Home /News /bihar /

बिहार मदरसा बोर्ड के अध्यक्ष के तब्लीगी मरकज में शामिल होने की खबर सोशल मीडिया में वायरल, सैंपल लेने पहुंची टीम

बिहार मदरसा बोर्ड के अध्यक्ष के तब्लीगी मरकज में शामिल होने की खबर सोशल मीडिया में वायरल, सैंपल लेने पहुंची टीम

बिहार मदरसा बोर्ड के चेयरमैन की फोटो

बिहार मदरसा बोर्ड के चेयरमैन की फोटो

कोरोना वायरस (Coronavirus) का जांच सैंपल देने के बाद बिहार मदरसा बोर्ड (Bihar Madrsa Board) के चेयरमैन अब्दुल कय्यूम अंसारी ने एक न्यूज पोर्टल के खिलाफ एक करोड़ की मानहानि का मुकदमा ठोका है.

    संजय कुमार

    पटना. सोशल मीडिया में बिहार मदरसा बोर्ड (Bihar Madarsa Board) के चेयरमैन अब्दुल कय्यूम अंसारी के दिल्ली स्थित तब्लीगी जमात के मरकज (Tabligi jamat) में शामिल होने की खबर वायरल है. उन्होंने अभी तक कोरोना वायरस (Coronavirus) की जांच नहीं कराई है. सूचना के वायरल होने के बाद सरकार से लेकर आला अफसरों तक के बीच हड़कम्प मच गया. आनन-फानन में पीएमसीएच से एक टीम उनके फुलवारीशरीफ स्थित आवास पर गयी और उनका सैंपल लिया. सैंपल देने के बाद चेयरमैन ने इस पोर्टल के खिलाफ एक करोड़ की मानहानि का केस फुलवारीशरीफ थाने में दर्ज करा दिया है.

    दर्ज एफआईआर में बोर्ड के चेयरमैन ने कहा है कि उन्हें साजिश के तहत विरोधियों ने बदनाम करने की कोशिश की है. थानेदार रफीकुर रहमान ने बताया कि केस दर्ज कर लिया गया है. जिस पोर्टल ने न्यूज चलाई है, उसकी खोजबीन की जा रही है. साथ ही साइबर सेल की मदद भी ली गई है. इधर, स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव संजय कुमार ने कहा कि चेयरमैन की रिपोर्ट निगेटिव आई है. चेयरमैन ने दावा किया कि वह दिल्ली जरूरी काम से गए थे. उन्‍होंने मरकज जाने से इंकार करते हुए कहा कि इस दौरान वह बिहार भवन में ठहरे थे. चेयरमैन ने यह भी कहा कि वह तब्लीगी जमात से नहीं जुड़े हैं.

    'किताब खरीदने गया था दिल्ली'
    अब्दुल कय्यूम अंसारी ने कहा, 'मैं दिल्ली स्थित मरकज गया ही नहीं. तब्लीगी जमात का कार्यक्रम 13 से 15 मार्च तक था. मैं किताब खरीदने और मदरसा के जरूरी काम से 18 मार्च को दिल्ली गया और बिहार भवन में ठहरा. बिहार भवन के रजिस्टर में मेरा नाम दर्ज है. 20 को दिल्ली से रवाना हुआ और दूसरे दिन पटना आ गया. मेरे आवास पर शुक्रवार की रात पीएमसीएच से टीम सैंपल लेने आई थी. मैंने सैंपल दे दिया. मैं बिल्कुल ठीक हूं.' अंसारी ने आगे कहा कि बिहार के जमात से जुड़े जिन 86 लोगों का नाम सरकार ने जारी किया है, उसमें मेरा नाम नहीं है. मुझे बदनाम करने के लिए यह सब किया गया है. मैंने उस वेब पोर्टल के खिलाफ केस दर्ज करा दिया है और एक करोड़ के मानहानि का केस भी किया है.

    'साजिश के तहत बदनाम करने की कोशिश'
    अब्दुल कयूम अंसारी का दावा है कि उन्हें एक साजिश के बदनाम करने की कोशिश की गई है. उनके खिलाफ गलत तरीके से अफवाह उड़ाई गई है, जबकि कोरोना वायरस का मामला काफी सेंसेटिव है. इसी वजह से पटना के फुलवारीशरीफ थाना में उन्होंने पूरे मामले की पुलिस से शिकायत की है. अफवाह उड़ाने वालों की पहचान कर कानूनी कार्रवाई किए जाने की मांग की है. इस पूरे मामले में पर पटना के एसएसपी उपेंद्र कुमार शर्मा ने स्पष्ट किया कि मदरसा बोर्ड के चेयरमैन ने थाना की टीम से बात की है. मामला बताया है रिटेन में कंप्लेन मिलते ही जांच कर आवश्यक कार्रवाई की जाएगी.

    ये भी पढ़ें- LOCKDOWN: सासाराम में कम्युनिटी किचन दे रहा फ्री फूड सर्विस, ऐसे करें ऑर्डर...

    ये भी पढ़ें- बिहार में कोरोना मरीज की कुल संख्या 32 हुई, मुंगेर में सबसे ज्यादा पॉजिटिव केस

    Tags: Bihar News, Madarasa, PATNA NEWS, Social media, Tablighi Jamaat, Tabligi Jamaat

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर