प्रशांत किशोर की बढ़ी मुश्किलें, अग्रिम जमानत अर्जी पर अब 12 मार्च को होगी सुनवाई
Patna News in Hindi

प्रशांत किशोर की बढ़ी मुश्किलें, अग्रिम जमानत अर्जी पर अब 12 मार्च को होगी सुनवाई
कोलकाता कार्गो फ्लाइट में जाने को लेकर अब प्रशांत किशोर पर जेडीयू लगातार हमला बोल रही है. (फाइल फोटो)

हाल ही में पीके पर पटना के पाटलिपुत्र थाने में कंटेंट चोरी (Content Theft) और जालसाजी (Forgery) का एक मुकदमा दर्ज किया गया था.

  • Share this:
पटना. जेडीयू (JDU) के पूर्व उपाध्यक्ष और चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर (Prashant Kishor) उर्फ पीके की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं. 'बात बिहार की' (Baat Bihar Ki) कैंपेन के लिए कंटेंट चोरी के आरोपों का सामना कर रहे पीके को अदालत से फिलहाल राहत नहीं मिली. इस मामले की सुनवाई शनिवार को पटना सिविल कोर्ट में हुई. कोर्ट ने सुनवाई के दौरान पुलिस से केस डायरी की मांग की है. इसके साथ ही अग्रिम जमानत की सुनवाई को टाल दिया गया. अब अगली सुनवाई 12 मार्च को होगी.

ये है मामला
दरअसल प्रशांत किशोर ने बिहार के युवाओं को राजनीति से जोड़ने के लिए 'बात बिहार की' नाम से एक कैंपेन की शुरुआत की है, जिस पर कांग्रेस के लिए काम करने वाले शाश्वत गौतम ने डाटा और कंटेंट चोरी करने का आरोप लगाया है और धारा 420 के तहत पटना के पाटलिपुत्र थाने में एफआइआर दर्ज कराई है. जिसके बाद प्रशांत किशोर ने शाश्वत गौतम पर सस्ती लोकप्रियता हासिल करने का आरोप लगाते हुए जांच एजेंसी से मामले की पूरी जांच करने की बात कही है.

शाश्वत के अनुसार 'बिहार की बात' नाम का एक प्रोजेक्ट उन्होंने बनाया था और इसको आने वाले दिनों में बिहार में लॉन्च करने की तैयारी थी. इसी बीच ओसामा नाम के शख्स ने शाश्वत के यहां से इस्तीफा दे दिया और 'बिहार की बात' का सारा कंटेंट उसने प्रशांत किशोर को दे दिया.
अमेरिका में काम कर चुके हैं गौतम


प्रशांत किशोर के खिलाफ मामला दर्ज करवाने वाले वाले शाश्‍वत गौतम कभी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के लिए काम कर चुके हैं, लेकिन महागठबंधन की सरकार गिरने के बाद कांग्रेस में चले गए. शाश्वत अमेरिका में हायर डिग्री लेने के बाद वहीं कई बड़े ओहदे पर रह चुके हैं. पढ़ाई पूरी करने के बाद शाश्‍वत अमेरिका के मेरीलैंड राज्य सरकार में जलापूर्ति व स्वच्‍छता आयोग में अधिकारी बने, लेकिन बाद में वो भारत लौट आए. बिहार के पूर्वी चंपारण के चइता गांव के रहने वाले डॉ. रामजी सिंह के बेटे हैं. उनके दादा गजाधर सिंह स्वतंत्रता सेनानी  थे. शाश्वत के पिता कांग्रेसी थे और उन्होंने 1990 में चुनाव भी लड़ा था. अब शाश्‍वत भी कांग्रेस में हैं. बीते लोकसभा चुनाव के पहले कांग्रेस में उन्‍हें तत्‍कालीन अध्‍यक्ष राहुल गांधी की इमेज बिल्डिंग की महत्‍वपूर्ण जिम्‍मेदारी दी गई थी.

(इनपुट- क्रांति कुमार)

ये भी पढ़ें-  शाश्वत गौतम ने RTI के तहत मांगी PK की डिग्री की जानकारी

Delhi Voilence: शाहरुख के घर मिली पिस्टल तो चर्चा में आ गया बिहार का ये शहर
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज