Bihar Corona Update: कोरोना गाइडलाइंस के साथ नए सेशन की शुरुआत, स्कूल पहुंचे महज 25 फीसदी बच्चे

पटना के एक स्कूल में पढ़ते बच्चे (File Photo)

पटना के एक स्कूल में पढ़ते बच्चे (File Photo)

Bihar Schools Reopen: बिहार में कोरोना के मरीजों की संख्या में एक बार फिर से इजाफा हो रहा है. रोजाना कोरोना के मरीजों की बढ़ती संख्या के बीच सरकार की तरफ से कई तरह के प्रबंध किए जा रहे हैं.

  • Share this:
पटना. कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन के बीच गुरुवार से सभी स्कूलों में नए सेशन (Schools Academic Session) की पढ़ाई शुरू हो गई. पटना के स्कूलों में पहले दिन केवल 25 फीसदी बच्चे ही क्लास में मौजूद रहे. दरअसल, कोरोना (Corona Cases) संक्रमण के बढ़ते खतरे को देखते हुए बच्चों के पैरेंट्स अब भी अपने बच्चों को स्कूल भेजने से डर रहे हैं, इसलिए पहले दिन स्कूलों में बच्चों की संख्या में बहुत कमी देखी गई. बावजूद इसके जो बच्चे स्कूल पहुंचे वो नए सत्र की पढ़ाई को लेकर बेहद उत्साहित दिखे.

आठवीं क्लास के संतोष बताते हैं कि पिछले साल भर से स्कूल में पढ़ाई बिल्कुल भी नहीं हुई है. इसका सीधा असर उनकी पढ़ाई पर पड़ा है. अब जबकि स्कूलों में फिर से पढ़ाई शुरू हो गई है तो उन्हें बहुत अच्छा लगता है. हालांकि, बच्चे ये भी मानते हैं कि कोरोना संक्रमण के मामले फिर से बढ़ने के चलते उनके पैरेंट्स उन्‍हें स्कूल भेजने से डर रहे हैं. बच्चों को पढ़ाने वाले टीचर भी मानते हैं कि पहले दिन के क्लास के चलते और कोरोना के खतरे को लेकर बच्चों की संख्या में बहुत कमी है. उन्‍होंने भरोसा जताया कि अगले कुछ दिनों में बच्चों की संख्या में इजाफा होगा.

Youtube Video


पटना के शेखपुरा स्थित राजकीय मध्यविद्यालय में कोरोना के सारे गाइडलाइंस का बखूबी पालन किया जा रहा है. मसलन जो भी बच्चे स्कूल के अंदर प्रवेश कर रहे हैं, उनके हाथों को पहले सेनेटाइज किया जा रहा है. सेनेटाइजेशन की व्यवस्था स्कूल प्रबंधन ने खुद से की है. सरकार की तरफ से कोई व्यवस्था नहीं की गई है. इसके अलावे क्लास के अंदर सोशल डिस्टेंसिंग का अनुपालन करते हुए बच्चों को बिठाया गया है. स्कूल ने बच्चों को अपनी तरफ से मास्क भी मुहैया करवाया है.
आठवीं क्लास में गणित पढ़ा रहे टीचर और स्कूल के प्रिंसिपल मनोज कुमार बताते हैं कि विपरीत परिस्थितियों के बीच उन्हें बच्चों को पढ़ाना पड़ रहा है. सरकार से कुछ ज्यादा सहयोग नहीं मिल रहा है, लेकिन बच्चों के भविष्य को देखते हुए स्कूल प्रबंधन 2021-22 के नए सेशन का 1 अप्रैल से शुरुआत कर रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज