आरजेडी की घोषणा पत्र में है गरीब सवर्णों को आरक्षण की बात: रघुवंश प्रसाद सिंह
Patna News in Hindi

आर्थिक रूप से कमजोर सामान्य वर्ग के लोगों को नौकरी और शैक्षिणक संस्थानों में 10 फीसदी आरक्षण को लेकर आरजेडी के स्टैंड को सही नहीं मानते हैं.

  • Share this:
प्रभाकर कुमार

पूर्व केंद्रीय मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रघुवंश प्रसाद सिंह ने कहा कि पार्टी की 2014 की घोषणा पत्र में गरीब सवर्णों को आरक्षण देने की बात कही गई है. लालू प्रसाद यादव भी इसको लेकर कई बार बयान दे चुके हैं. न्यूज18 बिहार के संपादक प्रभाकर कुमार के साथ 'खास मुलाकात' में उन्होंने कहा कि जल्दीबाजी में यह बिल लाया गया और गलतफहमी में राज्यसभा में पार्टी ने विरोध में मत डाल दिया, जो कि सही नहीं है.

आर्थिक रूप से कमजोर सामान्य वर्ग के लोगों को नौकरी और शैक्षणिक संस्थानों में 10 फीसदी आरक्षण को लेकर आरजेडी के फायर ब्रांड नेता ने कहा कि यह लॉलीपॉप है. सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद मोदी सरकार के द्वारा एससी-एसटी एक्ट को मूल स्वरूप में बहाल करने की वजह से सवर्ण नाराज थे और उन्हीं को शांत करने के लिए सरकार ने यह कदम उठाया.



अपनी बेबाक बातों के लिए मशहूर रघुवंश प्रसाद सिंह ने कहा कि बाद में पार्टी में सब लोगों से बात हुई. लोगों ने माना कि सवर्ण आरक्षण का विरोध नहीं करना है. 8 लाख वाले मामले पर पेंच है. पार्टी में लोकतंत्र खत्म होने की बात से इनकार करते हुए आरजेडी नेता ने कहा कि अब लोग धीरे-धीरे समझ रहे हैं कि आरजेडी सवर्ण आरक्षण के खिलाफ नहीं है. आरजेडी में रघुवंश प्रसाद सिंह की बात नहीं सुने जाने से उन्होंने इनकार किया.
चुनाव लड़ने के सवाल पर उन्होंने कहा कि यह जनता की इच्छा पर है. वह खुद को राजनीति में बुजुर्ग नहीं मानते हैं. उन्होंने कहा कि लोकसभा और राज्यसभा बुजुर्गों के लिए है. नौजवानों को तो जनता में संघर्ष करना चाहिए.

महागठबंधन में कई पार्टी के आने के सवाल पर आरजेडी नेता ने कहा कि जब देश और लोकतंत्र पर खतरा हो जाए तो सबको एकजुट होना चाहिए. यूपी में सपा-बसपा के गठबंधन को वह महागठबंधन नहीं मानते हैं. अभी भी समय है कि कांग्रेस को उसमें शामिल किया जाए. बिना कांग्रेस के कोई राष्ट्रीय विकल्प कैसे बन सकता है?

आरजेडी नेता ने कहा कि लालू के जेल में रहने से पार्टी को जनता से सहानुभूति मिल रही है लेकिन यह सही है कि बगैर लालू के मैनेजमेंट में दिक्कत हो रही है. उन्होंने कहा कि बिहार में महागठबंधन में समय पर सीटों का बंटवारा हो जाएगा.

रघुवंश सिंह ने कहा कि प्रियंका गांधी के राजनीति में सक्रिय होने से कांग्रेस को ताकत मिलेगी. यह स्वागत योग्य कदम है. यह मांग बहुत लंबे समय से हो रही थी. राहुल गांधी के पीएम उम्मीदवारी पर सीधे-सीधे बोलने से बचते हुए आरजेडी नेता ने कहा कि वोट से सब कुछ होता है.

बिहार के उपमुख्यमंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता सुशील कुमार मोदी के ऑफर पर हंसते हुए कहा कि बीजेपी में डॉ सीपी ठाकुर, लाल कृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी या शत्रुघ्न सिन्हा का क्या हाल है.  आरजेडी में अपने को मार्गदर्शक मानने से इनकार करते उन्होंने कहा कि वह लड़ने वाले आदमी हैं. दरअसल, हाल ही में सुशील कुमार मोदी ने रघुवंश प्रसाद की प्रशंसा करते हुए उन्हें एनडीए में शामिल होने का न्योता दिया था.

उन्होंने कहा कि पप्पू यादव और अनंत सिंह जैसे नेताओं के लिए आरजेडी और महागठबंधन में कोई जगह नहीं होना चाहिए. तेजस्वी यादव के भावी सीएम उम्मीदवार के सवाल पर उन्होंने कहा कि यह पार्टी तय करेगी.

खुद को पार्टी का वफादार सिपाही बताते हुए आरजेडी नेता ने कहा कि ट्विटर युग में भी खुद को पार्टी की जरूरत बताते हैं. उन्होंने कहा कि कई बार लालू यादव के राय से वह अलग राय जाहिर कर चुके हैं. लालू भी हमारी सलाह को मानते हैं.

 

ये भी पढ़ें-

पद्म पुरस्‍कारों की घोषणा: हुकुमदेव नारायण यादव को पद्म भूषण और मनोज वाजपेयी को पद्मश्री

संघवाद-समाजवाद को साथ जीते हैं पद्म भूषण हुकुमदेव नारायण यादव

कौन हैं मिथिला पेंटिंग की शिल्पगुरु पद्म श्री गोदावरी दत्त ? पढ़ें

पद्म श्री पुरस्कार पाने वाले मनोज वाजपेयी कौन हैं? पढ़ें

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी WhatsApp अपडेट्स
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज