News 18 E एजेंडा बिहार: लालू की लोकप्रियता से डरते हैं विरोधी, जबरन कर रखा है जेल में बंद- तेजस्वी यादव

न्यूज 18 के ई एजेंडा बिहार में शिरकत करते हुए तेजस्वी यादव.
न्यूज 18 के ई एजेंडा बिहार में शिरकत करते हुए तेजस्वी यादव.

तेजस्वी यादव ने कहा कि लालू यादव जी (Lalu Yadav) को इसलिए जबरन बंद कर रखा गया है क्योंकि सबको पता है कि अगर वे बाहर आ गए तो उनकी लोकप्रियता के आगे कोई नहीं टिकेगा.

  • Share this:
पटना. बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Elections) में अब कुछ ही महीने बचे हुए हैं. निर्वाचन आयोग के साथ ही सभी राजनीतिक दलों ने इसकी तैयारी को लेकर दिन रात एक कर दिया है. इसी कड़ी में देश के सबसे बड़े न्यूज़ नेटवर्क न्यूज़ 18 की ओर से भी चुनावी चर्चा के तहत एजेंडा बिहार कार्यक्रम का आयोजन किया. पहली बार डिजिटल प्लेटफॉर्म पर हुए इस कार्यक्रम में बिहार के सत्ता और विपक्ष के नेता अपनी राय रखी.  न्यूज 18 से बात करते राजद नेता व विधानसभा में लीडर ऑफ अपोजिशन तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) ने भी अपनी बात रखी और कहा कि लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) की लोकप्रियता से आज भी बिहार के दूसरे नेताओं को डर लगता है.

तेजस्वी ने बिहार के डिप्टी सीएम व भाजपा नेता सुशील मोदी की उस बात का जवाब दिया जिसमें उन्होंने कहा था कि लालू यादव अगर बाहर रहते तो एनडीए की जीत आसान होती क्योंकि लोग उनसे खौफ खाते हैं. तेजस्वी ने इस बात पर सीएम नीतीश कुमार और बीजेपी नेताओं को निशाने पर लेते हुए कहा कि पिछले पंद्रह वर्षों में 55 घोटाले हो गए, लेकिन सब बात करते हैं चारा घोटाला की.

उन्होंने कहा कि लालू यादव जी को इसलिए जबरन बंद कर रखा गया है क्योंकि सबको पता है कि अगर वे बाहर आ गए तो उनकी लोकप्रियता के आगे कोई टिक ही नहीं पाएगा. तेजस्वी ने कहा कि आज भी बिहार के लोगों के मन में लालू जी हैं. तेजस्वी यादव ने जीतन राम मांझी की उस बात पर कोई जवाब नहीं दिया जिसमें उन्होंने कहा था कि आज की तारीख में लालू यादव उनके लिए मजबूरी हैं.




नेता प्रतिपक्ष में कहा कि चुनाव सिर पर है ऐसे में बिहार के लोगों को ही लालू यादव की कमी सबसे ज्यादा खल रही है. बिहार के लोगों की यह मांग है कि लालू जी बाहर आएं. वे कहते हैं कि लालू जी होते तो शायद जो बिहार में जो गरीबों,  मजदूरों, बेरोजगारों पर जो अत्याचार हो रहा है, वह नहीं होता. तेजस्वी ने कहा कि महंगाई चरम सीमा पर है. बेरोजगारी दर राष्ट्रीय औसत 23 से दोगुना बिहार में 46 प्रतिशत का है. बिहार बेरोजगारी का केंद्र बना हुआ है.

तेजस्वी ने लॉ एंड ऑर्डर की स्थिति पर बात करते हुए कुछ आंकड़े भी रखे और ये बताने की कोशिश की कि नीतीश राज में कानून व्यवस्था और बिगड़ी है. उन्होंने गया के क्वारंटाइन सेंटर में महिला से यौन उत्पीड़न के आरोपों को भी उठाया और कहा कि कानून व्यवस्था का आलम बहुत बुरा है. तेजस्वी ने कहा कि अगर उनकी सरकार बनती है तो सामाजिक न्याय के साथ आर्थिक न्याय भी होगा.

उन्होंने कहा कि उनकी सरकार बनी तो सबसे पहले बेरोजगारी दूर करने पर फोकस करेगी और पलायन को रोकेगी. शिक्षा और स्वास्थ्य व्यवस्था को बेहतर करने के साथ ही लॉ एंड ऑर्डर दुरुस्त किया जाएगा. उन्होंन कहा कि सब हो सकता है बस पॉलिटिकल विल की आवश्यकता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज