कार्यालय के ठीक बगल में बने नए कार्यालय से 2020 चुनाव की रणनीतियां बनेगी और यही से तैयार होगा हर वो मास्टरस्ट्रोक जो सत्ता में फिर से वापसी के लिए बनाई जाएगी. जेडीयू के नये कार्यालय (JDU new office) कई मायनों में विशेष है. इस नये ऑफिस में 10 हजार स्क्वॉयर फिट में बड़ा हॉल है जो बिहार में किसी भी राजनीतिक दल के हॉल से बड़ा है. इस हॉल में एकसाथ एक हजार लोगों की बैठने की व्यवस्था है.

कार्यालय के भीतर और बाहर सुविधाओं और सुंदरता का खास ख्याल रखा गया है. कार्यालय के भीतर हॉल के अलावा सिर्फ दो कमरे बनाये गए हैं. एक कमरा मुख्य्मंत्री के आगमन पर या फिर प्रदेश अध्यक्ष के लिए है जबकि दूसर में साउंड सिस्टम की पूरी व्यवस्था है. नया कार्यालय पूरी तरह साउंड प्रूफ बनाया गया है ताकि बाहर से किसी भी तरह की आवाज का कोई प्रभाव ना पड़े. पूरे हॉल में सेंट्रलाइज एसी लगायी गई है ताकि गर्मी के दिनों में सहूलियत हो सके.

कार्यालय में जल जीवन हरियाली भी
जेडीयू का नया कार्यालय सीएम नीतीश कुमार के सबसे बड़ा महत्वाकांक्षी मिशन जल जीवन हरियाली योजना से प्रेरित दिखाई पड़ता है. कार्यालय के बाहर दो वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम का  निर्माण किया गया है. बरसात के दिनों में होने वाली बारिश का पानी जमाकर उसका फिर से सदुपयोग किया जा सकेगा. कार्यालय के चारों तरफ बड़े संख्या में पेड़ पौधे लगाए जा रहे हैं ताकि हरियाली बनी रहे. कार्यालय के पीछे बने शौचालय पूरी तरह से इकोफ्रेंडली बनाया गया है.
पुराना कार्यालय भी करता रहेगा काम


ऐसा नहीं है कि नए कार्यालय के निर्माण के बाद जेडीयू का पुराना कार्यालय खत्म हो जाएगा. पुराना कार्यलय भी साथ-साथ वैसे ही चलता रहेगा. पुराने कार्यालय में कई कमरे हैं जहां प्रवक्ता, कार्यलय पदाधिकारी और कर्मचारी रहते हैं. जेडीयू के नया कार्यालय के निर्माण इस तरह किया जा रहा है कि अगर भविष्य में इसे हटाकर कहीं और ले जाने की जरूरत पड़े तो हटाया जा सकता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज