लाइव टीवी

न बारिश, न धूप अचानक सड़क पर सैकड़ाें लोगों ने क्यों खोल दिए अपने छाते...

RaviS Narayan | News18Hindi
Updated: January 14, 2020, 8:27 PM IST
न बारिश, न धूप अचानक सड़क पर सैकड़ाें लोगों ने क्यों खोल दिए अपने छाते...
पटना में आयोजित सड़क सुरक्षा सप्ताह के चौथे दिन इस अनोखे तरीके के जरिए लोगों को संदेश दिया गया. (प्रतीकात्मक फोटो)

पटना में सड़क सुरक्षा सप्ताह के चौथे दिन लोगों को जागरुक करने का अनोखा तरीका, कम्युनिटी पुलिस और NCC के छात्रों ने छातों पर नियमों की जानकारी लिख निकाली रैली.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 14, 2020, 8:27 PM IST
  • Share this:
पटना. न धूप और न ही बरसात लेकिन मंगलवार को अचानक पटना (Patna) की सड़कों पर सैकड़ाें लोगों को एक साथ छाता खोलते देख लोग चौंक गए. राजधानी के बोरिंग रोड चौराहे से निकले इन लोगों के हाथों में काले रंग का छाता था और उस पर कुछ संदेश लिखा था. चौंकिए मत, दरअसल ये सभी लोग अंब्रेला मार्च का हिस्सा थे जो बिहार आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की तरफ से आयोजित की गई थी. इस मार्च के आयोजन का मुख्य मकसद सड़क सुरक्षा सप्ताह (Road Safety Week) के दौरान लोगों को जागरुक करना था.

शहर भर में दिया संदेश
पटना में आयोजित सड़क सुरक्षा सप्ताह के चौथे दिन इस अनोखे तरीके के जरिए लोगों को संदेश दिया गया. यह मार्च बोरिंग रोड चौराहे से शुरू हुई और इनकम टैक्स गोलंबर होते हुए शहर भर में घूमी. मार्च में मौजूद लोगों के छातों पर सड़क नियमों के संबंध में जानकारी दी गई थी. इस अनोखी मार्च को देखने के लिए लोगों की भी काफी भीड़ लग गई.

पटना में निकाली गई रैली के दौरान छातों पर लिखे संदेश से जागरुकता जगाते छात्र.


लोगों को दिलवाई शपथ
आपदा प्राधिकरण की ओर से निकाले गए इस अंब्रेला मार्च में बड़ी संख्या में कम्युनिटी पुलिस के साथ ही एनसीसी के छात्र भी शामिल थे. इस दौरान प्राधिकरण के अधिकारियों ने लोगों को ट्रैफिक नियमों का पालन करने के लिए शपथ भी दिलवाई. साथ ही लोगों को नियमों के संबंध में पर्चे भी बांटे गए.

हर साल होती है 7 हजार लोगों की मौत आपदा प्राधिकरण से मिली जानकारी के अनुसार राज्य में हर साल सड़क दुर्घटना में 7 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो जाती है. यह आंकड़ा बीमारी से मरने वाले लोगों की संख्या से कहीं ज्यादा है. सड़क हादसों में हुई मौत की घटनाओं में ज्यादातर लापरवाही या फिर नियमों के उल्लंघन के चलते होती हैं. ऐसे में नियमों का पालन कर इस संख्या को कम किया जा सकता है.

ये भी पढ़ें-

बिहार: 22 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से बह रही सर्द हवा, 1 सप्ताह और पड़ेगी ठंड

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 14, 2020, 6:18 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर