खुशखबरी! मगही पान किसानों की बदलेगी किस्‍मत, नीतीश सरकार ने उठाया ये बड़ा कदम

मगही पान को जीआई टैग हासिल है.

मगही पान को जीआई टैग हासिल है.

पान किसानों की आमदनी बढ़ाने के लिए नीतीश सरकार (Nitish Government) ने बड़ा कदम उठाया है. सरकार ने नालंदा पान अनुसंधान केंद्र (Nalanda Pan Research Center) में पहली बार पान के पत्तों से तेल निकालने की मशीन लगाई है.

  • Share this:
पटना. पान के पत्तों के किसानों के लिए एक और बड़ी खुशखबरी है. मगही पान (Magahi Paan) के पत्तों को विदेश भेजने के बाद अब बिहार में पहली बार इनसे तेल निकालने की शुरुआत की गई है. पान के पत्तों के किसानों का रोजगार और आमदनी बढ़ाने के लिए नीतीश सरकार (Nitish Government) और पान अनुसंधान केंद्र ने विशेष पहल की है. नालंदा जिले में स्थित पान अनुसंधान केंद्र (Nalanda Pan Research Center) में पहली बार पान के पत्तों से तेल निकालने की मशीन लगाई गई है.

यही नहीं, बिहार के कई जिलों में जल्द ही पान के पत्तों से तेल निकालने वाली मशीन लगाने की सरकार की तैयारी अंतिम चरण में है. साफ है कि बिहार सरकार और पान अनुसंधान अनुसंधान केंद्र की पहल से अब राज्‍य में जल्द ही बड़े पैमाने पर पान के पत्तों से तेल निकालने का काम शुरू होने वाला है. हालांकि अभी नालंदा के पान अनुसंधान केंद्र में तेल निकालने के लिए एक छोटी मशीन लगाई गई है, लेकिन नीतीश सरकार ने पान के पतों के तेल निकालने वाली बड़ी मशीन का भी ऑर्डर दे दिया है, जो कि कुछ दिन में लग जाएगी. वहीं, पान अनुसंधान केंद्र के प्रभारी शिवनाथ दास बताते हैं कि जल्द ही तेल निकालने वाली बड़ी मशीन लग जायेगी जिससे 1 घंटे में 500 लीटर तेल निकाला जा सकेगा.

Youtube Video


पान खेती के लिए मशहूर है बिहार
बिहार में 5 लाख हेक्टेयर में पान की खेती की जाती है. एक हेक्टेयर में 3 लाख पान के पत्ते होते हैं जिनके मात्र एक प्रतिशत पत्ते से ही तेल निकाला जा सकता है जिसके कारण पान के पत्ते का तेल काफी महंगा मिलता है. फिलहाल अभी देश भर में 7 कंपनियां पान के पत्तों के तेल का व्यपार करती हैं. जबकि बिहार में पान किसानों की आमदनी बढ़ाने के प्रयास किए जा रहे हैं.



बिहार में दरभंगा, मधुबनी, समस्तीपुर, मुजफ्फरपुर, भागलपुर, वैशाली, नवादा, नालन्दा, गया, खगड़िया, पूर्वी चंपारण, औरंगाबाद, सारण, सिवान, मुंगेर, बेगूसराय और शेखपूरा में मगही पान की खेती होती है.




बता दें कि बिहार के मगही पान को जीआई टैग (GI Tag) मिलने के बाद विदेशों में भी इसकी मांग तेजी से बढ़ गई. अब ब्रिटेन, अमेरिका सहित फ्रांस जैसे देशों में मगही पान का निर्यात होगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज